• Last Updates : 09:33 PM

बंगाल में दबाव, धमकी नहीं, सिर्फ प्यार है : ममता

कोलकाता, 16 जनवरी (आईएएनएस)। पश्चिम बंगाल को लेकर निवेशकों के मन में छवि सुधारने तथा पूंजी निवेश को लुभाने के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को कहा कि राज्य के लोग अपने दिल को भारतीय और विदेशी उद्योगपतियों को समर्पित करेंगे, अगर वे राज्य में पूंजी निवेश करते हैं।

उन्होंने उद्योगपतियों को यह भी आश्वासन दिया कि राज्य में कोई दवाब, भेदभाव, और धमकी का माहौल नहीं है और बंगाल में उनके लिए केवल प्रेम और स्नेह है।

उन्होंने कहा, अगर आप बंगाल में निवेश करेंगे, तो राज्य आपको सबकुछ देगा। हम निवेश नहीं कर सकते, लेकिन अपना दिल और अपने आप को आपको समर्पित कर सकते हैं।

बनर्जी ने कहा, हम भारत और भारत की एकता से प्यार करते हैं। हम सहिष्णु हैं। आपको बंगाल में निवेश करना चाहिए। यह राज्य पूरी दुनिया से निवेश आकर्षित कर रहा है, जैसा पहले कभी नहीं था। यहां कोई दवाब, भेदभाव या धमकी नहीं है.. यहां केवल स्नेह, प्रेम और आकर्षण है।

बंगाल व्यापार सम्मेलन में कई जानेमाने उद्योगपतियों ने भाग लिया, जिसमें आर्सेलर मित्तल के एल. एन. मित्तल, जेएसडब्ल्यू स्टील के सज्जन जिंदल, फ्यूचर समूह के किशोर बियानी, कोटक समूह के प्रमुख उदय कोटक और आरपी-संजीव गोयनका समूह के अध्यक्ष संजीव गोयनका प्रमुख थे।

इसके अलावा सम्मेलन में क्रेज रिपब्लिक, फ्रांस, जर्मनी, पोलैंड, इटली, जापान, चीन, दक्षिण कोरिया, ब्रिटेन और संयुक्त अरब अमीरात के प्रतिनिधि भी शामिल हुए।

--आईएएनएस

09:33 PM

डोभाल के भाजपा बैठक में भाग लेने पर माकपा का ईसी को पत्र

नई दिल्ली/अगरतला, 16 जनवरी (आईएएनएस)। मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) की त्रिपुरा इकाई ने मंगलवार को निर्वाचन आयोग (ईसी) को पत्र लिखकर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल के राष्ट्रीय राजधानी में त्रिपुरा, मेघालय व नागालैंड विधानसभा चुनावों को लेकर भाजपा की बैठक में भाग लेने की जांच करने को कहा है।

माकपा की त्रिपुरा राज्य समिति के सचिव बिजन धर ने निर्वाचन आयोग को लिखे पत्र में कहा है कि एनएसए डोभाल की केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह के घर पर भाजपा-आरएसएस की बैठक में शामिल होना केंद्र में सत्तारूढ़ पार्टी द्वारा राजनीतिक लाभ लेने के लिए प्रशासन का जबर्दस्त दुरुपयोग है।

स्थानीय व राष्ट्रीय मीडिया के हवाले से खबर का जिक्र करते हुए धर ने लिखा है, केंद्रीय गृहमंत्री सहित केंद्र के भाजपा नेता, भाजपा के पूर्वोत्तर प्रभारी राम माधव व वरिष्ठ आरएसएस नेता कृष्ण गोपाल ने राजनाथ सिंह के घर पर मुलाकात की। रपट के अनुसार एनएसए अजीत डोभाल भी बैठक में मौजूद थे।

धर ने लिखा, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जैसे महत्वपूर्ण पद वाले व्यक्ति की मौजूदगी सिर्फ अवांछनीय या आपत्तिजनक नहीं है, बल्कि यह केंद्र की सत्तारूढ़ पार्टी द्वारा राजनीतिक लाभ लेने के लिए प्रशासन के दुरुपयोग का एक स्पष्ट उदाहरण भी है।

धर ने ईसी से मामले में एक उचित जांच का आदेश देने और रपट सही पाए जाने पर कठोर कार्रवाई करने का आग्रह किया है।

--आईएएनएस

09:33 PM

व्यापमं घोटाला : सीबीआई ने 95 के खिलाफ आरोपपत्र दायर किया

नई दिल्ली, 16 जनवरी (आईएएनएस)। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने मंगलवार को करोड़ों रुपये के व्यापम परीक्षा घोटाले के 2011 के प्री मेडिकल टेस्ट (पीएमटी) मामले से जुड़े 95 लोगों के खिलाफ आरोपपत्र दायर किया।

सीबीआई के आरोपपत्र में साल 2011 में व्यापमं द्वारा संचालित संविदा शाला शिक्षक पात्रता परीक्षा वर्ग-3 में हुई अनियमितता से जुड़े 83 परीक्षार्थियों, चार व्यापमं अधिकारियों और आठ दलालों के नाम हैं।

व्यवसायिक परीक्षा मंडल (व्यापम) में 2013 में घोटाला सामने आया था, जब परीक्षार्थियों ने अधिकारियों को रिश्वत देकर खुद की कॉपियां दूसरों से लिखवाईं थीं।

यह घोटाला 1995 में शुरू हुआ था, जिसमें नेता, वरिष्ठ अधिकारी और व्यापारी शामिल थे।

सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के बाद सीबीआई ने इस मामले को 2015 में 9 जुलाई को अपने हाथ में लिया था।

यह आरोपपत्र 2011 के प्री-मेडिकल टेस्ट से संबंधित है, जो व्यापमं द्वारा आयोजित परीक्षाओं में अनियमितताओं के कई मामलों में से एक है।

सीबीआई के आरोपपत्र के मुताबिक, व्यापमं के तत्कालीन प्रिंसिपल सिस्टम एनालिस्ट के कंप्यूटर के हार्ड डिस्क से पता चलता है कि अंतिम परिणाम में कई उम्मीदवारों के नंबर बढ़ा दिए गए थे, ताकि वे परीक्षा पास कर जाएं।

--आईएएनएस

09:33 PM

प्रधान न्यायाधीश असंतुष्ट न्यायाधीशों से मिले, बुधवार को फिर बैठक

नई दिल्ली, 16 जनवरी (आईएएनएस)। प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति दीपक मिश्र ने मंगलवार को सर्वोच्च न्यायालय के असंतुष्ट न्यायाधीशों से मुलाकात की और मामलों के आवंटन को लेकर पैदा हुए विवाद को सुलझाने की कोशिश की।

घटनाक्रम की जानकारी रखने वाले सूत्रों ने कहा कि न्यायमूर्ति मिश्र ने मंगलवार सुबह न्यायाधीशों के लाउंज में चाय के दौरान चार न्यायाधीशों- न्यायमूर्ति जे. चेलमेश्वर, रंजन गोगोई, मदन बी. लोकुर और कुरियन जोसेफ- से अलग से मुलाकात की।

सूत्रों ने कहा कि प्रधान न्यायाधीश और चार वरिष्ठतम सहयोगियों के बीच लगभग 15 मिनट बातचीत हुई। बातचीत बेनतीजा रही, लिहाजा बुधवार सुबह इसी तरह की फिर एक बैठक होगी।

सूत्रों ने कहा कि बैठक के दौरान न्यायमूर्ति मिश्र और असंतुष्ट न्यायाधीशों ने सभी लंबित मुद्दों, विवाद के विषय और मतभेदों पर चर्चा की।

सूत्रों ने कहा कि प्रधान न्यायाधीश ने चारों न्यायाधीशों से मुलाकात की पहल की, क्योंकि वे सोमवार सुबह हुई सभी न्यायाधीशों की बैठक के परिणाम से संतुष्ट नहीं थे।

सोमवार को ऐसा लगा कि मामला सुलझ गया है, क्योंकि महान्यायवादी के.के. वेणुगोपाल ने कहा कि 12 जनवरी की घटना चाय की प्याली में तूफान थी और सबकुछ सुलझ गया है।

देश के सर्वोच्च न्यायालय में उस समय अभूतपूर्व संकट पैदा हो गया था, जब चार वरिष्ठतम न्यायाधीशों ने हाल ही में एक संवाददाता सम्मेलन में शीर्ष न्यायालय के कामकाज को लेकर और मामलों को मनमाना तरीके से आवंटित किए जाने को लेकर अपनी नाराजगी जाहिर की थी।

--आईएएनएस

09:32 PM

कांग्रेस और अकाल जुड़वां : मोदी

बाड़मेर (राजस्थान), 16 जनवरी (आईएएनएस)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि कांग्रेस और अकाल जुड़वां हैं, जहां-जहां कांग्रेस जाती है, अकाल वहां पहुंच जाता है। उन्होंने कांग्रेस पर झूठे वादे करके लोगों को बेवकूफ बनाने का आरोप लगाया।

मोदी ने बाड़मेर के पचपदरा में बहुप्रतीक्षित रिफाइनरी परियोजना की आधारशिला रखते हुए कहा, कांग्रेस और अकाल जुड़वां हैं। जहां भी कांग्रेस जाती है, अकाल भी उसका पीछा करते हुए पहुंच जाता है।

मोदी ने कांग्रेस पर यह हमला राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की उस चिट्ठी के बाद किया है जिसमें उन्होंने प्रश्न किया है कि जब चार वर्ष पहले कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी द्वारा इस रिफाइनरी की आधारशिला रखी जा चुकी है तो फिर दोबारा ऐसा करने की क्या जरूरत थी।

मोदी ने कहा, कांग्रेस पार्टी ने परियोजना के नाम पर महज आधारशिला रखकर लोगों को गुमराह किया लेकिन गरीबों के लिए कुछ नहीं किया। हम केवल पत्थर बिठाकर लोगों को मूर्ख नहीं बना सकते। वर्ष 2022 में हम स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे करेंगे और हम यह सुनिश्चित करेंगे कि हमारी रिफाइनरी उसी वर्ष काम करना शुरू कर दे।

उन्होंने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा, हम यह नहीं चाहते कि लोग हमारे पास आए और आधारशिला रखने के बाद पूछें कि आपने इसे लागू करने के लिए क्यों कुछ नहीं किया।

उन्होंने पेट्रोलियम मंत्री धर्मेद्र प्रधान और राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का इस परियोजना को वास्तविक बनाने के लिए सराहना की।

मोदी ने कहा कि कांग्रेस की आदत झूठे वादे कर लोगों को मूर्ख बनाने की है और वन रैंक वन पेंशन (ओआरओपी) परियोजना कभी भी सफल नहीं होती अगर कांग्रेस की योजना को दिमाग में रखा जाता।

उन्होंने कहा, उन लोगों (कांग्रेस) ने ओआरओपी के लिए 500 करोड़ का बजट आवंटित कर हमें भी गुमराह किया। पूरी गणना करने के बाद ओआरओपी का पूरा खर्च 12 हजार करोड़ था। हमने इस संबंध में सेना के अधिकारियों की मदद ली और सुनिश्चित किया कि उनके खाते में 10,004 करोड़ रुपये जमा किए जाएं। बाकी बची हुई राशि भी जल्द ही दे दी जाएगी।

उन्होंने कहा, जब हमने पद संभाला, सबसे पहला काम हमने इसे पता लगाने का किया कि रेलवे बजट में किए गए वादे के अनुसार कितने काम पूरे किए गए। संसद में बस कुछ तालियों के लिए कुछ लोग ऐसे वादे कर देते हैं, जो वो कभी पूरे नहीं कर पाते। हम गुमराह करने की इस संस्कृति के खिलाफ प्रतिबद्ध थे। हमने हर साल रेलवे बजट पेश किए जाने को समाप्त किया क्योंकि यह फर्जी वादे करने के लिए किया जाता था।

मोदी ने कहा कि इससे पहले की सरकार द्वारा 1500 योजनाएं केवल कागजों पर थीं और उन्हें पूरा करने के लिए किसी भी तरह की योजना नहीं बनाई गई थी।

उन्होंने कहा, यह समय संकल्प से सिद्धि का है। हमें निश्चय ही अपने लक्ष्यों और 2022 तक इसे पूरा करने के लिए काम करना है, जब हम स्वतंत्रता के 75 वर्ष मना रहे होंगे।

--आईएएनएस

09:32 PM

अमेरिका पाकिस्तान को यकीन दिला रहा कि भारत खतरा नहीं : मंत्री

इस्लामाबाद, 16 जनवरी (आईएएनएस)। पाकिस्तानी रक्षामंत्री खुर्रम दस्तगीर खान ने कहा है कि अमेरिका पाकिस्तान को यह यकीन दिलाने की कोशिश कर रहा है कि भारत खतरा नहीं है और पाकिस्तान को अपने पड़ोसी के साथ अपने रणनीतिक रुख में बदलाव करना चाहिए।

डॉन ने मंगलवार को दस्तगीर खान के हवाले से कहा, लेकिन सच्चाई तो सच्चाई है। भारत की क्षमता व मंशा दोनों आज पाकिस्तान के प्रति शत्रुतापूर्ण है।

मंत्री ने कहा कि पाकिस्तान को बलि का बकरा बनाया जा रहा है, क्योंकि अमेरिका अफगानिस्तान में जीत नहीं रहा है।

उन्होंने कहा कि नियंत्रण रेखा (एलओसी) व सीमा पर भारत के आक्रामक रुख को अमेरिका वास्तविकता से कम आंक रहा है।

उन्होंने सभी तरह की गलतफहमी को दूर करने के लिए अमेरिका से स्पष्ट रूप से वार्ता की मांग की।

दस्तगीर खान ने कहा, यह समय अमेरिका व पाकिस्तान के साथ शिष्ट व स्पष्ट रूप से सभी चीजों पर वार्ता का है।

उन्होंने आरोप लगाया कि भारत ने पाकिस्तान से लगी सीमा पर सामग्री व सेना जमा कर रखा है।

उन्होंने कहा कि भारत आज तेजी से युद्ध करने वाला पड़ोसी है।

उन्होंने 2017 को एलओसी उल्लंघन में व नागरिकों की हत्याओं को लेकर सबसे घातक साल बताया।

मंत्री ने कहा, मौजूदा भारत सरकार द्वारा लगातार शत्रुतापूर्ण व पाकिस्तान विरोधी रुख से शांति के समर्थन के लिए जगह काफी कम हो गई है।

दस्तगीर खान ने कहा कि भारत सरकार ने पाकिस्तान की निंदा तेज कर दी है।

नेशन डॉट कॉम पीके ने मंत्री के हवाले से कहा, कुलभूषण जाधव का मामला दूसरे देशों में अशांति पैदा करने के प्रयास का प्रमाण है।

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान एक जिम्मेदार परमाणु देश है और यह अपनी व्यापक बचाव की नीति जारी रखेगा।

--आईएएनएस

08:25 PM

मोदी ने बाड़मेर रिफाइनरी परियोजना की आधारशिला रखी (लीड-2)

बाड़मेर (राजस्थान), 16 जनवरी (आईएएनएस)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को यहां 43,129 करोड़ रुपये की रिफाइनरी परियोजना की आधारशिला रखी और कहा कि यह राजस्थान के आर्थिक परिदृश्य को बदल कर रख देगी।

मोदी ने इस अवसर पर लोगों को संबोधित करते हुए कहा, राजस्थान ने देश की ऊर्जा शक्ति बनने के लिए बढ़त बना ली है।

यह रिफाइनरी हिन्दुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड और राजस्थान सरकार का संयुक्त उद्यम है, जिसकी क्षमता सालाना 90 लाख लीटर कच्चे तेल को परिशोधित करने की होगी।

रिफाइनरी का काम 2022 तक पूरा होने की संभावना है। एक बार परियोजना पूरी हो जाने के बाद इससे राज्य सरकार को प्रति वर्ष 34 हजार करोड़ रुपये का लाभ होगा।

मोदी ने इस परियोजना को वास्तविकता बनाने के लिए पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान और राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के प्रयासों की सराहना की।

उन्होंने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा, हम यह नहीं चाहते कि लोग हमारे पास आए और हमसे पूछें कि पत्थर लगाने के बाद आपने इसे पूरा करने का काम क्यों नहीं किया।

मोदी ने कहा, हम पत्थर लगाकर लोगों को गुमराह नहीं कर सकते। 2022 में जब हम आजादी के 75 वर्ष पूरे कर लेंगे, हम यह सुनिश्चित करेंगे की रिफाइनरी उसी वर्ष काम करना शुरू कर दे।

इस परियोजना की आधारशिला चार साल पहले कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने रखी थी।

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया ने राजस्थान रिफाइनरी का दो बार उद्घाटन करने पर कांग्रेस को आड़े हाथ लिया और कहा, हम पत्थर लगाने में विश्वास नहीं करते हैं, बल्कि इमारत बनाने के लिए हम कठिन परिश्रम करते हैं। हम अपने प्रयास को वास्तविकता में बदलने का काम करते हैं।

कांग्रेस सरकार पर आधारशिला रखने के बाद परियोजना के संबंध में कुछ नहीं करने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा, इस परियोजना के लिए कोई योजना, कोई गंभीरता और लागू करने के लिए कोई इरादा नहीं था। हम इसे काफी योजनाबद्ध तरीके से लेकर आए हैं।

पेट्रोलियम मंत्री प्रधान ने भी लोगो को संबोधित करते हुए कहा कि रिफाइनरी से राज्य में काफी विकास होगा।

--आईएएनएस

08:24 PM

पद्मावत पर प्रतिबंध को लेकर करणी सेना का प्रदर्शन

जयपुर, 16 जनवरी (आईएएनएस)। श्री राजपूत करणी सेना ने एक बार फिर अपनी ताकत दिखाते हुए मंगलवार को राजस्थान के धौलपुर में संजय लीला भंसाली की विवादास्पद फिल्म पद्मावत को पूरे देश में प्रतिबंध लगाने के लिए विरोध-प्रदर्शन किया। सेना के कार्यकर्ताओं ने धमकी दी है कि अगर फिल्म का प्रदर्शन रोका नहीं गया तो वे सामूहिक आत्मदाह करेंगे। फिल्म 25 जनवरी को रिलीज के लिए तैयार है।

रैली की अगुवाई राजपूत करणी सेना के लोकेंद्र सिक कल्वी ने की। रैली में हजारों की संख्या में महिलाओं को भी देखा गया।

करणी सेना के एक वरिष्ठ सदस्य ने आईएएनएस को बताया, धौलपुर को रैली के लिए इसलिए चुना गया, क्योंकि हम चाहते हैं कि उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ सरकार भी इस फिल्म पर प्रतिबंध लगाए। हरियाणा सरकार ने मंगलवार(आज) को ही फिल्म पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की है।

उन्होंने कहा, इससे पहले, हमने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर से इस फिल्म पर प्रतिबंध लगाने का आग्रह किया था और उन्होंने हमें आश्वस्त किया था कि एक बार इसके कानूनी पहलुओं को देखने के बाद फिल्म को प्रतिबंधित कर दिया जाएगा।

उन्होंने कहा, हम चाहते हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस मामले को देखे और पूरे भारत में इस फिल्म पर प्रतिबंध लगाए। हमने 14 जनवरी को गृहमंत्री राजनाथ सिह से मुलाकात की थी और फिल्म की रिलीज के बाद देश के समक्ष उत्पन्न होने वाली चुनौतियों से उन्हें अवगत कराया था।

उन्होंने कहा, केंद्र सरकार ने इस मामले पर चुप्पी क्यों साध रखी है, यह हमारी समझ से परे है।

करणी सेना के सदस्य के अनुसार, 1700 महिलाओं ने अपना नाम, पता और परिवार से मिले स्वीकृति पत्र को चित्तौरगढ़ के जौहर समिति में पंजीकृत कराया है।

उन्होंने कहा, अगर फिल्म का प्रदर्शन नहीं रोका गया तो, वे सामूहिक आत्मदाह करेंगे। पुरुष तलवार के साथ फिल्म की स्क्रीनिंग रुकवाने के लिए सिनेमा हॉल जाएंगे।

प्रदर्शन के मद्देनजर, चित्तौड़गढ़ जाने वाले सभी राजमार्गो को बाधित कर दिया गया है।

उन्होंने कहा कि अगर 25 जनवरी को फिल्म रिलीज होती है तो गणतंत्र दिवस समारोह एक काले दिन के रूप में बदल जाएगा, क्योंकि पूरे देश में उस दिन युद्ध जैसी स्थिति पैदा हो जाएगी।

सदस्य ने कहा, हमलोग 22 जनवरी से दिल्ली के जंतर-मंतर पर भी बड़े प्रदर्शन की योजना बना रहे हैं, जहां भव्य प्रदर्शन करने के लिए पूरे देश से राजपूत समुदाय के लोग एकत्रित होंगे।

यह पूछे जाने पर कि क्या करणी सेना अजमेर और अलवर उपचुनाव में कांग्रेस का समर्थन करेगी? उन्होंने कहा, केंद्र सरकार की चुप्पी को देखते हुए और आनंदपाल मुद्दे पर सीबीआई जांच की मांग कर रहे श्री करणी सेना के सदस्यों के साथ हुए अन्याय को देखते हुए, करणी सेना के सदस्य उपचुनाव में भाजपा की हार सुनिश्चित करने के प्रयास करेंगे।

--आईएएनएस

07:37 PM

देश के मुद्दों पर विदेश में चर्चा करना अपरिपक्वता : राजनाथ (लीड-1)

नई दिल्ली, 16 जनवरी (आईएएनएस)। केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को कांग्रेस द्वारा राष्ट्र के मुद्दों को विदेश में उठाने के कदम को अपरिपक्वता बताया और कहा कि यही वजह है कि लोग विपक्षी दल (कांग्रेस) को खारिज कर रहे हैं।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की दिल्ली इकाई की कार्यकारिणी की बैठक में कार्यकर्ताओं को अपने संबोधन में राजनाथ सिंह ने कहा, अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर राष्ट्रीय मुद्दों को ले जाकर कांग्रेस नेतृत्व ने अपनी अपरिपक्वता दिखाई है और लोग कांग्रेस को लगातार चुनावों में खारिज कर रहे हैं।

केंद्रीय गृहमंत्री, कांग्रेस अध्यक्ष राहुला गांधी के हाल के बहरीन दौरे का जिक्र कर रहे थे, जिसमें राहुल गांधी ने कहा था कि भारत में रोजगार सृजन आठ वर्षो में निचले स्तर पर है।

बहरीन में भारतीय प्रवासियों को अपने संबोधन में राहुल गांधी ने कहा था कि नरेंद्र मोदी सरकार के तहत भारत दो खतरों का सामना कर रहा है, इसमें रोजगार सृजन में अक्षमता व घृणा व विभाजकारी ताकतों का उभार शामिल है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व पार्टी अध्यक्ष अमित शाह की प्रशंसा करते हुए गृहमंत्री ने कहा, दोनों में अनुकरणीय संगठनात्मक कौशल है और इसका परिणाम दिख रहा है। अब हमारी 19 राज्यों में सरकारें हैं।

टकराव की राजनीति को लेकर दिल्ली की आम आदमी पार्टी (आप) सरकार पर निशाना साधते हुए गृहमंत्री ने कहा, केंद्र सरकार, दिल्ली सरकार को सभी तरह का समर्थन देने के लिए तैयार है, लेकिन यह दुखद है कि दिल्ली सरकार द्वारा की जा रही टकराव की राजनीति बाधा बनी हुई है।

राजनाथ सिंह ने कहा, हम चाहते हैं कि टकराव की राजनीति से दूर रहे।

उन्होंने राष्ट्रीय राजधानी में सीलिंग के संकट को हल करने का आश्वासन दिया।

गृहमंत्री ने पार्टी कार्यकर्ताओं से लोगों का विश्वास हासिल करने व जमीनी स्तर पर कार्य सुनिश्चित करने का आह्वान किया।

उन्होंने कहा, हमें राजनीति में सब चलता है का रवैया छोड़ना होगा।

उन्होंने कहा, हमें समाज को बेहतर बनाने के लिए कार्य करने की जरूरत है।

केंद्र सरकार के कामकाज की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा, दुनिया व देश के लोगों का मानना है कि भारत में शासन के लिए भाजपा बेहतरीन पार्टी है। एक अंतर्राष्ट्रीय सर्वे में सामने आया है कि 88 फीसदी मानते हैं कि मोदी भारत के बेहतरीन प्रधानमंत्री हैं..जबकि 70 फीसदी ने भाजपा को बेहतरीन राजनीतिक पार्टी के तौर पर रेटिंग दी है।

राजनाथ सिंह पीयू रिसर्च सेंटर के एक सर्वेक्षण का जिक्र कर रहे थे जिसे 2464 भारतीय पर किया गया था।

उन्होंने कहा भारत स्थिर जीडीपी के साथ तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था है। दुनिया में निवेशक भारत की तरफ आशा भरी नजरों से देख रहे हैं।

उन्होंने कहा, मौजूदा समय में हमारे पास सबसे ज्यादा विदेशी मुद्रा भंडार है।

भाजपा के वरिष्ठ नेता ने कहा, मैं खुद जमीनी स्तर से उभर कर आया हूं व समझता हूं कि दिल्ली में सबसे कुशल राजनीतिक कार्यकर्ता हैं। मैं पार्टी कार्यकर्ताओं से उनके राजनीतिक नैतिक अधिकार को बढ़ाने व राजनीति को जनता के सेवा का माध्यम बनाने की अपील करता हूं।

उन्होंने जोर दिया कि भाजपा एक कैडर आधारित पार्टी है और निस्वार्थ व मेहनती नेतृत्व ने इसे 70 सालों में उभारा है। उन्होंने कहा कि हमें इस नेतृत्व के दिशा-निर्देश का पालन करना है।

--आईएएनएस

07:35 PM

गोवा : मंत्री ने कर्नाटक सरकार को झूठा बताया

पणजी, 16 जनवरी (आईएएनएस)। कन्नड़ लोगों को हरामी कहने के कुछ दिनों बाद गोवा के जल संसाधन मंत्री विनोद पालिनकर ने मंगलवार को महादेई जल विवाद को लेकर कर्नाटक सरकार पर आदतन झूठ बोलने का आरोप लगाया।

पालिनकर ने मंगलवार को फेसबुक पर अपलोड किए एक पोस्ट में कर्नाटक सरकार पर अपने विशेषज्ञ गवाह को न्यायाधिकरण के सामने पेश होने से पहले भुगतान करने का आरोप लगाया, जिसे उन्होंने अनुचित करार दिया।

पालिनकर ने कहा, कर्नाटक के डब्ल्यूआरडी मंत्री ने कहा कि उन्होंने किसी चीज का उल्लंघन नहीं किया है। कर्नाटक सरकार को महादेई मुद्दे पर झूठ बोलने की आदत है। हम तस्वीरों के साक्ष्य के साथ अवमानना दाखिल करेंगे।

उन्होंने आगे अपनी पोस्ट में कहा, गोवा कभी अपने गवाहों को भुगतान नहीं करता। हमारे गवाह महादेई मामले को ध्यान में रखकर काम करते हैं। कर्नाटक के गवाह ए.के.गोसाई ने कबूल किया कि उन्हें 50 हजार प्रतिदिन कर्नाटक सरकार की तरफ से गवाह बनने के लिए भुगतान किया गया है और पांच लाख रुपये रिपोर्ट तैयार करने के लिए।

फेसबुक पोस्ट में कर्नाटक जल संसाधन विभाग के विशेष कार्य अधिकारी एम.सतीश कुमार द्वारा हस्ताक्षरित एक नोट की छायाप्रति भी है, जिसमें अधिकारी न्यायाधिकरण के समक्ष प्रासंगिक रिपोर्ट रखने के लिए विशेषज्ञ के तौर पर प्रोफेसर ए.के.गोसाईं को भुगतान करने की बात कहते हैं।

पालिनकर ने शनिवार को कन्नड़ लोगों को हरामी कह कर विवाद खड़ा कर दिया था। कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया व कर्नाटक के पूर्व भाजपा नेता बी.एस. येदियुरप्पा ने गोवा के मंत्री के बयान की निंदा की। इसके बाद मंत्री ने अपनी टिप्पणी के लिए माफी मांग ली।

गोवा, कर्नाटक व महाराष्ट्र में महादेई नदी पर कलसा-भंडुरा बांध परियोजना को लेकर न्यायाधिकरण में विवाद चल रहा है, कर्नाटक महादेई बेसिन से पानी पास के मालप्रभा नदी में मोड़ना चाहता है।

महादेई नदी को मंडोवी के नाम से भी जानते हैं। यह तटीय राज्य के उत्तरी हिस्से की जीवन रेखा मानी जाती है। इसका उद्गम स्थल कर्नाटक है और पणजी गोवा में यह अरब सागर में मिल जाती है।

नदी का 28.8 किमी हिस्सा कर्नाटक में और 50 किमी से ज्यादा हिस्सा गोवा में पड़ता है।

मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने बीते महीने येदियुरप्पा को एक पत्र लिखा था, जिसमें उनसे मानवीय आधार पर पीने के पानी की साझेदारी की चर्चा की बात कही थी। इसे लेकर गोवा व कर्नाटक में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए थे।

--आईएएनएस

07:08 PM
 रिलायंस निप्पन लाइफ एस्सेट देगी 5 फीसदी अंतरिम लाभांश

रिलायंस निप्पन लाइफ एस्सेट देगी 5 फीसदी अंतरिम लाभांश

मुंबई, 16 जनवरी (आईएएनएस)। रिलायंस निप्पन लाइफ एस्सेट मैनेजमेंट लि. ने मंगलवार को बताया कि चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में कंपनी को 130 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ है और कंपनी ने शेयरधारकों को पांच रुपये प्रति शेयर लाभांश जारी करने घोषणा की है।

यहां जारी बयान में रिलांयस म्यूचुअल फंड की संपत्ति का प्रबंधन करने वाली कंपनी ने कहा है कि 31 दिसंबर, 2017 को समाप्त तिमाही में कंपनी ने 130 करोड़ रुपये का मुनाफा दर्ज किया है, जो सालाना आधार पर 25 फीसदी की बढ़ोतरी है।

समीक्षाधीन अवधि में कंपनी का राजस्व 470 करोड़ रुपये रहा, जोकि साल-दर-साल आधार पर 31 फीसदी की बढ़ोतरी है।

कंपनी के निदेशक मंडल ने पांच रुपये प्रति शेयर लाभांश जारी करने की घोषणा की है।

कंपनी के कार्यकारी निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी संदीप सिक्का के हवाले से बयान में कहा गया है, हम लाभप्रद विकास की तरफ ध्यान जारी रखेंगे और भारत आ रहे खुदरा निवेशकों और विदेशी निवेशकों से पूंजी बाजार में सबसे अधिक हिस्सा प्राप्त करेंगे।

2017 के 31 दिसंबर तक कंपनी के प्रबंधन में 3,87,871 करोड़ रुपये की परिसंपत्तियां थीं।

--आईएएनएस

09:33 PM
Stock Exchange
Live Cricket Score

Create Account



Log In Your Account