• Last Updates : 10:50 PM

इन्फोसिस ने कारोबार बढ़ाने डिजिटल रणनीति पर दांव लगाया

बेंगलुरू, 23 जून (आईएएनएस)। सॉफ्टवेयर क्षेत्र की अग्रणी कंपनी इन्फोसिस के सह-संस्थापक व अध्यक्ष नंदन एम. नीलेकणि ने शनिवार को कहा कि मौजूदा रोमांचकारी दौर में इन्फोसिस कारोबार बढ़ाने के लिए डिजिटल रणनीति पर दांव लगा रही है।

कंपनी की 37वीं सालाना आम बैठक (एजीएम) में शेयरधारकों को नीलेकणि ने बताया, हम अपने उद्योग के सफर के रोमांचकारी मोड़ पर हैं। आज हम साझेदारी करने और अपने ग्राहकों में इजाफा करने की जितनी संभावनाएं देख रहे हैं, उतनी संभावनाएं मैंने पहले कभी नहीं देखी है। डिजिटल क्रांति से हर उद्योग व क्षेत्र में बदलाव आ रहा है और हम उसमें निमग्न होते जा रहे हैं।

नीलेकणि (63) ने 10.94 अरब डॉलर का कारोबार करने वाली प्रमुख आईटी कंपनी इन्फोसिस में आठ साल बाद दोबारा अगस्त 2017 में अपनी नई पारी की शुरुआत की। पूर्व में कंपनी के सीईओ पद से त्यागपत्र देने के बाद वह केंद्र सरकार के संगठन यूआईडीएआई के प्रमुख की जिम्मेदारी संभाले थे।

बतौर कंपनी अध्यक्ष पहली बार एजीएम की अध्यक्षता करते हुए उन्होंने कहा कि मीडिया, मनोरंजन, स्वास्थ्य और वित्तीय सेवाएं, खुदरा और फार्माश्युटिकल हर जगह डिजिटीकरण का क्षेत्र व्यापाक बनता जा रहा है।

उन्होंने कहा, नवीनतम प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल करके, इंटरनेट ऑफ थिंग्स का लाभ उठाकर ग्राहक सेवा की नई विधि तैयार करके डिजिटल प्रौद्योगिकी व्यवसाय के नये तरीके पैदा कर रही है।

उन्होंने निवेशकों से कहा, जब मैं इन्फोसिस में अगस्त 2017 में दोबारा आया तो कंपनी की स्थिरता को लेकर आप चिंतित थे। हमारा बोर्ड काफी स्थायी है और सब लोग संगठित हैं और हम प्रभावशाली दौर में हैं।

एजीएम में पिछले साल की तरह कंपनी के सह संस्थापक एन. आर.नारायणमूर्ति मौजूद नहीं थे।

--आईएएनएस

08:47 PM

गोयल ने नोटबंदी घोटाला छिपाने नाबार्ड पर दबाव डाला : कांग्रेस (लीड-1)

नई दिल्ली, 23 जून (आईएएनएस)। कांग्रेस ने शनिवार को वित्तमंत्री पीयूष गोयल पर आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह के नोटबंदी घोटाले को छिपाने के लिए उन्होंने नाबार्ड को बयान जारी करने को बाध्य किया। कांग्रेस ने नाबार्ड सहित मामले की ऑडिट रपट सार्वजनिक करने की मांग की।

कांग्रेस ने भाजपा पर घोटालेबाजों को संरक्षण देने का आरोप लगाते हुए कहा कि महाराष्ट्र में एक और बैंक घोटाला प्रकाश में आया है, जिसमें डी. एस. कुलकर्णी (डीएसके) समूह ने 2,000 करोड़ रुपये का फर्जीवाड़ा किया है।

कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने कहा, पीयूष गोयल ने नाबार्ड पर प्रेस को बयान जारी करने के लिए दबाव डाला। नाबार्ड की वेबसाइट पर जारी बयान भाजपा का बयान प्रतीत होता है, जिसमें सिर्फ अमित शाह का बचाव किया गया है।

उनका आरोप है कि नाबार्ड ने जानबूझकर सूचना का अधिकार (आरटीआई) के जरिए प्रकाश में आए तथ्यों को हटा दिया है, जिसमें 3,118.51 करोड़ रुपये मूल्य के पुराने नोट महज पांच दिनों के दौरान गुजरात के 11 सहकारी बैंकों में जमा होने का खुलासा हुआ है। उन्होंने कहा कि भाजपा के नेता इन बैंकों के साथ जुड़े हुए हैं।

खेड़ा ने कहा, भाजपा और इसके सहयोगियों द्वारा शासित राज्यों के जिला सहकारी बैंकों में महज पांच दिनों में सभी सहकारी बैंकों में जमा प्रतिबंधित नोटों का 64.18 फीसदी यानी 22,270.80 करोड़ रुपये मूल्य के नोट जमा हुए।

राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) द्वारा अहमदाबाद जिला सहकारी बैंक में नोटबंदी के दौरान भारी मात्रा में नोट जमा होने के मामले में भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जारी केवाईसी के दिशानिर्देशों का पालन होने का दावा किए जाने के एक दिन बाद कांग्रेस नेता का यह बयान आया है।

आईएएनएस ने आरटीआई के जरिए मिली जानकारी के आधार पर शुक्रवार को अपनी एक रपट में बताया था कि जिला केंद्रीय सहकारी बैंकों में जिस बैंक में नोटबंदी के बाद सबसे ज्यादा प्रतिबंधित नोट जमा हुए थे, अमित शाह उस बैंक के निदेशक हैं।

खेड़ा ने कहा, गोयल ने पीत पत्रकारिता का जिक्र करते हुए एक बयान ट्वीट किया है, जोकि संघ के इको-सिस्टम से सीधे लिया गया है और उन्होंने इस तरह की बचकानी बातें कर एक तिनका पकड़ने के लिए अथाह कड़ी मेहनत की है, जोकि आरएसएस-भाजपा के बौद्धिक जगत का एक हालमार्क है।

उन्होंने कहा, मोदी सरकार के लिए यह उचित होगा कि हमारे सरल सवालों का जवाब दे और जिला सहकारी बैंकों में प्रतिबंधित नोटों की जमा में बढ़ोतरी की पूरी जांच का आदेश दे।

उन्होंने गोयल से बतौर अस्थायी वित्तमंत्री मामले की निष्पक्ष जांच का आदेश देने की मांग की।

खेड़ा ने यह भी मांग की है कि नाबार्ड नोटबंदी के पांच दिनों के दौरान भारी मात्रा में प्रतिबंधित नोट जमा लेने वाले सहकारी बैंकों की ऑडिट रपट सार्वजनिक करे।

खेड़ा ने कहा कि आरटीआई कार्यकर्ता ने डीएसके समूह के घोटाले का पर्दाफाश किया, जिसमें समूह ने कई वित्तीय संस्थानों से 5,400 करोड़ रुपये उधार लिए और उसकी वापसी करने में विफल रहे।

उन्होंने कहा, कुलकर्णी आरएसएस और भाजपा से जुड़े रहे हैं। भाजपा की सरकार में यह 12वां बैंक घोटाला है।

उन्होंने कहा कि डीएसके समूह ने घर खरीदने का सपना देखने वालों और मियादी जमा करने वाले 8,000 लोगों को चूना लगाया है, जिनमें ज्यादातर वरिष्ठ नागरिक हैं।

--आईएएनएस

07:49 PM

शिवसेना ने आरबीआई गवर्नर के खिलाफ कार्रवाई की मांग की

मुंबई, 23 जून (आईएएनएस)। शिवसेना ने शनिवार को भारतीय जनता पार्टी से पूछा कि बड़े उद्योगपतियों द्वारा घोटाला कर देश से भागने के मामले में मौजूदा वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने आरबीआई गवर्नर और बैंकों के प्रमुखों के खिलाफ क्या कार्रवाई की।

शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना और दोपहर का सामना के संपादकीय में कहा, घोटाले का ऋण देने के लिए बैंक के कितने चेयरमैन को जेल भेजा गया? यहां तक कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह अहमदाबाद जिला सहकारी बैंक के निदेशक हैं.. इसमें नोटबंदी के बाद केवल पांच दिनों में ही 745.59 करोड़ रुपये के प्रतिबंधित नोट जमा किए गए।

पार्टी ने कहा कि गुजरात के कैबिनेट मंत्री जयेश वी. राडाडिया राजकोट डीसीबी के चेयरमैन हैं, इस बैंक ने भी देश में प्रतिबंधित नोट संग्रह करने में दूसरा स्थान हासिल किया। यहां 693.19 करोड़ रुपये के प्रतिबंधित नोट जमा किए गए।

शिवसेना ने कहा, कैसे इतनी बड़ी मात्रा में केवल एक एडीसीबी बैंक में पैसा जमा कराया जा सकता है? यह एक गंभीर समस्या है और इसकी गहराई से जांच होनी चाहिए।

गोयल पर इन मुद्दों को गंभीरता से नहीं देखने का आरोप लगाते हुए, भाजपा की सहयोगी शिवसेना ने कहा कि सहकारी बैंकों में भेदभाव होता है और देश में विभिन्न सहकारी बैंकों के साथ अलग-अलग नियम लागू किए जाते हैं।

शिवसेना ने कहा, महाराष्ट्र के डीसीसीबी को पुराने नोटों को बदलने या स्वीकार करने से रोका गया, बाद में हालांकि इस निर्णय को वापस ले लिया गया, लेकिन इससे बैंकों की आर्थिक हालत काफी खस्ता हो गई।

संपादकीय के अनुसार, देश अभी भी नोटबंदी के प्रभाव से जूझ रहा है..रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के गवर्नर इसके सबसे बड़े दोषी हैं और इसके लिए उन्हें सजा मिलनी चाहिए।

शिवसेना ने कहा, देश को बताया गया था कि नोटबंदी के बाद जम्मू एवं कश्मीर में आतंकवाद समाप्त हो जाएगा। लेकिन वास्तविकता में, प्रधानमंत्री द्वारा किए गए इस घोषणा के एक दिन बाद ही राज्य में 2000 रुपये के नए नोटों के कई बंडल मिले थे।

--आईएएनएस

07:19 PM

पतंजलि ने रुचि सोया के लिए अडानी की बोली पर जताई आपत्ति

नई दिल्ली, 23 जून (आईएएनएस)। रुचि सोया के लिए अडानी की बोली पर ऋणशोधन अक्षमता व दिवाला की प्रक्रियाओं के तहत संकट के बादल छा गए हैं क्योंकि योग गुरु रामदेव द्वारा स्थापित पतंजलि आयुर्वेद ने साखदाताओं की समिति (सीओसी) को पत्र लिखकर रुचि सोया के लिए अडानी विल्मर की पात्रता पर चिंता जाहिर की है।

पतंजलि के प्रवक्ता एस. के. तिजारावाला ने आईएएनएस से बातचीत में कहा, हमने रुचि सोया के संबंध में 10 और 11 जून को सीओसी को पत्र लिखे हैं। लेकिन हमें अब तक कोई जवाब नहीं मिला है।

बताया गया कि पतंजलि ने पत्र में ऋणशोधन अक्षमता और दिवाला संहिता की धारा 29 के तहत मसलों का जिक्र किया है।

इस बीच बिजनेस स्टैंडर्ड अखबार की एक रिपोर्ट के अनुसार, सीओसी में शामिल ऋणदाताओं की हाल ही में बैठक हुई जिसमें दोनों कंपनियों की बोलियों और ऋणशोधन में अक्षम कंपनी के लिए संबंधित समाधान की योजनाओं पर विचार किया गया।

धारा 29ए के अनुसार, ऋण शोधन में अक्षम कंपनी को निर्धारित पात्रता की शर्ते पूरी करनी होती है। इसका मतलब यह है कि अगर प्रमोटर कर्ज संकट से जूझ रही किसी दूसरी कंपनी से जुड़ा हो तो बोलीदाता को कॉरपोरेट ऋणशोधन अक्षमता समाधान प्रक्रिया (सीआईआरपी) के तहत समाधान योजना का प्रस्ताव पेश करने की अनुमति नहीं दी जा सकती है।

रुचि सोया को सीआईआरपी के तहत दिसंबर 2017 में दाखिल किया गया था।

रुचि सोया के पास न्यूूट्रेला, महाकोश, सनरिच, रुचि स्टार और रुचि गोल्ड जैसे ब्रांड हैं।

अखबार की रिपोर्ट के अनुसार, वित्तीय साख दाताओं ने करीब 104 अरब रुपये का दावा ठोका है। साथ ही संचालक साखदाताओं ने भी 36 करोड़ रुपये का दावा ठोका है।

बिजनेस स्टेंडर्ड की रिपोर्ट के अनुसार, अडानी समूह के चेयरपर्सन गौतम अडानी के रिश्तेदार और अडानी विल्मर के प्रबंध निदेशक प्रणव अडानी की शादी रोटोमैक समूह के पूर्व प्रमोटर विक्रम कोठारी की बेटी नम्रता के साथ हुई है जिन्हें केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने बैंक ऑफ बड़ौदा द्वारा उनकी कंपनी द्वारा फर्जीवाड़ा करने की शिकायत के बाद फरवरी में गिऱफ्तार किया।

राष्ट्रपति द्वारा छह जून को अनुमोदित हालिया आईबीसी अध्यादेश में संबंधित व्यक्ति की परिभाषा में विस्तार करते हुए संबंधित पक्ष और रिश्तेदार शब्द जोड़े गए हैं, जिसके तहत पति, पत्नी, भाई, मां जैसे परिवार के सदस्य और परिवार के अन्य रिश्तेदार आते हैं जिनमें ससुराल पक्ष के लोग भी शामिल हैं।

रिपोर्ट के अनुसार, दोनों बोलीदाताओं की समाधान योजनाएं आईबीसी अध्यादेश द्वारा हाल में किए गए संशोधन से पहले सौंपी गई थीं इसलिए यह स्पष्ट नहीं है कि धारा 29 एक के तहत विस्तार किए गए मानदंड वर्तमान मामले में लागू होंगे या नहीं।

--आईएएनएस

07:03 PM

एयर इंडिया में तकनीकी खराबी से 13 उड़ानें प्रभावित

नई दिल्ली, 23 जून (आईएएनएस)। एयर इंडिया का परिचालन शनिवार दोपहर को तकनीकी खराबी की वजह से प्रभावित हो गया। इस दौरान कई घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों में देरी हो गई।

विमानन कंपनी के एक अधिकारी ने आईएएनएस से कहा, बैक-एंड सर्वर में तकनीकी खराबी की वजह से 13 उड़ानों की सेवा प्रभावित हुई।

अधिकारी के मुताबिक, तकनीकी समस्या रिजर्वेशन और चेक-इन प्रणाली के बीच संपर्क टूटने की वजह से हुई।

उन्होंने कहा, तकनीकी समस्या अपराह्न् 1 बजे से 2:30 बजे तक रही। इसे सही कर लिया गया, लेकिन दुर्भाग्यपूर्ण तरीके से, इस वजह से अखिल-भारतीय स्तर पर 13 विमानों के परिचालन में देरी हुई।

अधिकारी ने कहा, विमानों के परिचालन में औसतन देरी 15 से 20 मिनट के बीच रही।

--आईएएनएस

06:54 PM

शेयर बाजार : उतार-चढ़ाव के बीच पांचवें सप्ताह बढ़त के साथ बंद (साप्ताहिक समीक्षा)

मुंबई, 23 जून (आईएएनएस)। भारतीय शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव के बीच लगातार पांचवें सप्ताह बढ़त दर्ज की गई, जबकि कमजोर विदेशी संकेतों से पूरे सप्ताह बाजार में नकारात्मक रुख बना रहा।

अमेरिका और चीन के बीच व्यापारिक हितों के टकराव से उत्पन्न तनाव के कारण इस सप्ताह भारतीय शेयर बाजार में काफी उतार-चढ़ाव देखा गया।

कारोबारी सप्ताह के आखिरी सत्र में शुक्रवार को लौटी तेजी से भारतीय शेयर बाजार में इस सप्ताह थोड़ी बढ़त दर्ज की गई। सेंसेक्स पिछले कारोबारी सप्ताह के मुकाबले इस सप्ताह 67.46 अंक की बढ़त के साथ 35,689.60 अंक पर रहा और निफ्टी में पिछले सप्ताह के मुकाबले महज 4.15 अंक की बढ़त दर्ज की गई और यह 10,821.85 अंक पर बंद हुआ।

सप्ताह की शुरुआत में सोमवार को कमजोर वैश्विक संकेतों से घरेलू शेयर बाजारों में भी नरमी का रुझान देखने को मिला और सेंसेक्स 73.88 अंक फिसलकर 35,548.26 पर बंद हुआ। निफ्टी भी 17.85 अंक की कमजोरी के साथ 10,799.85 पर बंद हुआ।

अगले दिन मंगलवार को गिरावट और बढ़ गई क्योंकि अमेरिका और चीन के बीच व्यापारिक तनाव से विदेशी बाजारों में नरमी का सिलसिला जारी रहा।

मंगलवार को सेंसेक्स 261.52 अंक की कमजोरी के साथ 35,286.74 पर बंद हुआ और निफ्टी 89.40 अंक फिसलकर 10,710.45 अंक पर बंद हुआ।

वैश्विक बाजार बाजार में तेजी लौटने से बुधवार को घरेलू बाजार में भी सकारात्मक रुझान देखने को मिला और सेंसेक्स 260.59 अंक की रिकवरी के साथ 35,547.33 अंक पर बंद हुआ। निफ्टी भी बुधवार को 61.60 अंक के सुधार के साथ 10,772.05 अंक पर बंद हुआ।

रिकवरी का यह सिलसिला हालांकि गुरुवार को टूट गया क्योंकि विदेशी बाजार से सकारात्मक रुझान नहीं देखने को मिला और घरेलू बाजार में एक बार फिर नरमी आ गई। सेंसेक्स गुरुवार को 114.94 अंक फिसलकर 35,432.39 अंक पर बंद हुआ और निफ्टी भी 30.95 अंक की हल्की गिरावट के साथ 10,741.10 अंक पर बंद हुआ।

सप्ताह के आखिरी कारोबारी सत्र के दौरान शुक्रवार को तेजी का रुख देखने को मिला और बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 257.21 अंकों की बढ़त के साथ 35,689.60 पर बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी भी 80.75 अंकों की तेजी के साथ 10,821.85 पर बंद हुआ।

आंकड़ों के अनुसार, विदेशी निवेशकों ने 2,088.81 करोड़ रुपये के शेयरों की बिकवाली की जबकि घरेलू संस्थागत निवेशकों की लिवाली इस सप्ताह 4,720.76 करोड़ रुपये रही।

--आईएएनएस

05:43 PM

रामनाथपुरम, होसुर, नेवेली को उड़ान कार्यक्रम से जल्द जोड़ें : पलनीस्वामी

चेन्नई, 23 जून (आईएएनएस)। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के. पलनीस्वामी ने शनिवार को नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु से रामनाथपुरम, होसुर और नेवेली को उड़ान क्षेत्रीय संपर्क कार्यक्रम के तहत जोड़ने का अनुरोध किया।

प्रभु को लिखे एक पत्र को शनिवार को मीडिया में जारी करते हुए पलनीस्वामी ने कहा कि रामनाथपुरम को उड़ान योजना के दूसरे चरण में शामिल कर लिया गया है।

उन्होंने कहा कि रामनाथपुरम जिले का रामेश्वरम एक महत्वपूर्ण तीर्थस्थल व पर्यटन केंद्र है, जहां पूरे भारत से पर्यटक घूमने आते हैं।

पलनीस्वामी ने कहा, इसलिए, मैं आपसे बोली-प्रक्रिया शुरू कर यथासंभव जल्द से जल्द रामानथपुरम में हवाई संचालन शुरू करने के लिए आवश्यक कदम उठाने का अनुरोध करता हूं।

मुख्यमंत्री ने प्रभु से यह भी अनुरोध किया कि वह होसुर हवाईअड्डे का संचालन तुरंत शुरू करने के लिए बेंगलुरू अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे से अनापत्ति प्रमाण पत्र दिलवाएं।

उन्होंने कहा कि होसुर कृष्णागिरि जिले में एक महत्वपूर्ण औद्योगिक केंद्र है, जिसका चुनाव उड़ान योजना के पहले चरण के तहत हुआ था और यह जिले के औद्योगिक केंद्र के विकास का इंजन बनेगा।

पलनीस्वामी ने प्रभु से यह भी आग्रह किया है कि वे नेवेली से उड़ान संचालन शुरू करने के लिए आवश्यक कदम उठाए, क्योंकि एयरलाइन ऑपरेटरों के साथ बोली प्रक्रिया पूरी की जा चुकी है।

--आईएएनएस

03:15 PM

केरल का चौथा अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा कन्नूर में सितंबर में खुलेगा

नई दिल्ली/कन्नूर, 23 जून (आईएएनएस)। केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु ने शनिवार को ऐलान किया कि कन्नूर अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा लिमिटेड (केआईएएल) सितंबर माह में खुलेगा।

उन्होंने केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन के साथ मुलाकात के बाद इसका ऐलान किया।

विजयन ने अधिकारियों की टीम के साथ प्रभु से सुबह मुलाकात की और कन्नूर के पास मत्तानूर में 1,892 करोड़ रुपये की लागत वाले हवाईअड्डे को अंतिम रूप देने पर चर्चा की। इस 2,000 एकड़ जमीन पर बन रहा हवाईअड्डे का काम जल्द ही पूरा होने वाला है।

प्रभु ने मुलाकात के तुरंत बाद दिल्ली में मीडिया से कहा,मैंने मुख्यमंत्री से कहा है कि वह दिल्ली में किसी को तैनात करें ताकि वह कन्नूर हवाईअड्डे से संबद्ध गतिविधियों से जुड़ा रहे।

उन्होंने कहा, मैंने अपने अधिकारियों से भी सभी चीजों पर नजर बनाए रखने को कहा है ताकि सितंबर में हवाईअड्डे खुल सके।

इसके साथ ही केरल देश का अकेला ऐसा राज्य होगा, जहां तिरुवनंतपुरम, कोच्चि और कोझिकोड के साथ कुल चार अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे होंगे।

इस हवाईअड्डे के निर्माण में 35 फीसदी हिस्सेदारी केरल सरकार, 25 फीसदी सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम, 10 फीसदी भारतीय हवाईअड्डा प्राधिकरण और बाकी 30 फीसदी सहकारियों, बैकों और निजी हितधारकों की होगी।

--आईएएनएस

02:05 PM

अमेरिकी डॉलर में गिरावट

न्यूयॉर्क, 23 जून (आईएएनएस)। सकारात्मक आर्थिक आंकड़ों और यूरो में उछाल के बीच अमेरिकी डॉलर में गिरावट दर्ज की गई।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, न्यूयॉर्क ट्रेडिंग में शुक्रवार को बीते सत्र में यूरो 1.1622 डॉलर के मुकाबले बढ़कर 1.1662 डॉलर पर रहा। ब्रिटिश पाउंड 1.3253 डॉलर के मुकाबले बढ़कर 1.3261 डॉलर रहा।

आस्ट्रेलियाई डॉलर बीते कारोबारी सत्र में 0.7389 डॉलर के मुकाबले बढ़कर 0.7440 डॉलर रहा।

डॉलर सूचकांक 0.37 फीसदी की कमजोरी के साथ 94.508 रहा।

--आईएएनएस

09:12 AM

रूस, दक्षिण कोरिया ने सहयोग बढ़ाने की प्रतिबद्धता जताई

मॉस्को, 23 जून (आईएएनएस)। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और उनके दक्षिण कोरियाई समकक्ष मून जे इन के बीच विभिन्न क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने पर सहमति बनी।

पुतिन ने शुक्रवार को वार्ता के बाद जारी बयान में कहा कि दक्षिण कोरिया एशिया प्रशांत क्षेत्र में रूस का दूसरा सबसे बड़ा व्यापार साझेदार देश बन गया है। बीते साल द्विपक्षीय कारोबार 27 फीसदी बढ़कर 19.2 अरब डॉलर रहा था जबकि इस साल जनवरी-अप्रैल में इसमें 6.5 फीसदी का इजाफा हुआ है।

पुतिन ने कहा कि रूस में दक्षिण कोरिया का निवेश 1.2 अरब डॉलर पहुंच गया है।

--आईएएनएस

08:38 AM
 इन्फोसिस ने कारोबार बढ़ाने डिजिटल रणनीति पर दांव लगाया

इन्फोसिस ने कारोबार बढ़ाने डिजिटल रणनीति पर दांव लगाया

बेंगलुरू, 23 जून (आईएएनएस)। सॉफ्टवेयर क्षेत्र की अग्रणी कंपनी इन्फोसिस के सह-संस्थापक व अध्यक्ष नंदन एम. नीलेकणि ने शनिवार को कहा कि मौजूदा रोमांचकारी दौर में इन्फोसिस कारोबार बढ़ाने के लिए डिजिटल रणनीति पर दांव लगा रही है।

कंपनी की 37वीं सालाना आम बैठक (एजीएम) में शेयरधारकों को नीलेकणि ने बताया, हम अपने उद्योग के सफर के रोमांचकारी मोड़ पर हैं। आज हम साझेदारी करने और अपने ग्राहकों में इजाफा करने की जितनी संभावनाएं देख रहे हैं, उतनी संभावनाएं मैंने पहले कभी नहीं देखी है। डिजिटल क्रांति से हर उद्योग व क्षेत्र में बदलाव आ रहा है और हम उसमें निमग्न होते जा रहे हैं।

नीलेकणि (63) ने 10.94 अरब डॉलर का कारोबार करने वाली प्रमुख आईटी कंपनी इन्फोसिस में आठ साल बाद दोबारा अगस्त 2017 में अपनी नई पारी की शुरुआत की। पूर्व में कंपनी के सीईओ पद से त्यागपत्र देने के बाद वह केंद्र सरकार के संगठन यूआईडीएआई के प्रमुख की जिम्मेदारी संभाले थे।

बतौर कंपनी अध्यक्ष पहली बार एजीएम की अध्यक्षता करते हुए उन्होंने कहा कि मीडिया, मनोरंजन, स्वास्थ्य और वित्तीय सेवाएं, खुदरा और फार्माश्युटिकल हर जगह डिजिटीकरण का क्षेत्र व्यापाक बनता जा रहा है।

उन्होंने कहा, नवीनतम प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल करके, इंटरनेट ऑफ थिंग्स का लाभ उठाकर ग्राहक सेवा की नई विधि तैयार करके डिजिटल प्रौद्योगिकी व्यवसाय के नये तरीके पैदा कर रही है।

उन्होंने निवेशकों से कहा, जब मैं इन्फोसिस में अगस्त 2017 में दोबारा आया तो कंपनी की स्थिरता को लेकर आप चिंतित थे। हमारा बोर्ड काफी स्थायी है और सब लोग संगठित हैं और हम प्रभावशाली दौर में हैं।

एजीएम में पिछले साल की तरह कंपनी के सह संस्थापक एन. आर.नारायणमूर्ति मौजूद नहीं थे।

--आईएएनएस

08:47 PM
Stock Exchange
Live Cricket Score

Create Account



Log In Your Account