• Last Updates : 10:50 PM

कश्मीर : अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर प्रसिद्ध सूफी मेला रद्द

जम्मू, 22 जून (आईएएनएस)। जम्मू एवं कश्मीर के सांबा जिले में अंतर्राष्ट्रीय सीमा के रामगढ़ सेक्टर में होने वाले वार्षिक बाबा चमलियाल मेला इस वर्ष सुरक्षा कारणों से रद्द कर दिया गया है। यह आयोजन वर्ष 1947 के बाद पहली बार रद्द किया जा रहा है। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।

बीएसएफ अधिकारियों ने कहा, हम उर्स कैसे आयोजित कर सकते हैं जब पाकिस्तान ने रामगढ़ सेक्टर में हमारे चार बहादुरों को मार डाला है।

सूफी संत बाबा चमलियाल का उर्स प्रत्येक वर्ष जून के अंतिम सप्ताह में आयोजित होता है, और दरगाह की एक झलक पाने के लिए सीमा के दोनों तरफ के श्रद्धालुओं का तांता लगता है।

पाकिस्तानी रेंजरों ने 13 जून को रामगढ़ सेक्टर में अचानक गोलीबारी कर दी थी, जिसमें एक असिस्टेंट कमांडेंट सहित बीएसएफ के चार जवान शहीद हो गए थे।

शहीद जवानों की पहचान असिस्टेंट कमांडेंट जितेंद्र सिंह (34), उपनिरीक्षक रजनीश कुमार (32), सहायक उपनिरीक्षक राम निवास (52) और कांस्टेबल हंसराज गुर्जर (28) के रूप में हुई थी।

आमतौर पर बाबा चमलियाल की दरगाह पर होने वाले वार्षिक उत्सव की सारी व्यवस्था बीएसएफ करती है।

पाकिस्तानी सैनिकों सहित हजारों श्रद्धालु यहां आते हैं। पाकिस्तानी सैनिक यहां पवित्र चादर चढ़ाते हैं।

बीएसएफ पाकिस्तानी सैनिकों का स्वागत शरबत से करता है और यहां आने वाले दरगाह से कुछ मिट्टी अपने साथ ले जाते हैं। कहा जाता है कि इसमें कई रोगों को ठीक करने की शक्तियां हैं।

--आईएएनएस

05:32 PM

समय पर परिणाम लाने को करेंगे देर तक काम : डूटा

नई दिल्ली, 20 जून (आईएएनएस)। 40 दिन बाद बहिष्कार खत्म कर काम पर लौटे दिल्ली विश्वविद्यालय के शिक्षकों के पास परीक्षा पुस्तिकाओं का ढेर लगा है, लेकिन उन्होंने कहा है कि परीक्षा परिणामों की घोषणा में कोई देरी नहीं होने देंगे और किसी छात्र को शून्य वर्ष की स्थिति का सामना नहीं करना पड़ेगा।

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के नोटिस को रद्द करने तथा अस्थायी शिक्षकों को स्थायी करने की मांग को लेकर विश्वविद्यालय के शिक्षकों ने बुधवार को अपनी हड़ताल खत्म की। नोटिस के अनुसार शिक्षकों की भर्ती विभाग के अनुसार होगी ना कि विश्वविद्यालय के हिसाब से।

कई लोगों द्वारा छात्रों के भविष्य को ध्यान में रखकर शिक्षकों से काम पर लौटने की अपील की गई, लेकिन शिक्षकों को विश्वविद्यालय से उनकी किसी मांग पर कोई आश्वासन नहीं मिला।

डूटा अध्यक्ष राजीव राय ने आईएएनएस से कहा, हम शिक्षकों और मूल्यांकन केंद्रों की संख्या बढ़ाएंगे। हम समय के हुए नुकसान के बावजूद इसकी भरपाई करने तथा समय पर परिणाम घोषित होने के प्रति आश्वस्त हैं।

शिक्षकों की एक अन्य मांग में विश्वविद्यालय में लंबे समय से लंबित लगभग 4,000 रिक्तियों को भरने को लेकर थी। इन रिक्तियों के लंबित रहने के पीछे दिल्ली विश्वविद्यालय और दिल्ली सरकार के बीच राजनीतिक खींचतान बताई जा रही है।

--आईएएनएस

11:02 PM
Showing : 2
 इन्फोसिस ने कारोबार बढ़ाने डिजिटल रणनीति पर दांव लगाया

इन्फोसिस ने कारोबार बढ़ाने डिजिटल रणनीति पर दांव लगाया

बेंगलुरू, 23 जून (आईएएनएस)। सॉफ्टवेयर क्षेत्र की अग्रणी कंपनी इन्फोसिस के सह-संस्थापक व अध्यक्ष नंदन एम. नीलेकणि ने शनिवार को कहा कि मौजूदा रोमांचकारी दौर में इन्फोसिस कारोबार बढ़ाने के लिए डिजिटल रणनीति पर दांव लगा रही है।

कंपनी की 37वीं सालाना आम बैठक (एजीएम) में शेयरधारकों को नीलेकणि ने बताया, हम अपने उद्योग के सफर के रोमांचकारी मोड़ पर हैं। आज हम साझेदारी करने और अपने ग्राहकों में इजाफा करने की जितनी संभावनाएं देख रहे हैं, उतनी संभावनाएं मैंने पहले कभी नहीं देखी है। डिजिटल क्रांति से हर उद्योग व क्षेत्र में बदलाव आ रहा है और हम उसमें निमग्न होते जा रहे हैं।

नीलेकणि (63) ने 10.94 अरब डॉलर का कारोबार करने वाली प्रमुख आईटी कंपनी इन्फोसिस में आठ साल बाद दोबारा अगस्त 2017 में अपनी नई पारी की शुरुआत की। पूर्व में कंपनी के सीईओ पद से त्यागपत्र देने के बाद वह केंद्र सरकार के संगठन यूआईडीएआई के प्रमुख की जिम्मेदारी संभाले थे।

बतौर कंपनी अध्यक्ष पहली बार एजीएम की अध्यक्षता करते हुए उन्होंने कहा कि मीडिया, मनोरंजन, स्वास्थ्य और वित्तीय सेवाएं, खुदरा और फार्माश्युटिकल हर जगह डिजिटीकरण का क्षेत्र व्यापाक बनता जा रहा है।

उन्होंने कहा, नवीनतम प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल करके, इंटरनेट ऑफ थिंग्स का लाभ उठाकर ग्राहक सेवा की नई विधि तैयार करके डिजिटल प्रौद्योगिकी व्यवसाय के नये तरीके पैदा कर रही है।

उन्होंने निवेशकों से कहा, जब मैं इन्फोसिस में अगस्त 2017 में दोबारा आया तो कंपनी की स्थिरता को लेकर आप चिंतित थे। हमारा बोर्ड काफी स्थायी है और सब लोग संगठित हैं और हम प्रभावशाली दौर में हैं।

एजीएम में पिछले साल की तरह कंपनी के सह संस्थापक एन. आर.नारायणमूर्ति मौजूद नहीं थे।

--आईएएनएस

08:47 PM
Stock Exchange
Live Cricket Score

Create Account



Log In Your Account