• Last Updates : 11:11 PM

संयुक्त राष्ट्र ने सीरिया में भयावह मानवीय हालत की रिपोर्ट दी

संयुक्त राष्ट्र, 26 अप्रैल (आईएएनएस)। संयुक्त राष्ट्र के एक अधिकारी ने सीरिया में मानवीय हालात को भयावह बताते हुए जरूरतमंद लोगों तक पूरी व निर्बाध पहुंच बनाने की मांग की है।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के मुताबिक, मानवीय मामलों के सहायक महासचिव उर्सुला मूलर ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद से बुधवार को कहा, सात सालों के बाद भी संघर्ष लगातार जारी है और इसे देखते हुए सीरियाई लोगों की जरूरतें सर्वोच्च स्तर पर पहुंची हुईं हैं।

उन्होंने कहा, जरूरतमंद लोगों की संख्या 1.31 करोड़ है और इनमें 56 लाख लोगों का हाल बेहद बुरा है और इन्हें तुंरत मदद की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि फरवरी में सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव 2401 को अपनाने के बावजूद संघर्ष की शुरुआत के बाद से नागरिकों व नागरिक बुनियादी ढांचों पर हमले अपने उच्चतम स्तर पर पहुंच गए हैं। सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव 2401 में सीरिया में संघर्ष विराम की मांग की गई है।

मूलर ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र ने 2017 में हुए कुल 112 हमलों की तुलना में 2018 के पहले तीन महीनों में स्वास्थ्य सुविधाओं पर 72 हमलों की पुष्टि की है।

--आईएएनएस

10:00 PM

भारत और चीन वुहान में संबंध बेहतर बनाने को तैयार

वुहान (चीन), 26 अप्रैल (आईएएनएस)। भारत और चीन शुक्रवार को मध्य चीनी शहर वुहान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच होने वाली दो दिवसीय अनौपचारिक बैठक के बाद अपने तनावपूर्ण संबंध को फिर से व्यस्थित करने के लिए तैयार हैं।

एशियाई के दोनों बड़े देश 1962 में युद्ध के मैदान में एक-दूसरे से टकरा चुके हैं और दोनों देशों के बीच आपसी असहमति का रिश्ता रहा है। वर्ष 2017 में डोकलाम विवाद ने दोनों देशों के संबंधों को फिर से निचले स्तर पर पहुंचा दिया था।

हालांकि इस बार मोदी और शी के बीच चीन के हृदय (वुहान) में अपने तरह की एक अलग बैठक यह बताने के लिए काफी है कि दोनों देश अपने तनावपूर्ण संबंधों में नयापन लाने के इच्छुक हैं।

शी-मोदी की बैठक पहले की तुलना में अलग होगी, क्योंकि इस बार बातचीत की कोरियोग्राफी नहीं की जाएगी और वहां केवल मंडारिन बोलने वाला एक भारतीय दुभाषिया मौजूद रहेगा।

एक अधिकारी ने कहा, यह विचार शियामेन सम्मेलन के दौरान उत्पन्न हुआ था।

चीनी और भारतीय अधिकारियों ने कहा, इन दो दिनों के दौरान दोनों नेता एक या दो बार नहीं, बल्कि कई बार मुलाकात करेंगे और दिल-से-दिल की बात करेंगे।

पुष्ट सूत्रों के मुताबिक, मोदी और शी वुहान में माओत्से तुंग के ऐतिहासिक विला के नजदीक इस्ट लेक के पास समय गुजार सकते हैं या नौका विहार कर सकते हैं।

बैठक के लिए हालांकि कोई औपचारिक एजेंडा नहीं है और दोनों नेता बातचीत के दौरान विवादस्पद मुद्दों जैसे सीमा विवाद संबंधी संयुक्त बयान भी जारी नहीं करेंगे।

चीनी सरकार के एक-एक अधिकारी ने आईएएनएस से कहा, आप इससे अंदाजा लगा सकते हैं कि शी भारत को किस तरह का महत्व दे रहे हैं, यह पहली बार है कि वह किसी विदेशी नेता के साथ इस तरह की बैठक कर रहे हैं। वे लोग सभी लंबित मुद्दों पर बातचीत करेंगे।

--आईएएनएस

09:56 PM

जापान ने किम को परोसे जाने वाले व्यंजन पर जताई आपत्ति

टोक्यो, 26 अप्रैल (आईएएनएस)। जापान ने दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन और उत्तर कोरिया के किम जोंग-उन के बीच शुक्रवार को ऐतिहासिक सम्मेलन में परोसे जाने वाले मिष्ठान्न को लेकर औपचारिक रूप से आपत्ति जताई है।

अमेरिकी समाचार मीडिया सीएनएन की गुरुवार की रिपोर्ट के मुताबिक, टोक्यो ने मैंगो मूज को लेकर आपत्ति जताई है क्योंकि इस व्यंजन को कोरियाई प्रायद्वीप के मानचित्र पर दर्शाया गया है मगर इस पर जापान अपना दावा ठोकता है।

जापान के विदेशमंत्री ने बुधवार को कहा कि एशिया और ओशिनिया मामले के ब्यूरो के महानिदेशक केंजी कनसुगी ने दक्षिण कोरिया के दूतावास को बताया कि ताकाशिमा या दोक्दो द्वीप को शामिल करना अत्यंत खेदजनक और अस्वीकार्य है।

जापान ने कहा कि दक्षिण कोरिया अवैध रूप से प्रायद्वीप के पूरब में स्थित चट्टानी द्वीपों पर कब्जा कर रहा है। यह ऐसा मसला है जिसके कारण दोनों देशों के बीच संबंधों में लंबे समय से खटास रहा है।

--आईएएनएस

09:48 PM

मोदी चीन के लिए रवाना

नई दिल्ली, 26 अप्रैल (आईएएनएस)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को चीन के वुहान के लिए रवाना हो गए, जहां वह चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ अनौपचारिक बैठक में हिस्सा लेंगे।

प्रधानमंत्री ने दौरे के संबंध में ट्वीट किया और कहा, मैं रणनीतिक और दीर्घकालिक परिप्रेक्ष्य में चीन-भारत संबंधों की समीक्षा करूंगा।

उन्होंने कहा, राष्ट्रपति शी और मैं, द्विपक्षीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्व के वृहद मुद्दे पर अपने विचारों का आदान-प्रदान करेंगे।

मोदी ने कहा, हमलोग मौजूदा और भविष्य के अंतर्राष्ट्रीय स्थिति के परिप्रेक्ष्य में राष्ट्रीय विकास के हमारे संबंधित दृष्टिकोण और प्राथमिकताओं पर चर्चा करेंगे।

इससे पहले विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने शंघाई सहयोग संगठन के मंत्री स्तरीय बैठक में हिस्सा लेने के लिए इस हफ्ते बीजिंग का दौरा किया था।

--आईएएनएस

07:44 PM

भारत-चीन संबंधों की रणनीतिक दृष्टिकोण से समीक्षा करेंगे : मोदी

नई दिल्ली, 26 अप्रैल (आईएएनएस)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कहा कि 27 और 28 अप्रैल को वुहान में होने वाली बैठक के दौरान वह चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ मिलकर रणनीतिक और दीर्घकालिक परिप्रेक्ष्य में भारत-चीन संबंधों की समीक्षा करेंगे।

मोदी ने जारी बयान में कहा, मैं राष्ट्रपति शी जिनपिंग और द्विपक्षीय और वैश्विक महत्व के मुद्दों की समीक्षा करेंगे।

उन्होंने कहा, हम राष्ट्रीय विकास विशेष रूप से मौजूदा और भावी अंतर्राष्ट्रीय स्थिति को लेकर अपनी प्राथमिकताओं पर चर्चा करेंगे।

मोदी ने कहा, हम रणनीतिक और दीर्घकालिक परिप्रेक्ष्य में भारत-चीन संबंधों के घटनाक्रमों की भी समीक्षा करेंगे।

दोनों देशों के नेताओं की यह बैठक भारत और चीन के बीच संबंधों के जीवंत होने का संकेत है, जो पिछले साल डोकलाम विवाद को लेकर बुरे दौरे से गुजरी।

मोदी के इस दौरे की 1998 के तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी के दौरे से तुलना की जा रही है, जिन्होंने उस समय चीन के नेता डेंग शियाओपिंग से मुलाकात की थी और 1962 के युद्ध के बाद से दोनों देशों के बीच आए रिश्तों की तल्खी को दूर करने की कोशिश की थी।

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) मंत्रिस्तरीय बैठकों में शिरकत करने के लिए इस सप्ताह बीजिंग का दौरा किया था।

दोनों देशों के बीच सीमा मुद्दों के अलावा कई ज्वलंत मुद्दे हैं।

--आईएएनएस

04:44 PM

चीन-भारत व्यापार में 15 फीसदी की वृद्धि

बीजिंग, 26 अप्रैल (आईएएनएस)। भारत के साथ चीन के व्यापार में पहली तिमाही में मजबूत वृद्धि दर्ज की गई है और द्विपक्षीय व्यापार 22.1 अरब डॉलर तक पहुंच गया है, जोकि साल-दर-साल आधार पर 15.4 फीसदी की वृद्धि दर है। आधिकारिक आंकड़ों से गुरुवार को यह जानकारी मिली।

वाणिज्य मंत्रालय के प्रवक्ता गाओ फेंग के मुताबिक, पिछले साल की तुलना में द्विपक्षीय व्यापार 84.4 अरब डॉलर के रिकॉर्ड उच्चतम स्तर पर पहुंच गया, जो पिछले साल की तुलना में उच्च गति से बढ़ रहा है।

गावो ने कहा, दो बड़े विकासशील देशों और प्रमुख उभरती अर्थव्यवस्थाओं के रूप में चीन और भारत दोनों के पास घरेलू बाजार है।

उन्होंने कहा, दोनों देशों की अर्थव्यवस्थाएं एक दूसरे के लिए अत्यधिक पूरक है, जो सहयोग की व्यापक क्षमता पैदा करते हैं।

उन्होंने आगे कहा, साल 2017 के अंत तक, भारत में चीनी निवेश बढ़कर 8 अरब डॉलर से अधिक हो जाएगा, क्योंकि चीनी कंपनियों के बीच अवसंरचना भागीदारी के लिए भारत एक महत्वपूर्ण बाजार और प्रमुख निवेश गंतव्य बन गया है।

--आईएएनएस

04:40 PM

किम जोंग पैदल ही सीमा पार कर अंतर कोरियाई सम्मेलन में शिरकत करेंगे (लीड-1)

सियोल, 26 अप्रैल (आईएएनएस)। उत्तर कोरिया के सर्वोच्च नेता किम जोंग उन शुक्रवार को ऐतिहासिक अंतर कोरियाई सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए पैदल ही सीमा पार करेंगे।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति कार्यालय ब्लू हाउस के हवाले से बताया कि किम जोंग उन दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति से दोनों कोरियाई देशों को विभाजित करने वाली सैन्य सीमांकन रेखा (एमडीएल) पर शुक्रवार सुबह 9.30 बजे मुलाकात करेंगे।

किम जोंग दोनों कोरियाई देशों को विभाजित करने वाले सीमावर्ती पनमुंजोम गांव के बीच मौजूद ब्लू पवैलियन्स के बीच से एक तंग गलियारे से होते हुए एमडीएल को पार करेंगे।

इसके बाद दोनों नेताओं को सम्मेलन स्थल पीस हाउस की ओर जाते समय ऑनर गार्ड दिए जाएंगे।

समाचार एजेंसी एफे के मुताबिक, किम जोंग उन 1950-53 के कोरियाई युद्ध की समाप्ति के बाद से दक्षिण कोरिया की धरती पर कदम रखने वाले पहले उत्तर कोरियाई शासक होंगे।

सियोल सरकार का कहना है कि स्वागत समारोह और औपचारिक वार्ता के बाद सम्मेलन का पहला दौर सुबह 10.30 बजे शुरू होगा।

उत्तर कोरिया की ओर से नौ सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल में देश के ऑनरेरी अध्यक्ष किम योंग नैम, विदेश मंत्री री योंग हो और किम की बहन किम यो जोंग भी हैं। किम यो जोंग उत्तर कोरिया की वर्कर्स पार्टी के प्रोपेगैंडा एंड एजिटेशन डिपार्टमेंट की निदेशक हैं।

किम यो जोंग ने दक्षिण कोरिया में शीतकालीन ओलम्पिक खेलों के दौरान सियोल का ऐतिहासिक दौरा भी किया था।

सम्मेलन के सुबह के सत्र के बाद दोनों पक्ष एक सांकेतिक समारोह में साथ मिलकर पौधारोपण करने से पहले अलग-अलग दोपहर का भोजन करेंगे।

इसके बाद दोनों नेताओं के बीच संक्षिप्त और अनौपचारिक वार्ता भी होगी।

सियोल के एक प्रवक्ता के मुताबिक, इस बैठक के अंत में मून और किम जोंग उन एक समझौते पर हस्ताक्षर करेंगे और एक ऐलान करेंगे।

मून के कार्यालय द्वारा उपलब्ध कराई गई जानकारी के मुताबिक, शाम 6.30 बजे एक भोज का आयोजन किया जाएगा, जिसमें किम जोंग उन की पत्नी री सोल जू के भी हिस्सा लेने की उम्मीद है। इसके बाद विदाई समारोह के साथ सम्मेलन खत्म होगा।

--आईएएनएस

11:00 AM

मून सैन्य सीमांकन रेखा पर किम जोंग का स्वागत करेंगे

सियोल, 26 अप्रैल (आईएएनएस)। दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे इन दोनों कोरियाई देशों को विभाजित करने वाली सैन्य सीमांकन रेखा (एमडीएल) पर उत्तर कोरिया के सर्वोच्च नेता किम जोंग उन से मुलाकात करेंगे।

दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति कार्यालय के चीफ ऑफ स्टाफ जोंग सियोक ने मीडिया को बताया कि दोनों नेताओं की यह ऐतिहासिक मुलाकात सीमावर्ती गांव पानमुनजोम के भीतर एमडीएल पर शुक्रवार को सुबह 9.30 बजे होगी।

जोंग सियोक ही मून और किम जोंग की बैठक के लिए दक्षिण कोरिया की तैयारियों का नेतृत्व कर रहे हैं।

किम जोंग दोनों कोरियाई देशों के बीच के ब्लू पवैलियन्स के बीच से एक तंग गलियारे से होते हुए एमडीएल को पार करेंगे।

ब्लू पवैलियन्स का इस्तेमाल न्यूट्रल नेशन्स सुपरवाइजरी कमिशन के बैठक कक्ष के रूप में किया जाता है।

--आईएएनएस

10:24 AM

उत्तर कोरिया सही दिशा में आगे बढ़ रहा : व्हाइट हाउस

वाशिंगटन, 26 अप्रैल (आईएएनएस)। व्हाइट हाउस की प्रवक्ता सारा सैंडर्स ने बुधवार को कहा कि उत्तर कोरिया कोरियाई प्रायद्वीप को परमाणु निरस्त्रीकरणके मुद्दे पर सही दिशा में आगे बढ़ रहा है।

इससे पहले मंगलवार को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि उत्तर कोरिया के सर्वोच्च नेता किम जोंग उन बहुत खुले ख्यालातों के हैं और उन्हें उम्मीद है कि अमेरिका सम्मानीय तरीके से ही उत्तर कोरिया से निपटेगा।

सैंडर्स ने संवाददाता सम्मेलन के दौरान कहा कि उत्तर कोरिया कोरियाई प्रायद्वीप के परमाणु निरस्त्रीकरण का इच्छुक है।

उन्होंने कहा, वे सही दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।

सैंडर्स ने कहा कि ट्रंप उनके (किम जोंग) के साथ बैठना और इस मुद्दे पर विचार-विमर्श करना चाहते हैं।

गौरतलब है कि दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे इन शुक्रवार को किम जोंग उन से मुलाकात करेंगे।

ट्रंप का कहना है कि किम जोंग के साथ उनकी बैठक मई या जून की शुरुआत में होगी।

--आईएएनएस

08:36 AM

अमेरिका-उत्तर कोरिया शिखर बैठक से पूर्व मून-ट्रंप मुलाकात संभव

सियोल, 25 अप्रैल (आईएएनएस)। मई में उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग-उन से मुलाकात से पहले दक्षिण कोरिया और अमेरिका के राष्ट्रपतियों मून जे-इन और डोनाल्ड ट्रंप के बीच मुलाकात हो सकती है।

दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति कार्यालय की ओर से यह जानकारी बुधवार को दी गई।

दक्षिण कोरिया के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार चुंग युई-योंग और उनके अमेरिकी समकक्ष जॉन बोल्टन के बीच मंगलवार को वाशिंगटन में मुलाकात हुई और सहमति बनी कि मून और ट्रंप को मई में प्रस्तावित सियोल-प्योंगयांग शिखर बैठक के बाद अपने विचार साझा करने चाहिए।

राष्ट्रपति के प्रवक्ता यून योंग-चान ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, वे इस बात पर सहमत हुए कि राष्ट्रपति मून और राष्ट्रपति ट्रंप दक्षिण-उत्तर कोरिया सम्मेलन के तुरंत बाद फोन पर वार्ता करेंगे और इस सम्मेलन के परिणाम को साझा करेंगे।

समाचार एजेंसी एफे ने यून के हवाले से कहा, अमेरिका-उत्तर कोरिया सम्मेलन के पहले दोनों राष्ट्रपतियों के बीच बैठक कराने की कोशिश करने पर भी सहमत हो गए हैं।

दक्षिण कोरिया और उत्तर कोरिया के बीच 11 सालों में पहली बार द्विपक्षीय बैठक होगी और यह उत्तर और दक्षिण कोरिया को विभाजित करने वाली सीमा पर होगी।

--आईएएनएस

07:57 PM
 इलोन मस्क अब चाहते हैं साइबोर्ग ड्रैगन बनाना

इलोन मस्क अब चाहते हैं साइबोर्ग ड्रैगन बनाना

सैन फ्रांसिस्को, 26 अप्रैल (आईएएनएस)। ऐसा लगता है कि स्पेसएक्स का ड्रैगन कैप्सूल कृत्रिम बुद्धिमत्ता (एआई) से संचालित होगा और न्यूरिलिंक के जरिए यह इंसानी दिमाग इंटरफेस की पेशकश कर सकता है। स्पेसएक्स के मुख्य कार्यकारी अधिकारी इलोन मस्क ने एक ट्वीट में यह सुझाव दिया है।

प्रौद्योगिकी के बादशाह ने बुधवार देर रात एक ट्वीट में कहा, ओह वैसे मैं साइबोर्ग ड्रैगन का निर्माण करने जा रहा हूं।

इनवर्स की रिपोर्ट में कहा गया कि मस्क शायद अंतरिक्ष में इंटरनेट-संचालित सुपर-इंटेलीजेंस के साथ अंतरिक्षयात्रियों को ले जाना चाहते हैं।

मस्क की सभी कंपनियों में ड्रैगन नाम शामिल होता है, जिसमें ड्रैगन स्पेसक्राफ्ट भी है, जो अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (आईएसएस) के आगे-पीछे चक्कर लगाता है।

स्पेसएक्स का वर्तमान में बिग फाल्कन रॉकेट, या बीएफआर बनाने का लक्ष्य है, जिसे मंगल ग्रह पर अन्वेषण के लिए इस्तेमाल किया जाएगा -- इलोन मस्क इस लक्ष्य को 2022 तक प्राप्त करने की उम्मीद करते हैं।

बीएफआर इतना विशाल होगा कि इसे एक विशाल समुद्री मालवाहक जहाज से पानामा नहर होते हुए फ्लोरिडा के केप केनावेरल पहुंचाया जाएगा।

मस्क के मुताबिक, स्पेसएक्स का विशाल नया रॉकेट करीब 350 फीट लंबा होगा तथा इसका व्यास 30 फीट तक फैला होगा।

--आईएएनएस

11:11 PM
Stock Exchange
Live Cricket Score

Create Account



Log In Your Account