• Last Updates : 11:11 PM

ट्रेन ने स्कूली वैन को टक्कर मारी, 13 छात्रों की मौत (राउंडअप)

नई दिल्ली/गोरखपुर, 26 अप्रैल (आईएएनएस)। उत्तरप्रदेश के कुशीनगर में एक मानवरहित रेल क्रासिंग के पास पैसेंजर ट्रेन और एक स्कूली वैन के बीच हुई टक्कर में 10 वर्ष से कम उम्र के 13 छात्रों की मौत हो गई।

डॉक्टरों और अधिकारियों ने कहा, वाहन चालक समेत कम से कम चार छात्र घायल हुए हैं, जिनमें से दो की हालत गंभीर बनी हुई है।

उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि वाहन चालक वाहन चलाते वक्त कान में ईयरफोन लगाए हुए था।

यह घटना उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले के मानव रहित दुदही बेहपुरवा रेलवे क्रासिंग पर गुरुवार सुबह 7:10 मिनट पर हुई जब गोरखपुर-सिवान पैसेंजर ट्रेन, स्कूली बच्चों से भरी वैन से टकरा गई। सभी बच्चे डिवाइन पब्लिक स्कूल के छात्र थे।

भारतीय रेल के प्रवक्ता वेद प्रकाश ने आईएएनएस से कहा, घायलों को घटनास्थल से 30 किलोमीटर दूर पंद्रुना अस्पताल ले जाया गया।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बच्चों की मौत पर गहरा दुख जताया है।

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्विनी लोहानी ने हादसे के बाद कहा कि भारतीय रेल मानवरहित स्तर के क्रासिंग को हटाने के लिए प्रतिबद्ध है।

लोहानी ने नई दिल्ली में एक प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए कहा, हम मानवरहित स्तर के क्रासिंग को हटाने की कोशिश कर रहे हैं।

लोहानी ने यात्रियों को मानवरहित क्रासिंग से गुजरते वक्त सावधान रहने की सलाह देते हुए कहा, वस्तुत:, लोगों को रेलवे ट्रेक पार करते वक्त सावधान रहना चाहिए, इसका कोई विकल्प नहीं है। हम ऐसा कोई कदम नहीं उठा सकते, जो फुल-प्रूफ हो।

रेलवे मंत्रालय के अधिकारियों के अनुसार, सिवान से गोरखपुर जा रही ट्रेन रुकने से पहले स्कूल वैन को घसीटते हुए करीब 100 मीटर तक आगे ले गई।

पूर्वोत्तर रेलवे के एक अधिकारी ने कहा कि घटना के वक्त वैन में 25 लोग सवार थे जिसमें अधिकतर 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चे थे।

रेलवे मंत्रालय ने मृतकों के परिजनों के लिए 2 लाख की सहायता राशि, गंभीर रूप से घायलों के लिए 1 लाख और मामूली रूप से घायलों के लिए 50,000 रुपये की घोषणा की है।

रेलमंत्री पीयूष गोयल ने एक बयान में कहा, मैं कुशीनगर के मानवरहित क्रासिंग पर स्कूली बच्चों के मारे जाने की घटना से काफी पीड़ा में हूं। मेरी संवेदना मृतकों के परिजनों के साथ है और मैं घायलों के जल्द से जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं।

गोयल ने कहा कि उन्होंने घटना के संबंध में उच्चस्तरीय जांच के आदेश दिए हैं।

रेल मंत्री ने कहा, हम भविष्य में ऐसे किसी भी संभावित घटना को टालने के हरसंभव प्रयास के लिए प्रतिबद्ध हैं।

सुबह हुए दर्दनाक हादसे पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दुख जताते हुए प्रशासन को राहत व बचाव कार्य में जुटने का निर्देश दिया है।

योगी ने घटनास्थल का दौरा किया और अस्पताल में घायल बच्चों से मुलाकात की। उन्होंने गोरखपुर के विभागीय कमिश्नर को घटना की जांच करने के आदेश दिए।

मुख्यमंत्री ने मृतकों और घायल बच्चों के परिजनों को 2-2 लाख रुपये की आर्थिक मदद देने की घोषणा की है।

उन्होंने अस्पताल में घायलों से मुलाकात करने के बाद कहा, मुझे बताया गया कि वाहन चलाते वक्त चालक ने कान में ईयरफोन लगाया हुआ था। यह पूरी तरह से लापरवाही का मामला है।

उन्होंने कहा, एक जांच के आदेश दिए गए हैं और जांच के आधार पर, दोषियों को सख्त सजा दी जाएगी।

योगी ने यह भी कहा कि उन्होंने घटना के संबंध में तत्काल मामला दर्ज करने के निर्देश दिए हैं।

एक अधिकारी ने कहा कि मुख्यमंत्री ने राज्य के सभी स्कूली वैन की जांच करने के आदेश दिए हैं ताकि यह पता चल सके कि ये वाहन सुरक्षा दिशानिर्देशों का पालन करते हैं या नहीं।

लखनऊ में, आम आदमी पार्टी (आप) ने लोगों की सलामती के लिए पूरे देश के सभी मानवरहित स्तर के क्रासिंग में रेलवे कर्मचारी नियुक्त करने की मांग की है।

--आईएएनएस

09:57 PM

कुशीनगर हादसा : रेलवे ने मानवरहित क्रासिंग हटाने की प्रतिबद्धता जताई (लीड-2)

नई दिल्ली/गोरखपुर, 26 अप्रैल (आईएएनएस)। रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्विनी लोहानी ने उत्तरप्रदेश के कुशीनगर में एक मानव रहित क्रासिंग में दर्दनाक रेलवे हादसे के बाद गुरुवार को कहा कि भारतीय रेल मानवरहित स्तर के क्रासिंग को हटाने के लिए प्रतिबद्ध है। इस हादसे में 13 स्कूली बच्चों की मौत हो गई और छह अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए।

लोहानी ने नई दिल्ली में एक प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए कहा, हम मानवरहित स्तर के क्रासिंग को हटाने की कोशिश कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि नवीनतम जानकारी के अनुसार कुशीनगर में स्कूली वैन व ट्रेन की टक्कर में 13 स्कूली छात्रों की मौत हो गई।

लोहानी ने यह बयान ऐसे समय दिया है जब उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले के मानव रहित दुदही बेहपुरवा रेलवे क्रासिंग पर गुरुवार सुबह गोरखपुर-सिवान पैसेंजर ट्रेन की स्कूली बच्चों से भरी वैन से टक्कर हो गई, जिसमें कम से कम 13 बच्चों की मौत हो गई।

लोहानी ने यात्रियों को मानवरहित क्रासिंग से गुजरते वक्त सावधान रहने की सलाह देते हुए कहा, वस्तुत:, लोगों को रेलवे ट्रेक पार करते वक्त सावधान रहना चाहिए, इसका कोई विकल्प नहीं है। हम ऐसा कोई कदम नहीं उठा सकते, जो फुल-प्रूफ हो।

रेलवे के प्रवक्ता वेदप्रकाश ने आईएएनएस से कहा, गोरखपुर से 100 किलोमीटर दूर क्रासिंग के पास सिवान-गोरखपुर पैसेंजर ट्रेन द्वारा वैन को कुचलने से बच्चों की मौके पर ही मौत हो गई।

रेलवे मंत्रालय के अधिकारियों के अनुसार, सिवान से गोरखपुर जा रही ट्रेन रूकने से पहले स्कूल वैन को घसीटते हुए करीब 100 मीटर तक आगे ले गई।

रेलवे मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि यह मानवरहित क्रासिंग था जहां गेट मित्र की नियुक्ति की गई थी।

पूर्वोत्तर रेलवे के एक अधिकारी ने कहा कि घटना के वक्त वैन में 25 लोग सवार थे जिसमें अधिकतर 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चे थे।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रेल मंत्री पीयुष गोयल ने घटना पर गहरा शोक जताया है। रेलवे मंत्रालय ने मृतकों के परिजनों के लिए 2 लाख की सहायता राशि, गंभीर रूप से घायलों के लिए 1 लाख और मामूली रूप से घायलों के लिए 50,000 रुपये की घोषणा की है।

रेलमंत्री पीयूष गोयल ने एक बयान में कहा, मैं कुशीनगर के मानवरहित क्रासिंग पर स्कूली बच्चों के मारे जाने की घटना से काफी पीड़ा में हूं। मेरी संवेदना मृतकों के परिजनों के साथ है और मैं घायलों के जल्द से जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं।

गोयल ने कहा कि उन्होंने घटना के संबंध में उच्चस्तरीय जांच के आदेश दिए हैं।

रेल मंत्री ने कहा, हम भविष्य में ऐसे किसी भी संभावित घटना को टालने के हरसंभव प्रयास के लिए प्रतिबद्ध हैं।

सुबह हुए दर्दनाक हादसे पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दुख जताते हुए प्रशासन को राहत व बचाव कार्य में जुटने का निर्देश दिया है।

योगी ने घटनास्थल का दौरा किया और अस्पताल में घायल बच्चों से मुलाकात की। उन्होंने गोरखपुर के विभागीय कमिश्नर को घटना की जांच करने के आदेश दिए।

मुख्यमंत्री ने मृतकों और घायल बच्चों के परिजनों को 2-2 लाख रुपए की आर्थिक मदद देने की घोषणा की है।

उन्होंने अस्पताल में घायलों से मुलाकात करने के बाद कहा, मुझे बताया गया कि वाहन चलाते वक्त चालक ने कान में ईयरफोन लगाया हुआ था। यह पूरी तरह से लापरवाही का मामला है।

उन्होंने कहा, एक जांच के आदेश दिए गए हैं और जांच के आधार पर, दोषियों को सख्त सजा दी जाएगी।

योगी ने यह भी कहा कि उन्होंने घटना के संबंध में तत्काल मामला दर्ज करने के निर्देश दिए हैं।

उन्होंने कहा, 13 छात्रों की मौत हो गई, जबकि चार छात्र और वाहन चालक गंभीर रूप से घायल है। इनलोगों को गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। घटना के जिम्मेदार लोगों को पकड़ने के लिए एक जांच बिठाई गई है। मैंने इस संबंध में रेल मंत्री से मानवरहित रेलवे क्रासिंग में लोगों की तैनाती को लेकर भी बात की है।

--आईएएनएस

07:26 PM

सर्वोच्च न्यायालय अपने पास मंगाएगा कठुआ मामला

नई दिल्ली, 26 अप्रैल (आईएएनएस)। सर्वोच्च न्यायालय ने गुरुवार को कहा कि वह कठुआ सामूहिक दुष्कर्म और हत्या मामले को जम्मू एवं कश्मीर से अपने पास मंगाएगा, ताकि निष्पक्ष सुनवाई हो सके।

प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए.एम. खानविलकर और न्यायमूर्ति डी.वाई. चंद्रचूड़ की पीठ ने कहा कि उनकी वास्तविक चिंता मामले की निष्पक्ष सुनवाई को लेकर है।

जज लोया मामले में निष्पक्षता दिखा चुकी पीठ ने कहा कि पीड़िता के परिवार और आरोपियों के लिए सुनवाई निष्पक्ष होनी चाहिए।

बार काउंसिल ऑफ इंडिया (बीसीआई) ने शुरू में शीर्ष अदालत के समक्ष एक सीलबंद रिपोर्ट दाखिल की और जम्मू के उच्च न्यायालय बार संघ एवं कठुआ जिला न्यायालय बार संघ से मामले में सीबीआई जांच की मांग का समर्थन किया।

बीसीआई ने यह भी कहा कि बार संघ ने कभी भी अपराध शाखा को मामले में आरोपपत्र दायर करने और न ही पीड़िता परिवार के वकील को प्रतिनिधित्व करने में बाधा पहुंचाई है।

वरिष्ठ वकील पी.वी. दिनेश ने हालांकि बीसीआई पैनल के तर्क पर आपत्ति जताते हुए कहा कि उनका काम केवल इतना था कि वह इस बात का पता लगाए कि स्थानीय वकीलों ने सुनवाई की कार्यवाही में बाधा पहुंचाई है या नहीं, लेकिन इसके बजाय पैनल ने राज्य की अपराध शाखा द्वारा की गई जांच पर ही सवाल उठा दिए। दिनेश ने ही शीर्ष अदालत के समक्ष कथित रूप से वकीलों द्वारा बाधा पहुंचाने की बात उठाई थी।

लेकिन शीर्ष अदालत ने कहा कि इस वक्त उनकी पहली चिंता मामले की निष्पक्ष सुनवाई है और वह नहीं चाहते कि इस पहलू से उनका ध्यान भटके।

पीठ ने कहा, मुख्य मुद्दे से नहीं भटकना चाहिए। निष्पक्ष जांच, निष्पक्ष सुनवाई, उचित कानूनी मार्गदर्शन और पीड़ित परिवार व अरोपियों के प्रतिनिधियों का यहां होना चाहिए।

उन्होंने कहा, हम उसमें नहीं पड़ रहे जो बार काउंसिल ऑफ इंडिया कह रही है..अगर हम ऐसा करते हैं तो पीड़िता हमारे ध्यान से ओझल हो जाएगी। हमें वास्तविक मुद्दे से मत भटकाइए। वास्तविक मुद्दा यह है कि हमें न्याय कैसे मिल सकता है।

पीठ ने कहा, हमारी पहली चिंता और हमारी संवैधानिक चिंता निष्पक्ष सुनवाई और पीड़िता के वकील को सुराक्षा मुहैया कराने की प्रक्रिया को सुनिश्चित करना है, ताकि न्याय में बाधा न हो और अगर जरूरत पड़ती है तो मामले को आखिरकार स्थानांतरित कर दिया जाएगा।

पीड़िता के पिता की ओर से पेश हुई वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह ने अदालत से सुनवाई की निगरानी करने का आग्रह किया। पीठ ने कहा कि वह मामले की त्वरित सुनवाई की आशा करती हैं और सुनवाई की प्रगति पर नजर रखेगी।

जम्मू और कठुआ बार संघ के वकीलों ने 13 अप्रैल को पीड़िता के परिवार के वकील को मामले में पेश होने से रोका था, जिस पर शीर्ष अदालत ने खुद संज्ञान लिया था।

--आईएएनएस

07:20 PM

चेन्नई में गुटका घोटाले की सीबीआई जांच का आदेश

चेन्नई, 26 अप्रैल (आईएएनएस)। मद्रास उच्च न्यायालय ने गुरुवार को करोड़ों रुपये के गुटका घोटाले में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) जांच का आदेश दिया, जिसमें एक मंत्री व शीर्ष राज्य पुलिस अधिकारी सहित कई सरकारी अधिकारी शामिल हैं।

अदालत ने द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (द्रमुक) विधायक जे. अनबझागन द्वारा दायर याचिका पर यह फैसला सुनाया।

यह मामला 2016 में तमिलनाडु में एक गुटका निर्माता के कार्यालयों, निवासों और गोदामों में आयकर विभाग की छापेमारी से संबंधित है।

इस दौरान यहां मिली एक डायरी जब्त कर ली गई, जिसमें विभिन्न अधिकारियों को कथित रिश्वत के भुगतान की जानकारी दी गई थी।

तमिलनाडु सरकार ने तंबाकू युक्त गुटका के उत्पादन और भंडारण पर प्रतिबंध लगा दिया था। लेकिन यह उत्पाद पुलिस अधिकारियों और अन्य लोगों के कथित सहभागिता के साथ बाजार में उपलब्ध था।

कई राजनीतिक दलों ने घोटाले की सीबीआई जांच की मांग की थी, लेकिन ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (एआईएडीएमके) सरकार इस बात से सहमत नहीं थी।

--आईएएनएस

07:00 PM

पाकिस्तानी अदालत ने विदेश मंत्री को अयोग्य ठहराया

इस्लामाबाद, 26 अप्रैल (आईएएनएस)। इस्लामाबाद उच्च न्यायालय ने गुरुवार को संयुक्त अरब अमीरात की कार्य अनुमति (वर्क परमिट) होने की वजह से विदेश मंत्री ख्वाजा आसिफ को संसद सदस्य के रूप में अयोग्य घोषित कर दिया।

पाकिस्तानी मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार, अदालत ने उस याचिका पर अपने फैसले की घोषणा की जिसमें कहा गया है कि आसिफ ने अपने नामांकन पत्र में विदेश में काम करने का जिक्र नहीं किया था।

तीन सदस्यीय विशेष पीठ ने आसिफ को संविधान के तहत ईमानदार और सच्चा नहीं माना। पीठ ने कहा कि वह 2013 में आम चुनाव लड़ने के योग्य भी नहीं थे।

जीओ न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, यह अयोग्यता याचिका पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के नेता उस्मान डार ने दाखिल की थी। इन्होंने एनए-110 संसदीय क्षेत्र से आसिफ के खिलाफ चुनाव लड़ा था।

याचिकाकर्ता के अनुसार, आसिफ और अबु धाबी की एक कंपनी इंटरनेशनल मेकनिकल एंड इलेक्ट्रिक को (इमको) के बीच असीमित अवधि के रोजगार अनुबंध के तहत उनके पास तो नेशनल एसेंबली और न ही संघीय मंत्री बनने की योग्यता है।

याचिका के अनुसार, इमको कंपनी ने 2 जुलाई 2011 को आसिफ को अपना पूर्णकालिक कर्मचारी नियुक्त किया था। वे वहां पर कानूनी सलाहकार और विशेष सलाहकार जैसे महत्वपूर्ण पदों पर रहे हैं।

--आईएएनएस

06:36 PM

भारत बन रहा सामूहिक दुष्कर्मियों की भूमि : मल्लिका

मुंबई, 26 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेत्री मल्लिका सहरावत ने भारत में दुष्कर्म के बढ़ते मामलों पर अपना आक्रोश व्यक्त किया है। उन्होंने कहा है कि भारत महात्मा गांधी की भूमि से सामूहिक दुष्कर्मियों की भूमि बन गया है।

मल्लिका बुधवार को दास देव की विशेष स्क्रीनिंग के मौके पर मीडिया से बात कर रही थीं।

मल्लिका ने कहा, मुझे लगता है कि इस देश में महिलाओं और बच्चों के साथ जो हो रहा है, वह वाकई शर्मनाक है।

उन्होंने कहा, गांधी की भूमि से हम सामूहिक दुष्कर्मियों की भूमि में बदल गए हैं और मुझे लगता है कि वह मीडिया ही है, जिसके पास वास्तविक ताकत है, इसलिए अब सारी उम्मीदें मीडिया पर हैं।

उन्होंने कहा, अगर ये खबरें मीडिया की नजरों में न आतीं तो इन मामलों के बारे में कोई नहीं जान पाता। मुझे लगता है कि मीडिया के दवाब के कारण ही नए कानून लागू किए गए। इसलिए हमें मीडिया का शुक्रगुजार होना चाहिए।

सुधीर मिश्रा निर्देशित दास देव के बारे में मल्लिका ने कहा, मैंने फिल्म का ट्रेलर देखा। मैं सुधीर मिश्रा की फिल्मों की प्रशंसक हूं और मैं उन्हें बतौर निर्देशक प्यार करती हूं।

मर्डर की अभिनेत्री ने अपनी आगामी फिल्मों के बारे में बताया, एक अंतर्राष्ट्रीय धारावाहिक है जिसे भारत में बनाने के लिए मैंने अधिकार खरीद लिए हैं.. जैसे 24 (अमेरिकी) श्रंखला का भारत में निर्माण हुआ था। मैं इसकी घोषणा बहुत जल्द करने वाली हूं। उस शो को एमी पुरस्कार मिला था।

--आईएएनएस

04:34 PM

दिल्ली : सड़क दुर्घटना में छात्रा की मौत

नई दिल्ली, 26 अप्रैल (आईएएनएस)। उत्तरी दिल्ली में गुरुवार को तेज गति से आ रहे एक टैंकर ने एक वैन को टक्कर मार दी जिससे उसमें सवार सात वर्षीय स्कूली बच्ची की मौत हो गई जबकि 16 अन्य घायल हो गए।

पुलिस के अनुसार, गुरुवार सुबह लगभग 6.30 बजे यह घटना कन्हैया नगर मेट्रो स्टेशन के पास की लाल बत्ती पर तब हुई जब बच्चे केशवपुरम स्थित केंद्रीय विद्यालय जा रहे थे।

पुलिस उपायुक्त (उत्तर-पश्चिम) असलम खान ने कहा, वैन में केंद्रीय विद्यालय के 17 बच्चे थे। जब वह कन्हैया नगर मेट्रो स्टेशन के पास चौराहे पर यू टर्न लेने लगी, उसी समय तेज गति से आ रहे एक टैंकर ने उसे टक्कर मार दी।

उन्होंने बताया कि घायलों को नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

उन्होंने कहा कि साक्षी नाम की एक छात्रा की अस्पताल ले जाते समय मौत हो गई जबकि चार अन्य बच्चों की हालत गंभीर बनी हुई है।

घायलों के नाम सुहानी, मोहम्मद अयान, दीपांशी, तरुण, रीतेश, तानिया, टीना, जॉन, विनय, रिशिका, तिशा, वंश, वैष्णवी, दानिश, दानिशा और लवली हैं।

खान ने बताया कि जांच जारी है और पुलिस फरार टैंकर चालक को पकड़ने का प्रयास कर रही है।

--आईएएनएस

02:59 PM

कुशीनगर दुर्घटना : राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री ने बच्चों की मौत पर शोक जताया

नई दिल्ली, 26 अप्रैल (आईएएनएस)। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले में रेलवे क्रॉसिंग पर हुए हादसे में 13 बच्चों की मौत पर शोक जताया है।

इस दुर्घटना में 13 स्कूली छात्रों की मौत हो गई जबकि छह गंभीर रूप से घायल हो गए। यह हादसा सुबह 7.10 बजे उस समय हुआ, जब बच्चे स्कूल बस से जा रहे थे।

राष्ट्रपति ने ट्वीट कर कहा, कुशीनगर में मासूम स्कूली बच्चों को ले जा रही बस की भयावह दुर्घटना के बारे में जानकर दुख हूं। मेरी संवेदनाएं शोकसंतप्त परिवारों व घायलों के प्रति ।

प्रधानमंत्री मोदी ने भी घटना को लेकर दुख जताया और मामले में रेलवे और उत्तर प्रदेश सरकार से उचित कार्रवाई करने को कहा।

--आईएएनएस

02:22 PM

त्राल मुठभेड़ में मारे गए आतंकियों में एक जेईएम का कमांडर था

जम्मू, 26 अप्रैल (आईएएनएस)। जम्मू एवं कश्मीर पुलिस ने गुरुवार को कहा कि मंगलवार को त्राल के वनक्षेत्र में हुई मुठभेड़ में मारे गए चार आतंकवादियों में से एक जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) का कमांडर था।

राज्य के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) एस.पी.वेद ने कहा, त्राल के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में शुरू की गई संयुक्त कार्यवाही में मारे गए आतंकवादियों में जेईएम के ऑपरेशनल कमांडर मुफ्ती यासीर भी थे।

गौरतलब है कि आठ घंटे चली मुठभेड़ में जेईएम के चार आतंकवादी, एक जवान और राज्य पुलिस का एक हवलदार भी मारा गया।

डीजीपी ने मारे गए आतंकवादी की तस्वीर ट्विटर पर अपलोड की, जिसमें वह जेईएम के संस्थापक मसूद अजहर के साथ खड़ा है।

यह तस्वीर मीडिया ने कुछ सालों पहले पाकिस्तान में ली थी।

अजहर को 1999 में जम्मू जिले की कोटबलवाल जेल से रिहा कर अफगानिस्तान के कंधार ले जाया गया था, जहां उसे इंडियन एयरलाइंस की उड़ान संख्या आईसी814 के बंधक बनाए गए 158 यात्रियों के बदले छोड़ दिया गया था।

मुठभेड़ में मारे गए दो अन्य आतंकवादियों में शेख उमर और मुस्ताक अहमद जरगर भी थे, उन्हें भी यात्रियों को बंधक बनाए जाने के बदले छोड़ दिया गया था।

--आईएएनएस

01:05 PM

पाकिस्तान में सड़क दुर्घटनाओं में 20 की मौत

इस्लामाबाद, 26 अप्रैल (आईएएनएस)। पाकिस्तान में अलग-अलग सड़क दुर्घटनाओं में 20 लोगों की मौत हो गई जबकि दर्जनभर घायल हो गए।

एक ताजा घटना में पिंडी भट्टियान में एम2 मोटरवे पर यात्री बस और ट्रेलर की टक्कर में पांच यात्रियों की मौत हो गई जबकि 20 घायल हो गए। मृतकों में दो महिलाएं भी हैं।

मोटरवे पुलिस के मुताबिक, जब यह घटना हुई, यात्री बस लाहौर से मानशेहरा जा रही थी।

इस घटना के बाद बचाव दल और पुलिस मौके पर पहुंची और घायलों एवं मृतकों को अस्पताल पहुंचाया।

अस्पताल सूत्रों के मुताबकि, तीन की हालत गंभीर बनी हुई है।

एक अन्य घटना में तेज रफ्तार बस और ट्रैक्टर ट्रॉली टक्कर में छह की मौत हो गई और कई घायल हो गए।

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, यह घटना पंजाब जिले के शौकताबाद में हुई।

बीती रात हुई एक अन्य सड़क दुर्घटना उस समय हुई, जब एक जीप 3,000 फीट नीचे खाई में जा गिरी। इसमें नौ यात्रियों की मौत हो गई जबकि छह घायल हो घए।

पुलिस सूत्रों का कहना है कि जीप के ब्रेक फेल होने की वजह से यह घटना हुई।

--आईएएनएस

08:31 AM
 इलोन मस्क अब चाहते हैं साइबोर्ग ड्रैगन बनाना

इलोन मस्क अब चाहते हैं साइबोर्ग ड्रैगन बनाना

सैन फ्रांसिस्को, 26 अप्रैल (आईएएनएस)। ऐसा लगता है कि स्पेसएक्स का ड्रैगन कैप्सूल कृत्रिम बुद्धिमत्ता (एआई) से संचालित होगा और न्यूरिलिंक के जरिए यह इंसानी दिमाग इंटरफेस की पेशकश कर सकता है। स्पेसएक्स के मुख्य कार्यकारी अधिकारी इलोन मस्क ने एक ट्वीट में यह सुझाव दिया है।

प्रौद्योगिकी के बादशाह ने बुधवार देर रात एक ट्वीट में कहा, ओह वैसे मैं साइबोर्ग ड्रैगन का निर्माण करने जा रहा हूं।

इनवर्स की रिपोर्ट में कहा गया कि मस्क शायद अंतरिक्ष में इंटरनेट-संचालित सुपर-इंटेलीजेंस के साथ अंतरिक्षयात्रियों को ले जाना चाहते हैं।

मस्क की सभी कंपनियों में ड्रैगन नाम शामिल होता है, जिसमें ड्रैगन स्पेसक्राफ्ट भी है, जो अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (आईएसएस) के आगे-पीछे चक्कर लगाता है।

स्पेसएक्स का वर्तमान में बिग फाल्कन रॉकेट, या बीएफआर बनाने का लक्ष्य है, जिसे मंगल ग्रह पर अन्वेषण के लिए इस्तेमाल किया जाएगा -- इलोन मस्क इस लक्ष्य को 2022 तक प्राप्त करने की उम्मीद करते हैं।

बीएफआर इतना विशाल होगा कि इसे एक विशाल समुद्री मालवाहक जहाज से पानामा नहर होते हुए फ्लोरिडा के केप केनावेरल पहुंचाया जाएगा।

मस्क के मुताबिक, स्पेसएक्स का विशाल नया रॉकेट करीब 350 फीट लंबा होगा तथा इसका व्यास 30 फीट तक फैला होगा।

--आईएएनएस

11:11 PM
Stock Exchange
Live Cricket Score

Create Account



Log In Your Account