• Last Updates : 10:50 PM

कांग्रेस का धन जुटाओ अभियान मोदी को शर्मिदा करने के लिए : राहुल

नई दिल्ली, 23 जून (आईएएनएस)। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शनिवार को कहा कि उनकी पार्टी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा ओडिशा के लोगों के साथ मजाक करने को लेकर उन्हें शर्मिदा करने के लिए धन जुटाने (फंड रेजिंग) का अभियान शुरू किया है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने राउरकेला में मेडिकल कॉलेज की स्थापना करने का अपना वादा नहीं निभा कर ओडिशा के लोगों के साथ मजाक किया है।

राहुल गांधी ने ट्वीट के जरिए कहा, एक अप्रैल 2015 को प्रधानमंत्री ने ओडिशा के लोगों को मूर्ख बनाया था जैसा कि वीडियो में दिख रहा है। कांग्रेस पार्टी ने प्रधानमंत्री को उनके वादे याद नहीं रखने पर शर्मिदा करने के लिए धन जुटाने का अभियान शुरू किया है।

--आईएएनएस

10:48 PM

सेना प्रमुख ने घाटी में सुरक्षा समीक्षा की

श्रीनगर, 23 जून (आईएएनएस)। सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने शनिवार को कश्मीर घाटी में सुरक्षा स्थिति की समीक्षा की। राज्य में राज्यपाल शासन लागू होने के बाद यहां उनका पहला दौरा है।

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया ने कहा, सेना प्रमुख ने आज शनिवार कश्मीर घाटी का दौरा किया और नियंत्रण रेखा तथा अंदरूनी इलाकों में सुरक्षा स्थिति की समीक्षा की।

उन्होंने कहा कि सेना प्रमुख उत्तरी सैन्य कमान के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह, और चिनार कॉर्प्स के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल ए.के. भट्ट के साथ सीमांत जिलों कुपवाड़ा और बारामूला में नियंत्रण रेखा पर स्थित अग्रिम चौकियों का दौरा किया, जहां उन्हें सामरिक और रसद तैयारियों के सभी पहलुओं पर जानकारी दी गई।

कर्नल कालिया ने कहा, सेना प्रमुख सैन्य इकाइयों द्वारा स्थापित मानक संचालन प्रक्रियाओं और उपायों की तथा शत्रु तत्वों की तरफ से खड़ी की जाने वाली चुनौतियों से निपटने के लिए की गई तैयारियों पर संतोष जताया।

सेना प्रमुख ने हाल के सफल अभियानों के लिए सैनिकों के प्रदर्शन की प्रशंसा करते हुए दुश्मनों की दुष्टतापूर्ण साजिशों को परास्त करने के लिए अतिरिक्त सतर्कता बरतने की आवश्यकता पर जोर दिया।

रावत ने बाद में राज्यपाल एन.एन. वोहरा से राजभवन में मुलाकात की और घाटी के संपूर्ण सुरक्षा हालात पर चर्चा की।

--आईएएनएस

09:55 PM

तृणमूल ने श्यामा प्रसाद की प्रतिमा तोड़ने में नक्सलियों का इस्तेमाल किया : भाजपा

कोलकाता, 23 जून (आईएएनएस)। भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) ने भारतीय जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी की पुण्यतिथि मनाने के पश्चिम बंगाल सरकार के निर्णय की शनिवार को सराहना की, लेकिन इसके साथ ही सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस पर मार्च में उनकी प्रतिमा तोड़ने के लिए नक्सलियों का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया।

पश्चिम बंगाल के मंत्री फरहाद हाकिम और सोवनदेब चट्टोपाध्याय शनिवार को मुखर्जी की 65वीं पुण्यतिथि के अवसर पर दक्षिण कोलकाता के केओरताला शवदाहगृह में उनकी प्रतिमा के समक्ष एक सरकारी कार्यक्रम में शामिल हुए और दावा किया कि भारत और बंगाल के महान सपूत को श्रद्धांजलि अर्पित करने में कोई राजनीति नहीं होनी चाहिए।

इसपर, प्रतिक्रिया देते हुए भाजपा के सचिव राहुल सिन्हा ने यहां पत्रकारों से कहा, तृणमूल ने मुखर्जी की प्रतिमा ढहाने के लिए नक्सलियों का इस्तेमाल किया और वे अब अपने पाप को धोने की कोशिश कर रहे हैं। मुझे लगता है कि तृणमूल को समझने में समय लगेगा कि मुखर्जी की वजह से ही बंगाल अभी भी भारत का अंग है।

बंगाल सरकार के निर्णय की सराहना करते हुए, भाजपा के राज्य अध्यक्ष दिलीप घोष ने हालांकि कहा, यह काफी देरी से हुआ है।

उन्होंने कहा, मैंने श्यामा प्रसाद की पुण्यतिथि मनाने के राज्य सरकार के निर्णय के बारे में सुना। यह महान विचार और अच्छा कार्य है। लेकिन यह काफी देरी से हुआ है। हालांकि, इसकी प्रशंसा की जानी चाहिए और मैं सरकार के निर्णय की प्रशंसा करता हूं।

राज्य मंत्री हाकिम ने कहा, जब भाजपा यहां कहीं नहीं थी, हमने मुखर्जी की प्रतिमा पर हार चढ़ाया था। हमारी पार्टी ने वर्षो से उनका सम्मान किया है और हम भारत के महान सपूतों को हमेशा सम्मान देते हैं।

यह पूछे जाने पर कि क्या इस निर्णय के पीछे कोई राजनीतिक मंशा है? चट्टोपाध्याय ने कहा, मुखर्जी को श्रद्धांजलि अर्पित करने के पीछे कोई राजनीति नहीं है। वह बंगाल के महान सपूत थे। उन्हें सम्मान देना हमारा कर्तव्य है।

--आईएएनएस

09:13 PM

कांग्रेस आजाद, सोज के खिलाफ कार्रवाई करे : शाह

जम्मू, 23 जून (आईएएनएस)। भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह ने शनिवार को कांग्रेस से उसके वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद और सैफुद्दीन सोज द्वारा कश्मीर पर दिए गए बयान के लिए माफी मांगने के लिए कहा और इसके साथ ही शाह ने कांग्रेस को दोनों नेताओं के खिलाफ कार्रवाई करने की चुनौती भी दी।

शाह ने यहां एक रैली को संबोधित करते हुए कहा, भारतीय जनता पार्टी द्वारा पीडीपी-नीत गठबंधन सरकार से अपना समर्थन वापस लेने के बाद, कांग्रेस ने चुनाव के लिए अपना असली रंग दिखाना शुरू कर दिया।

महबूबा मुफ्ती सरकार से अपना समर्थन वापस लेने के बाद राज्य के दौरे पर पहली बार गए शाह ने कहा कि सत्ता में बने रहना भाजपा की प्राथमिकता नहीं है, बल्कि जम्मू एवं कश्मीर का कल्याण ही हमारा एक मात्र उद्देश्य है।

उन्होंने कहा, सभी को एहसास है कि जल्द ही यहां चुनाव होंगे। भाजपा जहां भारत माता की जय का नारा बुलंद करती है, वहीं कांग्रेस ने चुनाव की चाहत में अपने असली रंग दिखाने शुरू कर दिए हैं।

शाह ने कहा, राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद ने जो बयान दिया था, वह यहां मैं दोहरा भी नहीं सकता। और इसके तत्काल बाद, लश्कर-ए-तैयबा(एलईटी) ने उनके बयान का समर्थन किया।

आजाद ने कहा था कि भारतीय सेना जम्मू एवं कश्मीर में आतंकवादियों से ज्यादा नागरिकों को मार रही है।

शाह ने कांग्रेस के नेता सोज के बयान को भी आड़े हाथ लिया।

सोज ने कहा था कि पूर्व पाकिस्तानी राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ का बयान सही था कि कश्मीरी नागरिक आजादी पसंद करेंगे।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा, भाजपा ऐसा कभी नहीं होने देगी। जम्मू एवं कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और यह बदल नहीं सकता।

उन्होंने कांग्रेस से दोनों नेताओं के खिलाफ कार्रवाई करने और दोनों के बयान के लिए देश से माफी मांगने की मांग की।

--आईएएनएस

08:42 PM

गोयल ने नोटबंदी घोटाला छिपाने नाबार्ड पर दबाव डाला : कांग्रेस (लीड-1)

नई दिल्ली, 23 जून (आईएएनएस)। कांग्रेस ने शनिवार को वित्तमंत्री पीयूष गोयल पर आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह के नोटबंदी घोटाले को छिपाने के लिए उन्होंने नाबार्ड को बयान जारी करने को बाध्य किया। कांग्रेस ने नाबार्ड सहित मामले की ऑडिट रपट सार्वजनिक करने की मांग की।

कांग्रेस ने भाजपा पर घोटालेबाजों को संरक्षण देने का आरोप लगाते हुए कहा कि महाराष्ट्र में एक और बैंक घोटाला प्रकाश में आया है, जिसमें डी. एस. कुलकर्णी (डीएसके) समूह ने 2,000 करोड़ रुपये का फर्जीवाड़ा किया है।

कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने कहा, पीयूष गोयल ने नाबार्ड पर प्रेस को बयान जारी करने के लिए दबाव डाला। नाबार्ड की वेबसाइट पर जारी बयान भाजपा का बयान प्रतीत होता है, जिसमें सिर्फ अमित शाह का बचाव किया गया है।

उनका आरोप है कि नाबार्ड ने जानबूझकर सूचना का अधिकार (आरटीआई) के जरिए प्रकाश में आए तथ्यों को हटा दिया है, जिसमें 3,118.51 करोड़ रुपये मूल्य के पुराने नोट महज पांच दिनों के दौरान गुजरात के 11 सहकारी बैंकों में जमा होने का खुलासा हुआ है। उन्होंने कहा कि भाजपा के नेता इन बैंकों के साथ जुड़े हुए हैं।

खेड़ा ने कहा, भाजपा और इसके सहयोगियों द्वारा शासित राज्यों के जिला सहकारी बैंकों में महज पांच दिनों में सभी सहकारी बैंकों में जमा प्रतिबंधित नोटों का 64.18 फीसदी यानी 22,270.80 करोड़ रुपये मूल्य के नोट जमा हुए।

राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) द्वारा अहमदाबाद जिला सहकारी बैंक में नोटबंदी के दौरान भारी मात्रा में नोट जमा होने के मामले में भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जारी केवाईसी के दिशानिर्देशों का पालन होने का दावा किए जाने के एक दिन बाद कांग्रेस नेता का यह बयान आया है।

आईएएनएस ने आरटीआई के जरिए मिली जानकारी के आधार पर शुक्रवार को अपनी एक रपट में बताया था कि जिला केंद्रीय सहकारी बैंकों में जिस बैंक में नोटबंदी के बाद सबसे ज्यादा प्रतिबंधित नोट जमा हुए थे, अमित शाह उस बैंक के निदेशक हैं।

खेड़ा ने कहा, गोयल ने पीत पत्रकारिता का जिक्र करते हुए एक बयान ट्वीट किया है, जोकि संघ के इको-सिस्टम से सीधे लिया गया है और उन्होंने इस तरह की बचकानी बातें कर एक तिनका पकड़ने के लिए अथाह कड़ी मेहनत की है, जोकि आरएसएस-भाजपा के बौद्धिक जगत का एक हालमार्क है।

उन्होंने कहा, मोदी सरकार के लिए यह उचित होगा कि हमारे सरल सवालों का जवाब दे और जिला सहकारी बैंकों में प्रतिबंधित नोटों की जमा में बढ़ोतरी की पूरी जांच का आदेश दे।

उन्होंने गोयल से बतौर अस्थायी वित्तमंत्री मामले की निष्पक्ष जांच का आदेश देने की मांग की।

खेड़ा ने यह भी मांग की है कि नाबार्ड नोटबंदी के पांच दिनों के दौरान भारी मात्रा में प्रतिबंधित नोट जमा लेने वाले सहकारी बैंकों की ऑडिट रपट सार्वजनिक करे।

खेड़ा ने कहा कि आरटीआई कार्यकर्ता ने डीएसके समूह के घोटाले का पर्दाफाश किया, जिसमें समूह ने कई वित्तीय संस्थानों से 5,400 करोड़ रुपये उधार लिए और उसकी वापसी करने में विफल रहे।

उन्होंने कहा, कुलकर्णी आरएसएस और भाजपा से जुड़े रहे हैं। भाजपा की सरकार में यह 12वां बैंक घोटाला है।

उन्होंने कहा कि डीएसके समूह ने घर खरीदने का सपना देखने वालों और मियादी जमा करने वाले 8,000 लोगों को चूना लगाया है, जिनमें ज्यादातर वरिष्ठ नागरिक हैं।

--आईएएनएस

07:49 PM

शिवसेना ने आरबीआई गवर्नर के खिलाफ कार्रवाई की मांग की

मुंबई, 23 जून (आईएएनएस)। शिवसेना ने शनिवार को भारतीय जनता पार्टी से पूछा कि बड़े उद्योगपतियों द्वारा घोटाला कर देश से भागने के मामले में मौजूदा वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने आरबीआई गवर्नर और बैंकों के प्रमुखों के खिलाफ क्या कार्रवाई की।

शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना और दोपहर का सामना के संपादकीय में कहा, घोटाले का ऋण देने के लिए बैंक के कितने चेयरमैन को जेल भेजा गया? यहां तक कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह अहमदाबाद जिला सहकारी बैंक के निदेशक हैं.. इसमें नोटबंदी के बाद केवल पांच दिनों में ही 745.59 करोड़ रुपये के प्रतिबंधित नोट जमा किए गए।

पार्टी ने कहा कि गुजरात के कैबिनेट मंत्री जयेश वी. राडाडिया राजकोट डीसीबी के चेयरमैन हैं, इस बैंक ने भी देश में प्रतिबंधित नोट संग्रह करने में दूसरा स्थान हासिल किया। यहां 693.19 करोड़ रुपये के प्रतिबंधित नोट जमा किए गए।

शिवसेना ने कहा, कैसे इतनी बड़ी मात्रा में केवल एक एडीसीबी बैंक में पैसा जमा कराया जा सकता है? यह एक गंभीर समस्या है और इसकी गहराई से जांच होनी चाहिए।

गोयल पर इन मुद्दों को गंभीरता से नहीं देखने का आरोप लगाते हुए, भाजपा की सहयोगी शिवसेना ने कहा कि सहकारी बैंकों में भेदभाव होता है और देश में विभिन्न सहकारी बैंकों के साथ अलग-अलग नियम लागू किए जाते हैं।

शिवसेना ने कहा, महाराष्ट्र के डीसीसीबी को पुराने नोटों को बदलने या स्वीकार करने से रोका गया, बाद में हालांकि इस निर्णय को वापस ले लिया गया, लेकिन इससे बैंकों की आर्थिक हालत काफी खस्ता हो गई।

संपादकीय के अनुसार, देश अभी भी नोटबंदी के प्रभाव से जूझ रहा है..रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के गवर्नर इसके सबसे बड़े दोषी हैं और इसके लिए उन्हें सजा मिलनी चाहिए।

शिवसेना ने कहा, देश को बताया गया था कि नोटबंदी के बाद जम्मू एवं कश्मीर में आतंकवाद समाप्त हो जाएगा। लेकिन वास्तविकता में, प्रधानमंत्री द्वारा किए गए इस घोषणा के एक दिन बाद ही राज्य में 2000 रुपये के नए नोटों के कई बंडल मिले थे।

--आईएएनएस

07:19 PM

विधवा कल्याण मामले में निर्णायक हस्तक्षेप : प्रसाद

नई दिल्ली, 23 जून (आईएएनएस)। केंद्रीय कानून एवं न्याय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने शनिवार को कहा कि उनका मंत्रालय सर्वोच्च न्यायालय में विधवाओं के कल्याण से संबंधित एक मामले में निर्णायक हस्तक्षेप करेगा।

विश्व अंतर्राष्ट्रीय विधवा दिवस के अवसर पर एक समारोह को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, कानून मंत्रालय को निश्चय ही न्यायपालिका से दूर रहना चाहिए। लेकिन मैं अपने मंत्रालय से यह आग्रह करूंगा कि वह विधवाओं के अधिकार के लिए निर्णायक हस्तक्षेप करे।

सर्वोच्च न्यायालय ने फरवरी में कहा था कि देश के कई राज्य प्रशासन विधवाओं के कल्याण के प्रति ध्यान नहीं देते हैं।

न्यायालय ने न केवल विधवाओं के जीवन स्तर को सुधारने के लिए संयुक्त प्रयास की महत्ता पर जोर दिया था बल्कि विधवाओं के कल्याण के लिए कदम नहीं उठाने पर आठ राज्यों के खिलाफ जुर्माना भी लगाया था। इस मामले की अगली सुनवाई जुलाई में होगी।

--आईएएनएस

07:17 PM

कश्मीर एडिटर्स गिल्ड ने भाजपा विधायक की धमकी की निंदा की

श्रीनगर, 23 जून (आईएएनएस)। कश्मीर एडिटर्स गिल्ड ने पूर्व मंत्री और भाजपा नेता चौधरी लाल सिंह के उस बयान की शनिवार को निंदा की, जिसमें उन्होंने एक दिन पहले कहा था कि कश्मीर के पत्रकारों को वरिष्ठ पत्रकार शुजात बुखारी की हत्या बाद अपने आचरण के बारे में पता होना चाहिए।

गिल्ड ने एक बयान में कहा, वरिष्ठ पत्रकार शुजात बुखारी की हत्या का उदाहरण देते हुए सिंह ने कश्मीरी मीडिया को एक रेखा खींचने और यह निर्णय करने का सुझाव दिया है कि क्या उन्हें बुखारी की तरह काम करना है। सिंह ने इससे भी आगे निकलकर कश्मीर की मीडिया को सीधे धमकी दे दी।

गिल्ड ने आगे कहा, लाल सिंह ने कश्मीरी मीडिया पर एक गलत वातावरण तैयार करने का आरोप लगाया है।

संपादकों की संस्था ने कहा कि लाल सिंह ने शुजात बुखारी की हत्या का उदाहरण ऐसे समय में दिया है, जब श्रीनगर पुलिस मामले की जांच कर रही है और उनके बयान ने संकेत दिया है कि उनके पास हत्या के बारे में कुछ जानकारी है, जिसकी हर हाल में जांच की जानी चाहिए।

लाल सिंह ने हिंदू एकता मंच की तरफ से जनवरी में आयोजित एक रैली में हिस्सा लिया था, जिसके बाद अप्रैल में उन्हें मंत्रिमंडल से इस्तीफा देना पड़ा था। यह रैली कठुआ में एक बच्ची के साथ दुष्कर्म के बाद उसकी हत्या के आरोपियों के समर्थन में आयोजित की गई थी।

लाल सिंह ने यह बयान शुक्रवार को आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में दिया था।

गिल्ड ने कहा कि उसके पास विधायक के खिलाफ पुलिस में एक मामला दर्ज कराने का अधिकार है, क्योंकि यह विधायक कठुआ जांच के सिलसिले में अपनी बदनामी के लिए इसके पहले कई सारे संवाददाताओं को नाम लेकर जिम्मेदार ठहरा चुका है।

--आईएएनएस

07:09 PM

गोयल ने नोटबंदी घोटाले को छिपाने नाबार्ड पर दबाव डाला : कांग्रेस

नई दिल्ली, 23 जून (आईएएनएस)। कांग्रेस ने शनिवार को वित्तमंत्री पीयूष गोयल पर आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह के नोटबंदी घोटाले को छिपाने के लिए उन्होंने नाबार्ड को बयान जारी करने को बाध्य किया। कांग्रेस ने मामले की पूरी जांच करवाने की मांग की है।

कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने कहा, पीयूष गोयल ने नाबार्ड पर बयान जारी करने के लिए दबाव डाला। नाबार्ड की वेबसाइट पर जारी बयान भाजपा का बयान प्रतीत होता है, जोकि अमित शाह का बचाव करता है।

उनका आरोप है कि नाबार्ड ने जानबूझकर सूचना का अधिकार (आरटीआई) के जरिए प्रकाश में आए तथ्यों को हटा दिया है, जिसमें 3,118.51 करोड़ रुपये मूल्य के पुराने नोट महज पांच दिनों के दौरान गुजरात के 11 सहकारी बैंकों में जमा होने का खुलासा हुआ है। उन्होंने कहा कि भाजपा के नेता इन बैंकों के साथ जुड़े रहे हैं।

खेड़ा ने कहा, भाजपा और इसके सहयोगियों द्वारा शासित राज्यों के जिला सहकारी बैंकों में महज पांच दिनों में सभी सहकारी बैंकों में जमा प्रतिबंधित नोटों का 64.18 फीसदी यानी 22,270.80 करोड़ रुपये मूल्य के नोट जमा हुए।

राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) द्वारा अहमदाबाद जिला सहकारी बैंक में नोटबंदी के दौरान भारी मात्रा में नोट जमा होने के मामले में भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जारी केवाईसी के दिशानिर्देशों का पालन होने का दावा किए जाने के एक दिन बाद कांग्रेस नेता का यह बयान आया है।

आईएएनएस ने आरटीआई में मिली जानकारी के आधार पर शुक्रवार को अपनी एक खबर में बताया था कि जिला केंद्रीय सहकारी बैंकों में जिस बैंक में नोटबंदी के बाद सबसे ज्यादा प्रतिबंधित नोट जमा हुए थे, अमित शाह उस बैंक के निदेशक हैं।

खेड़ा ने कहा, गोयल ने पीत पत्रकारिता का एक बयान ट्वीट किया है, जोकि संघ के इको-सिस्टम से सीधे लिया गया है और उन्होंने इस तरह की बचकानी बातें कर एक तिनके पकड़ने के लिए अथाह कड़ी मेहनत की है, जोकि आरएसएस-भाजपा के बौद्धिक जगत का एक हालमार्क है।

उन्होंने कहा, मोदी सरकार के लिए यह उचित होगा कि हमारे सरल सवाल का जवाब दे और जिला सहकारी बैंकों में प्रतिबंधित नोटों की जमा में बढ़ोतरी की पूरी जांच का आदेश दे।

उन्होंने गोयल से बतौर अस्थायी वित्तमंत्री मामले की निष्पक्ष जांच का आदेश देने की मांग की।

--आईएएनएस

06:15 PM

लातवियाई महिला की हत्या की जांच से नाखुश परिजन

तिरुवनंतपुरम, 23 जून (आईएएनएस)। केरल में पिछले महीने एक लातवियाई महिला के साथ दुष्कर्म करने के बाद उसकी हत्या कर दी गई थी। महिला के साथी ने शनिवार को कहा कि वह मामले में पुलिस जांच से नाखुश है और अपनी उस याचिका के नतीजे का इंतजार कर रहा है, जिसमें उसने सीबीआई जांच की मांग की है।

एंड्रयू ने मीडिया को बताया, पर्यटन विभाग ने पिछले महीने यहां आयोजित यादगार सभा में हमें हिस्सा लेने से रोक दिया था। पुलिस भी झूठे आरोप लगा रही है।

एंड्रयू ने मुख्यमंत्री पिनरई विजयन से मुलाकात नहीं करने देने पर भी नाखुशी जताई।

पुलिस ने हालांकि मामले के संबंध में दो लोगों को गिरफ्तार किया है। एंड्रयू ने शुक्रवार को सीबीआई जांच की मांग करते हुए केरल उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है।

33 वर्षीय पीड़िता अपने साथी एंड्रयू और बहन इलजी के साथ आयुर्वेदिक उपचार के लिए केरल आई थी। वह 14 मार्च को तिरुवनंतपुरम के बाहरी इलाके से लापता हो गई थी।

उसका शव 20 अप्रैल को प्रसिद्ध कोवलम पर्यटन स्थल के समीप एक कीचड़दार इलाके से सड़ी-गली हालत में मिला था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चला कि उसकी मौत गला घोंटकर की गई थी।

--आईएएनएस

05:58 PM
 इन्फोसिस ने कारोबार बढ़ाने डिजिटल रणनीति पर दांव लगाया

इन्फोसिस ने कारोबार बढ़ाने डिजिटल रणनीति पर दांव लगाया

बेंगलुरू, 23 जून (आईएएनएस)। सॉफ्टवेयर क्षेत्र की अग्रणी कंपनी इन्फोसिस के सह-संस्थापक व अध्यक्ष नंदन एम. नीलेकणि ने शनिवार को कहा कि मौजूदा रोमांचकारी दौर में इन्फोसिस कारोबार बढ़ाने के लिए डिजिटल रणनीति पर दांव लगा रही है।

कंपनी की 37वीं सालाना आम बैठक (एजीएम) में शेयरधारकों को नीलेकणि ने बताया, हम अपने उद्योग के सफर के रोमांचकारी मोड़ पर हैं। आज हम साझेदारी करने और अपने ग्राहकों में इजाफा करने की जितनी संभावनाएं देख रहे हैं, उतनी संभावनाएं मैंने पहले कभी नहीं देखी है। डिजिटल क्रांति से हर उद्योग व क्षेत्र में बदलाव आ रहा है और हम उसमें निमग्न होते जा रहे हैं।

नीलेकणि (63) ने 10.94 अरब डॉलर का कारोबार करने वाली प्रमुख आईटी कंपनी इन्फोसिस में आठ साल बाद दोबारा अगस्त 2017 में अपनी नई पारी की शुरुआत की। पूर्व में कंपनी के सीईओ पद से त्यागपत्र देने के बाद वह केंद्र सरकार के संगठन यूआईडीएआई के प्रमुख की जिम्मेदारी संभाले थे।

बतौर कंपनी अध्यक्ष पहली बार एजीएम की अध्यक्षता करते हुए उन्होंने कहा कि मीडिया, मनोरंजन, स्वास्थ्य और वित्तीय सेवाएं, खुदरा और फार्माश्युटिकल हर जगह डिजिटीकरण का क्षेत्र व्यापाक बनता जा रहा है।

उन्होंने कहा, नवीनतम प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल करके, इंटरनेट ऑफ थिंग्स का लाभ उठाकर ग्राहक सेवा की नई विधि तैयार करके डिजिटल प्रौद्योगिकी व्यवसाय के नये तरीके पैदा कर रही है।

उन्होंने निवेशकों से कहा, जब मैं इन्फोसिस में अगस्त 2017 में दोबारा आया तो कंपनी की स्थिरता को लेकर आप चिंतित थे। हमारा बोर्ड काफी स्थायी है और सब लोग संगठित हैं और हम प्रभावशाली दौर में हैं।

एजीएम में पिछले साल की तरह कंपनी के सह संस्थापक एन. आर.नारायणमूर्ति मौजूद नहीं थे।

--आईएएनएस

08:47 PM
Stock Exchange
Live Cricket Score

Create Account



Log In Your Account