• Last Updates : 10:46 PM

लंबे करियर के लिए गुणवत्ता पर ध्यान देना चाहती हूं : श्रिया

मुंबई, 15 दिसम्बर (आईएएनएस)। अभिनेत्री श्रिया पिलगांवकर का कहना है कि वह एक ऐसा करियर नहीं बनाना चाहतीं, जो छोटी अवधि के लिए हो।

सुपरस्टार शाहरुख खान के साथ फैन और पंकज त्रिपाठी व अली फजल के साथ मिर्जापुर में काम कर चुकीं अभिनेत्री ने कहा कि वह एक लंबे करियर के निर्माण के लिए गुणवत्ता पर ध्यान केंद्रित करना चाहती हैं।

श्रिया ने आईएएनएस को बताया, मैं एक ऐसा करियर बनाने की जल्दी में कतई नहीं हूं, जो एक छोटी अवधि के लिए हो। मैं यहां रहना चाहती हूं, ताकि मैं बहाव के साथ आगे बढ़ सकूं और सामग्री पर ध्यान केंद्रित कर सकूं, जिसका मैं चुनाव कर रही हूं।

उन्होंने कहा, पंकजजी को देखिए, वह एक ऐसे अभिनेता हैं, जो बहुत लंबे समय से काम कर रहे हैं और उन्होंने कई कठिनाइयों का सामना किया है। आखिरकार उन्हें वह स्वीकृति मिल रही है, जो आज उनके पास है..उन्होंने अपने शिल्प पर ध्यान लगाया और मुझे लगता है कि यह हमारे जैसे लोगों के लिए बहुत जरूरी है..पर्दे पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय, प्रदर्शन पर ध्यान केंद्रित करना महत्वपूर्ण है।

अभिनेता सचिन और सुप्रिया की बेटी बचपन से ही कला के प्रति रुचि रखती थीं। वह कॉमन पीपल और बॉम्बे डाइंग जैसे नाटकों का हिस्सा भी बन चुकी हैं।

--आईएएनएस

07:45 PM

फिल्म निर्माण का सबसे चुनौतीपूर्ण प्रारूप है शॉर्ट फिल्म : सुशांत सिंह

नई दिल्ली, 15 दिसम्बर (आईएएनएस)। अभिनेता सुशांत सिंह की शॉर्ट फिल्म रॉन्ग मिस्टेक ने 20 लाख ऑनलाइन व्यूज के आंकड़े को पार कर लिया है। सुशांत का कहना है कि फिल्म निर्माण में शॉर्ट फिल्म सबसे चुनौतीपूर्ण प्रारूप है।

सुशांत ने आईएएनएस से कहा, मुझे लगता है कि फिल्म निर्माण में शॉर्ट फिल्म सबसे चुनौतीपूर्ण प्रारूप है। समय से लेकर बजट तक में प्रत्येक स्तर पर दिक्कतें हैं। और उसी में आपको विश्व स्तर की चीज तैयार करनी होती है।

उन्होंने कहा, जहां तक डिजिटल मंच की बात है तो आज यही एक मंच है। संचार का अब कोई भविष्य नहीं रह गया है, यह वर्तमान है।

सुशांत ने बेबी और हेट स्टोरी 2 जैसी बॉलीवुड फिल्मों में भी काम किया है।

लक्ष्मी आर. अय्यर द्वारा निर्देशित और स्ट्रीटमार्ट द्वारा निर्मित रॉन्ग मिस्टेक में सुशांत, अचिंत कौर और अमित बहल भूमिका निभा रहे हैं।

सुशांत ने कहा, धीमे-धीमे हमने 20 लाख के आंकड़े को पार कर लिया। हमारी पूरी टीम बहुत खुश है। रॉन्ग मिस्टेक गलत साबित नहीं हुई।

इस साल की शुरुआत में रिलीज हुई यह शॉर्ट फिल्म एक सच्ची घटना पर आधारित है।

--आईएएनएस

06:27 PM

मुझे कुछ भी बनने को कोई जल्दी नहीं : सान्या मल्होत्रा

नई दिल्ली, 15 दिसम्बर (आईएएनएस)। अभिनेत्री सान्या मल्होत्रा को बॉलीवुड में किसी ऊंचाई पर पहुंचने या कुछ भी बनने की कोई जल्दी नहीं है और उनका कहना है कि वह अच्छे काम के लिए अच्छे लोगों के साथ मिलकर काम करने पर ध्यान केंद्रित कर रही हैं।

सान्या ने दंगल के साथ फिल्मों में अपनी शुरुआत की थी और उसके बाद वह पटाखा और सुपरहिट फिल्म बधाई हो में दिखाई दीं।

सान्या ने आईएएनएस को बताया, मैं वास्तव में अपना सपना जी रही हूं। जब मैं बच्ची थी, तो अक्सर शीशे के सामने ऐसा किया करती थी, और जब मैंने कैमरे के सामने वही किया तो मुझे वास्तव में अविश्वसनीय सा महसूस हुआ। मैं वास्तव में अपना सपना जी रही हूं और मैं बस इसका मजा लेना चाहती हूं।

उन्होंने कहा, मुझे कहीं भी पहुंचने या कुछ भी बनने की जल्दी नहीं है इसलिए मैं केवल अच्छे लोगों के साथ अच्छा काम करना चाहती हूं।

एक के बाद एक सफल फिल्मों में काम करने वाली सान्या अपनी जीत की लय को जारी रखने के लिए दबाव नहीं ले रही हैं। वह अब फोटोग्राफ में दिखाई देंगी।

अभिनेत्री ने कहा, मुझ पर कोई दबाव नहीं है। मुझे बहुत खुशी है कि मैं एक अभिनेत्री हूं और इस तरह की शानदार फिल्मों में मैंने काम किया। मैं ऐसे ही अच्छे लोगों के साथ कर रही हूं। मुझ पर कोई दबाव नहीं है। मुझे सेट पर रहना पसंद है और मुझे एक अभिनेत्री रहना पसंद है।

उन्होंने कहा, मैं हमेशा से यही करना चाहती थी और अगर मैं खुद पर दबाव डालूंगी तो मैं एक अभिनेत्री या अपने सपने को जीने के सफर का मजा नहीं ले पाऊंगी। इसलिए मुझ पर कोई दबाव नहीं है और मुझे वास्तव में खुशी है कि बधाई हो को इतना पसंद किया जा रहा है।

--आईएएनएस

06:26 PM

अच्छे सिनेमा की स्वीकार्यता में भाषा बाधक नहीं : संदीप किशन

मुंबई, 15 दिसम्बर (आईएएनएस)। तेलुगू-तमिल अभिनेता संदीप किशन की हालिया रिलीज नेक्स्ट एंटी उम्मीदों के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर सकी, लेकिन इससे अभिनेता बेफिक्र हैं।

संदीप ने कहा, अगर जरूरत पड़ी, तो मैं दोबारा से फिल्म करूंगा। मैंने कुणाल कोहली के साथ काम करके बहुत कुछ सीखा है। मैं उनके काम को देखकर बड़ा हुआ हूं। वह तेलुगू में उतने दक्ष नहीं हैं, लेकिन वह मेरे और तमन्ना भाटिया द्वारा निभाए गए किरदार की प्रत्येक बारीकी से वाकिफ थे।

आखिर गलती कहा हुई? उन्होंने कहा, मुझे यहां सही या गलत शब्द के बारे में नहीं पता, क्योंकि मुझे लगता है कि फिल्म सही बनी थी। हम फिल्म की मार्केटिंग और उसके प्रचार में कहीं न कहीं चूक गए। नेक्स्ट एंटी तेलुगू दर्शकों के लिए बिल्कुल नई भाषा थी। इसमें मेरा किरदार और तमन्ना लव लाइफ और सेक्स पर बातें करते हैं।

संदीप ने कहा, दर्शकों को फिल्म पसंद आनी चाहिए थी, जो कि नहीं हो पाया। तेलुगू सिनेमा विकास कर रहा है। न केवल बाहुबली, हमारे पास अर्जुन रेड्डी, द गाजी अटैक और गुडाचारी जैसी सफल फिल्में हैं। इसलिए ऐसा नहीं है कि आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में दर्शक बदलाव के लिए तैयार नहीं हैं। हमने उन्हें नई सिनेमाई भाषा की ओर हमारे प्रयास की सराहना का कारण ही नहीं दिया।

संदीप इससे फिलहाल अब आगे बढ़ चुके हैं।

उन्होंने कहा, मैं अब तेलुगू फिल्म नीनू वीडानी नेनु नेने के साथ निर्माता बन गया हूं। मेरी फिल्म में मुख्य भूमिका अन्या सिंह निभा रही हैं, जो कैदी बैंड की एक बहुत ही प्रतिभाशाली लड़की है। यह फिल्म गेम चेंजर साबित होगी। यह आंशिक रूप से एक अलौकिक थ्रिलर है, लेकिन यह कुछ अलग है, जिसे बता पाना मुश्किल है। मैं हंसिका मोटवानी के साथ तेनाली रामकृष्ण बीएबीएल नामक एक कोर्टरूम कॉमेडी की भी शूटिंग कर रहा हूं।

संदीप ने हालांकि तमिल और हिंदी में फिल्में की हैं, लेकिन वह तेलुगू को अपनी जमीन मानते हैं। उन्होंने कहा, मैं आंध्र में जन्मा और वहीं पला-बढ़ा। तेलुगू मेरी मातृ-भाषा है, लेकिन मैं तमिल भी काफी अच्छी बोलता हूं। बतौर अभिनेता मैंने अपने करियर में एक तमिल, एक तेलुगू और एक हिंदी फिल्म की है। मुझे लगता है कि अच्छे सिनेमा की सराहना में भाषा बाधक नहीं है।

--आईएएनएस

06:09 PM

औपचारिक शिक्षा सफलता दिलाने का मानक नहीं : इमरान हाशमी

मुंबई, 15 दिसंबर (आईएएनएस)। आगामी फिल्म चीट इंडिया में मुख्य भूमिका निभा रहे अभिनेता इमरान हाशमी का कहना है कि भारत की औपचारिक शिक्षा प्रणाली छोटे बच्चों को दिमाग के विकास के लिए पर्याप्त रूप से अच्छी नहीं है और उनका मानना है कि इस प्रकार की शिक्षा सफलता का आधार नहीं हो सकती।

औपचारिक शिक्षा की प्रासंगिकता के बारे में पूछे जाने पर इमरान ने यहां आईएएनएस से कहा, मैं कुछ ऐसे बेवकूफ लोगों को जानता हूं, जिनके पास बेहतरीन औपचारिक शिक्षा है। मैं कुछ ऐसे बुद्धिमान व बेहद समझदार लोगों से भी मिला हूं, जिनके पास बेहतरीन औपचारिक शिक्षा या डिग्री नहीं है। औपचारिक शिक्षा जिंदगी में आपको सफलता दिलाने का मानक नहीं है।

उन्होंने कहा कि मौजूदा समय में जो औपचारिक शिक्षा दी जा रही है, यह समय की बर्बादी है। बस सिर्फ इसलिए कि एक बिल्डिंग में कुछ लोगों का एक समूह शिक्षा के एक अलग प्रकार के सोर्स को बढ़ावा दे रहा है, इसका मतलब यह नहीं कि हमारे छात्र बेहतरीन चीजें सीख रहे हैं।

सौमिक सेन निर्देशित चीट इंडिया अगले महीने 25 जनवरी को रिलीज होगी।

--आईएएनएस

05:35 PM

संगीत महासम्मान से नवाजे गए शान, अरिजीत

कोलकाता, 15 दिसंबर (आईएएनएस)। लोकप्रिय गायकों शान और अरिजीत सिंह को पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा गठित संगीत महासम्मान पुरस्कार से शुक्रवार को सम्मानित किया गया।

उन्हें यह पुरस्कार यहां बंगाल संगीत और लोक संस्कृति महोत्सव के उद्घाटन सत्र में दिया गया।

दोनों के अलावा, जाने-माने बंगाली गायकों रूपाकंर बागची, राघव चट्टोपाध्याय, मनोमॉय भट्टाचार्य, सैकत मित्र, प्रतीक चौधरी और संगीत निर्देशक देबोज्योति मिश्रा को भी संगीत महासम्मान पुरस्कार प्रदान किया गया।

दिग्गज गायिका संध्या मुखोपाध्याय ने पुरस्कार प्रदान किए।

शान और अरिजीत की तारीफ करते हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा, हमारे बीच ऐसी हस्तियां हैं, जिन्होंने बंगाल की मिट्टी में जन्म लिया है लेकिन राज्य से बाहर ख्याति अर्जित की है।

ममता ने आठ दिवसीय बांग्ला संगीत मेला और विश्वबांग्ला लोक संस्कृति महोत्सव का उद्घाटन करते हुए कहा, हमें इन पर गर्व है। राज्य के प्रति इनका प्यार इसी से जाहिर हो जाता है कि ये संगीत महोत्सव में शामिल होने के लिए फौरन कोलकाता चले आए।

--आईएएनएस

04:05 PM

द फकीर ऑफ वेनिस जनवरी 2019 में होगी रिलीज

मुंबई, 15 दिसंबर (आईएएनएस)। फरहान अख्तर और अन्नू कपूर अभिनीत द फकीर ऑफ वेनिस की रिलीज की तारीख तय हो गई है। एक दशक पहले बनी यह फिल्म 18 जनवरी 2019 को रिलीज होगी।

रिलीज में देरी के बारे में फिल्म के निर्देशक आनंद सुरापुर ने आईएएनएस को बताया, इसके लिए प्रोडक्शन संबंधित मामले जिम्मेदार है। पिछले दो सालों से हम अंदरूनी मुद्दों को निपटाने पर काम करते रहे हैं और हमारी फिल्म के लिए ए.आर. रहमान सर को अच्छा संगीत तैयार करने दिया।

उन्होंने उम्मीद जताई है कि दर्शक फिल्म और इसके किरदारों से जुड़ाव महसूस करेंगे।

आनंद ने कहा, यह मानवीय व्यवहार पर आधारित एक कहानी है। अतीत, वर्तमान और भविष्य की कहानी है। फिल्म की कहानी हर इंसान के दो चेहरों के इर्द-गिर्द घूमती है, जो मुख्य रूप से परिस्थितियों, जरूरतों, मकसद और इच्छाओं के चलते सामने आते हैं।

उन्होंने कहा कि इसे अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में भी रिलीज करने की योजना है।

--आईएएनएस

03:09 PM

हर्षवर्धन राणे जंगल बुक रोमांच के साथ मनाएंगे जन्मदिन

भोपाल, 15 दिसम्बर (आईएएनएस)। अभिनेता हर्षवर्धन राणे ने रविवार को अपने जन्मदिन के लिए विशेष योजनाएं बनाई हैं। वह मध्य प्रदेश में जंगल सफारी की यात्रा का आनंद लेते हुए अपना जन्मदिन मनाएंगे।

फिल्मकार जे.पी दत्ता की युद्ध पर आधारित फिल्म पल्टन में नजर आए अभिनेता को प्रकति से प्यार है और वह अक्सर अपने दोस्तों के साथ लॉन्ग ड्राइव पर जाते हैं।

हर्षवर्धन ने कहा, मैं 10 वर्ष की उम्र से द जंगल बुक का जबर्दस्त प्रशंसक रहा हूं। इस साल, मुझे मध्यप्रदेश की यात्रा करने और बाघों को उनके प्राकृतिक आवास में देखने का मौका मिला है।

उन्होंने कहा, मैं करीब से और व्यक्तिगत तौर पर शेरा खान (पुस्तक से एक काल्पनिक बाघ) से मिलने का इंतजार नहीं कर सकता हूं।

--आईएएनएस

01:51 PM

शादी की वजह से अपना व्यक्तित्व नहीं बदलेंगे रणवीर सिंह

मुंबई, 15 दिसम्बर (आईएएनएस)। अभिनेता रणवीर सिंह अभिनेत्री दीपिका पादुकोण से शादी के बाद अपने व्यक्तित्व को नहीं बदलेंगे और उनका कहना है कि वह खुद भी नहीं चाहते कि उनकी पत्नी और अभिनेत्री दीपिका भी खुद में कोई बदलाव लाएं।

दीपिका और रणवीर ने पिछले महीने इटली में शादी की थी।

रणवीर ने टाइम्स नेटवर्क के इंडिया इकोनोमिक कॉन्क्लेव 2018 के एक सत्र में कहा, शादी मेरे लिए सबसे अच्छी चीज है। मुझे किसी तरह का जादू महसूस हो रहा है, किसी तरह की शक्ति, ऐसा लगता है कि मैं अजेय हूं।

उनका कहना है कि शादी करके उन्हें जमीन से जुड़ा और सुरक्षित महसूस हो रहा है।

उन्होंने बताया कि शादी के कारण उन्होंने अपने तौर तरीकों और व्यक्तित्व में कोई बदलाव नहीं किया है।

रणवीर ने कहा, मुझे नहीं लगता कि मैं अब शादीशुदा हूं इसलिए मैं अपने पहनावे या तौर तरीकों को बदलूंगा और अगर यह कुदरती तौर पर हुआ तो मैं ऐसा होने दूंगा, उसे रोकूंगा नहीं।

--आईएएनएस

12:47 PM

नोटबुक खूबसूरत और रंगीन प्रेम कहानी है : जहीर इकबाल

मुंबई, 15 दिसम्बर (आईएएनएस)। फिल्म नोटबुक के साथ हिंदी फिल्म उद्योग में कदम रख रहे अभिनेता जहीर इकबाल का कहना है कि कश्मीर की पृष्ठभूमि पर निर्मित यह फिल्म कश्मीर पर बनी अन्य फिल्मों के विपरीत खुशियां बिखेरती है और यह एक खूबसूरत और रंगीन प्रेम कहानी है।

जहीर ने गुरुवार को निकलोडियन किड्स चॉइस अवॉर्डस 2018 में सह-कलाकार प्रनूतन बहल के साथ मीडिया से बातचीत में यह कहा।

उन्होंने कहा, यह एक रोमांटिक प्रेम कहानी है और यह कश्मीर की पृष्ठभूमि पर बनी है। मुझे लगता है कि यह सुखद फिल्म है। इससे पहले, कश्मीर की पृष्ठभूमि और संवेदनशील विषयों पर नकारात्मक फिल्में बनाई गई हैं। लेकिन हमारी फिल्म बिल्कुल इस तरह की नहीं है। यह एक बहुत ही सुंदर, सुखद और रंगीन प्रेम कहानी है।

उनकी सह-कलाकार प्रनूतन बहल दिग्गज अभिनेत्री नूतन और अभिनेता मोहनीश बहल की पोती हैं। वह नोटबुक में जहीर के साथ डेब्यू कर रही हैं।

उन्होंने कहा, मुझे लगता है कि यह एक अनोखी प्रेम कहानी है और मैं दर्शकों के इसे देखने का बेसब्री से इंतजार कर रही हूं। मैं इसके लिए बहुत उत्साहित हूं और इसके टीजर, ट्रेलर, संगीत लॉन्च और फिल्म से जुड़ी हर चीज के लिए उत्साहित हूं।

सलमान खान नोटबुक के निर्माता हैं।

नोटबुक 29 मार्च, 2019 को रिलीज होगी।

--आईएएनएस

12:19 PM
 स्टरलाइट संयंत्र खोलने के आदेश के खिलाफ अपील करेगी तमिलनाडु सरकार

स्टरलाइट संयंत्र खोलने के आदेश के खिलाफ अपील करेगी तमिलनाडु सरकार

चेन्नई, 15 दिसम्बर (आईएएनएस)। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के. पलनीस्वामी ने शनिवार को कहा कि राज्य सरकार, राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण (एनजीटी) के तूतीकोरिन स्थित वेदांता समूह के स्टरलाइट कॉपर प्लांट को फिर से खोलने के आदेश के खिलाफ अपील करेगी।

यहां से 360 किलोमीटर दूर सलेम में संवाददाताओं से बातचीत में पलनीस्वामी ने कहा कि राज्य सरकार ने स्टरलाइट संयंत्र को बंद करने का आदेश दिया था।

पलनीस्वामी ने कहा, राज्य सरकार एनजीटी के आदेश के खिलाफ अपील करेगी।

तमिलनाडु के पर्यावरण एवं प्रदूषण नियंत्रण मंत्री के.सी. करुप्पन्नन ने भी समान विचार व्यक्त किए हैं।

करुप्पन्नन ने संवाददाताओं से कहा कि मुख्यमंत्री के. पलनीस्वामी ढृढ़ता से स्टरलाइट तांबा संयंत्र को बंद करने के पक्ष में हैं। उन्होंने कहा, राज्य सरकार सर्वोच्च न्यायालय में एनजीटी के आदेश को चुनौती देगी।

इसबीच पीएमके के संस्थापक एस. रामदास ने कहा कि एनजीटी का फैसला अपेक्षित है और इसमें कुछ भी चौंकाने वाला नहीं है।

रामदास ने कहा कि तांबा संयंत्र को फिर से खोलने का आदेश दिखाता है कि कॉर्पोरेट प्रभुत्व जीत गया है।

रामदास के मुताबिक, राज्य सरकार की संयंत्र को बंद करने में कोई रुचि नहीं है, बल्कि संयंत्र को बंद करने का आदेश इस साल 22 मई को पुलिस गोलीबारी में 13 लोगों की मौत के बाद हालात को काबू करने के लिए दिया गया था।

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) के तमिलनाडु राज्य सचिव आर. मुथरासन ने कहा कि एनजीटी का आदेश हैरान और निराश कर देने वाला है।

--आईएएनएस

09:08 PM
Stock Exchange
Live Cricket Score

Create Account



Log In Your Account