• Last Updates : 10:46 PM
Last Updated At :- 16-12-2018 09:38 PM

भूपेश बघेल हो सकते हैं छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री (लीड-1)

नई दिल्ली, 15 दिसंबर (आईएएनएस)। छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की भारी जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले पार्टी की राज्य इकाई के अध्यक्ष भूपेश बघेल को संभवत: पार्टी ने मुख्यमंत्री पद के लिए चुन लिया है, और इसकी औपचारिक घोषणा रविवार को हो सकती है।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और मुख्यमंत्री पद की दौड़ में चार दावेदारों -भूपेश बघेल, टी.एस. सिंह देव, ताम्रध्वज साहू और चरण दास महंत के बीच यहां राहुल के आवास पर हुई बैठकों के बाद यह खबर बाहर आई है।

कांग्रेस के केंद्रीय पर्यवेक्षक मल्लिकार्जुन खड़गे और छत्तीसगढ़ के पार्टी प्रभारी पी.एल. पुनिया भी बैठक में उपस्थित थे।

विश्वस्त सूत्रों ने कहा कि नेतृत्व का मुद्दा सुलझ गया है और नाम की औपचारिक घोषणा रविवार को रायपुर में नवनिर्वाचित विधायकों की बैठक में की जाएगी।

सूत्रों ने उन खबरों को खारिज कर दिया, जिसमें कहा गया है कि मुख्यमंत्री पद के एक दावेदार साहू ने धमकी दी है कि यदि उन्हें मुख्यमंत्री नहीं बनाया गया तो वह पार्टी से इस्तीफा दे देंगे।

सूत्रों ने यह भी संकेत दिया कि राजस्थान की तरह छत्तीसगढ़ में कोई उपमुख्यमंत्री नहीं होगा।

दुर्ग जिले की पाटन विधानसभा सीट का प्रतिनिधित्व करने वाले बघेल अक्टूबर, 2014 से पार्टी की राज्य इकाई के अध्यक्ष हैं।

पुनिया ने कहा कि रविवार को दोपहर 12 बजे नवनिर्वाचित विधायकों की बैठक होगी और उसके बाद नए मुख्यमंत्री के नाम की घोषणा की जाएगी।

इसके पहले राहुल ने मुख्यमंत्री पद के चारों दावेदारों के साथ अपना एक चित्र साझा करते हुए अमेरिकी इंटरनेट उद्यम रीड हाफमैन के कथन का उद्धरण दिया था : आपका दिमाग और आपकी रणनीति चाहे कितना ही कुशल क्यों न हो, यदि आप अकेले खेलते हैं, तो एक टीम से आप हमेशा हार जाएंगे।

राहुल ने इसके पहले मध्य प्रदेश के घोषित मुख्यमंत्री कमलनाथ और इस पद के दूसरे दावेदार ज्योतिरादित्य सिंधिया के चित्र, तथा राजस्थान के घोषित मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पार्टी की राज्य इकाई के अध्यक्ष सचिन पायलट के चित्र भी ट्वीट किए थे। पायलट को उपमुख्यमंत्री घोषित किया गया है।

 स्टरलाइट संयंत्र खोलने के आदेश के खिलाफ अपील करेगी तमिलनाडु सरकार

स्टरलाइट संयंत्र खोलने के आदेश के खिलाफ अपील करेगी तमिलनाडु सरकार

चेन्नई, 15 दिसम्बर (आईएएनएस)। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के. पलनीस्वामी ने शनिवार को कहा कि राज्य सरकार, राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण (एनजीटी) के तूतीकोरिन स्थित वेदांता समूह के स्टरलाइट कॉपर प्लांट को फिर से खोलने के आदेश के खिलाफ अपील करेगी।

यहां से 360 किलोमीटर दूर सलेम में संवाददाताओं से बातचीत में पलनीस्वामी ने कहा कि राज्य सरकार ने स्टरलाइट संयंत्र को बंद करने का आदेश दिया था।

पलनीस्वामी ने कहा, राज्य सरकार एनजीटी के आदेश के खिलाफ अपील करेगी।

तमिलनाडु के पर्यावरण एवं प्रदूषण नियंत्रण मंत्री के.सी. करुप्पन्नन ने भी समान विचार व्यक्त किए हैं।

करुप्पन्नन ने संवाददाताओं से कहा कि मुख्यमंत्री के. पलनीस्वामी ढृढ़ता से स्टरलाइट तांबा संयंत्र को बंद करने के पक्ष में हैं। उन्होंने कहा, राज्य सरकार सर्वोच्च न्यायालय में एनजीटी के आदेश को चुनौती देगी।

इसबीच पीएमके के संस्थापक एस. रामदास ने कहा कि एनजीटी का फैसला अपेक्षित है और इसमें कुछ भी चौंकाने वाला नहीं है।

रामदास ने कहा कि तांबा संयंत्र को फिर से खोलने का आदेश दिखाता है कि कॉर्पोरेट प्रभुत्व जीत गया है।

रामदास के मुताबिक, राज्य सरकार की संयंत्र को बंद करने में कोई रुचि नहीं है, बल्कि संयंत्र को बंद करने का आदेश इस साल 22 मई को पुलिस गोलीबारी में 13 लोगों की मौत के बाद हालात को काबू करने के लिए दिया गया था।

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) के तमिलनाडु राज्य सचिव आर. मुथरासन ने कहा कि एनजीटी का आदेश हैरान और निराश कर देने वाला है।

--आईएएनएस

09:08 PM
Stock Exchange
Live Cricket Score

Create Account



Log In Your Account