• Last Updates : 09:57 PM

करतारपुर मामले में पाक सेना की बड़ी साजिश की बू : अमरिंदर

चंडीगढ़, 9 दिसम्बर (आईएएनएस)। करतारपुर गलियारे पर पाकिस्तान द्वारा शुरू की गई पूरी प्रक्रिया को पाकिस्तान सेना द्वारा रची गई एक बड़ी साजिश करार देते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा है कि पड़ोसी दुश्मन पंजाब में आतंकवाद को फिर से जीवित करने का प्रयास कर रहा है, लेकिन वह अपने मंसूबे में सफल नहीं हो पाएगा।

इमरान खान के प्रधानमंत्री पद की शपथ लेने से पहले नवजोत सिंह सिद्धू को करतारपुर गलियारा खोलने की खबर देने वाले पाकिस्तान सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा का हवाला देते हुए अमरिंदर ने कहा कि पूरी प्रक्रिया से बड़ी साजिश की बू आ रही है।

अमरिंदर ने एक टीवी समाचार चैनल को बताया, करतरपुर गलियारे को खोलना स्पष्ट रूप से आईएसआई (पाकिस्तान की इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस) का एक गेम प्लान है। ऐसा लगता है कि पाकिस्तान सेना ने भारत के खिलाफ एक बड़ी साजिश रची है। पाकिस्तान, पंजाब में आतंकवाद को फिर से जीवित करने का प्रयास कर रहा है और सभी को उसके इस हथकंडे से सावधान रहना चाहिए, इससे फर्क नहीं पड़ता कि वे कितने बड़े दिख रहे हैं।

अमरिंदर ने कहा, सिद्धू के मामले को अनावश्यक रूप से इतना बढ़ाया जा रहा है और जो भी इसे बढ़ा रहे हैं, वे आईएसआई की इस साजिश को स्पष्ट रूप से देखने में असफल रहे हैं। मुख्यमंत्री के प्रवक्ता ने रविवार को यहां अकाली दल के नेताओं पर पंजाब मंत्री को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के चमचे के रूप में संबोधित करने को लेकर भी निशाना साधा।

उन्होंने कहा कि यह मुद्दा श्रेय लेने की होड़ से ज्यादा कुछ नहीं है, और इसके साथ ही उन्होंने अकाली दल और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के केंद्रीय नेतृत्व पर सिद्धू के साथ उनके संबंधों पर अनचाहे विवाद में संलिप्त होने के लिए हमला बोला।

अमरिंदर ने कहा कि दोनों दलों का मकसद सीमा राज्य को अस्थिर करने के उद्देश्य के साथ लोगों का ध्यान पंजाब में आतंकी गतिविधियों में पाकिस्तान की निरंतर संलिप्तता के मूल मुद्दे से भटकाना है।

--आईएएनएस

09:19 PM

म्यांमार पर ट्वीट के लिए चौतरफा घिरे जैक

सैन फ्रांसिस्को, 9 दिसम्बर (आईएएनएस)। ट्विटर के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जैक डोरसी म्यांमार को एक पर्यटक गंतव्य के रूप में प्रचारित करने के लिए आलोचना का शिकार हुए हैं। जबकि देश मानवाधिकार उल्लंघन को लेकर व्यापक तौर पर आरोपों का सामना कर रहा है। इससे पहले जैक पर नवंबर में भारत के अपने दौरे के दौरान हिंदू भावनाओं को आहत करने पर मामला भी दर्ज हुआ था।

एक सिलसिलेवार ट्वीट में जैक ने कहा था कि उन्होंने मन की शांति के लिए नवंबर में उत्तरी म्यांमार की यात्रा की थी।

उन्होंने अपने 40 लाख प्रशंसकों को यात्रा के लिए प्रोत्साहित करते हुए कहा, वहां के लोग खुशमिजाज हैं और खाना लाजवाब है।

इस ट्वीट के बाद ट्विटर प्रमुख को व्यापक आलोचना झेलनी पड़ी। कुछ लोगों ने उनके ऊपर मुस्लिम रोहिंग्या अल्पसंख्यकों की दुर्दशा को नजरअंदाज करने का आरोप लगाया।

2017 में, रोहिंग्या आतंकवादियों द्वारा कई पुलिस चौकियों पर हमले किए जाने के बाद म्यांमार सेना ने हिंसक कार्रवाई शुरू की थी। हजारों लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया था और मानवाधिकार संगठनों ने कहा था कि सेना ने खेतों को जला दिया था और मनमाने ढंग से हत्याएं व दुष्कर्म किए थे।

जैक के ट्वीट के जवाब में एक ट्विटर उपयोगकर्ता ने लिखा, इस समय उनके लिए मुफ्त में एक पर्यटन विज्ञापन लिखना निन्दनीय है।

--आईएएनएस

08:28 PM

हरियाणा : दुष्यंत चौटाला ने नई पार्टी बनाई

चंडीगढ़, 9 दिसम्बर (आईएएनएस)। इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) के निष्कासित नेता और हिसार से मौजूदा सांसद दुष्यंत चौटाला ने रविवार को हरियाणा के जींद कस्बे में एक रैली के दौरान जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) की घोषणा की।

दुष्यंत इनेलो के अध्यक्ष ओम प्रकाश चौटाला के पोते हैं। ओम प्रकाश चौटाला फिलहाल तिहाड़ जेल में बंद हैं।

नई पार्टी का प्रमुख कौन होगा, इसकी घोषणा नहीं की गई है।

दुष्यंत इनेलो के टिकट पर हिसार संसदीय सीट से निर्वाचित हुए थे, लेकिन दो नवंबर को उन्हें पार्टी विरोधी गतिविधियों के कारण पार्टी से निष्कासित कर दिया गया।

जींद में रैली को संबोधित करते हुए दुष्यंत ने कहा कि उनकी लड़ाई सिद्धांतों पर है और नई पार्टी हरियाणा के लोगों के अधिकारों के लिए लड़ेगी। रैली में हजारों की संख्या में लोग पहुंचे थे।

नई पार्टी का गठन ऐसे वक्त में हुआ है, जब लोकसभा चुनाव में महज तीन-चार महीने का समय बचा है और हरियाणा में अगले साल अक्टूबर में विधानसभा चुनाव हो सकते हैं। नई पार्टी ने इनेलो और चौटाला परिवार में विभाजन की दीवार खड़ी कर दी है।

--आईएएनएस

08:16 PM

जो सत्ता में हैं, उन्हें राम मंदिर पर सकारात्मक कदम उठाना चाहिए : आरएसएस

नई दिल्ली, 9 दिसम्बर (आईएएनएस)। संसद के शीतकालीन सत्र से पहले सरकार पर अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए विधेयक लाने का दबाव बनाते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने रविवार को आंदोलन को एक और धक्का देने का आह्वान किया और कहा कि जो सत्ता में हैं उन्हें जनता की भावनाओं का सम्मान करना चाहिए और सकारात्मक कदम उठाने चाहिए।

राष्ट्रीय राजधानी के रामलीला मैदान में विश्व हिंदू परिषद (विहिप) की धर्म सभा को संबोधित करते हुए वरिष्ठ आरएसएस पदाधिकारी सुरेश भैय्याजी जोशी ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को राम मंदिर पर उसका पालमपुर प्रस्ताव याद दिलाया और कहा कि अब कोई विकल्प नहीं है और सरकार को इस पवित्र काम के लिए साहस दिखाते हुए आगे आने की जरूरत है।

भगवान राम के हजारों श्रद्धालुओं, संतों और धार्मिक गुरुओं की मौजूदगी में जोशी ने कहा, उन्होंने एक प्रस्ताव पारित किया था कि राम मंदिर वहीं बनाएंगे। अब वक्त आ गया है कि उस प्रस्ताव का सम्मान किया जाए। बिना कोई हिचकिचाहट के उन्हें अपनी प्रतिबद्धता को पूरा करने की ओर आगे बढ़ना चाहिए।

विहिप की धर्म सभा 11 दिसंबर को शुरू होने वाले संसद के शीतकालीन सत्र से दो दिन दिन पहले हुई है।

उन्होंने कहा कि न्यायपालिका का अपना तरीका है, लेकिन लोकतंत्र में संसद के अपने अधिकार हैं और वर्तमान सरकार को कानून तैयार करने की दिशा में पहल करनी चाहिए।

उन्होंने कहा, अब कोई अन्य विकल्प नहीं है। इस पवित्र कार्य के लिए उन्हें साहस दिखाने के लिए आगे आने की जरूरत है। यह सभी राम भक्तों का अनुरोध है। हम भीख नहीं मांग रहे हैं। हम केवल अपने विचार व्यक्त कर रहे हैं। इन भावनाओं के सम्मान में सत्ता की एक बड़ी भूमिका है। मेरा मानना है कि जो सत्ता में हैं, वे इन भावनाओं को समझेंगे और सकारात्मक कदम उठाएंगे।

जोशी ने कहा कि राम मंदिर का निर्माण देश में राम राज्य लाएगा और जब तक इसका निर्माण नहीं हो जाता, तब तक आंदोलन जारी रहेगा।

जय श्री राम और राम लला हम आएंगे, मंदिर वहीं बनाएंगे के नारों के बीच उन्होंने कहा, कितने समय तक हम भगवान राम को इस अस्थायी व्यवस्था में रहते देखेंगे? यह समाप्त होना चाहिए। स्थाई निवास का कालखंड अंतिम ओर चल पड़ा है, इसे अंतिम धक्का देने की आवश्यकता है। हम सभी भगवान राम को भव्य मंदिर में देखना चाहते हैं। मंदिर का निर्माण देश में राम राज्य की नींव रखेगा। यह तय करेगा कि किस दिशा में देश आगे बढ़ेगा। मंदिर के निर्माण तक आंदोलन जारी रहेगा।

जोशी ने कहा, सत्ता सर्वोच्च नहीं होती लेकिन यह एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। सत्ता के गलियारे में बैठे लोगों को जनता की भावनाओं को समझने की जरूरत है। मुझे विश्वास है कि ना केवल वे इससे अवगत हैं बल्कि वे मंदिर के इस मुद्दे पर इस भावना से सहमत भी हैं।

उन्होंने सर्वोच्च न्यायालय पर भी निशाना साधते हुए कहा कि जिस देश के लोगों का न्यायपालिका में कोई विश्वास नहीं होता, वो देश कभी प्रगति नहीं कर सकता। उन्होंने कहा, न्यायपालिका को भी इस पर विचार करने की जरूरत है।

सभा को संबोधित करते हुए साध्वी ऋतंभरा ने कहा कि सरकार को अपने खुद के लोगों की बात सुननी चाहिए और अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण के लिए मार्ग प्रशस्त करना चाहिए।

उन्होंने कहा, अपनों की आवाज अपनों को सुननी चाहिए और राम मंदिर का मार्ग प्रशस्त होना चाहिए।

उन्होंने हिंदुओं की भावनाओं को नजरअंदाज करने के लिए भाजपा पर तंज भी कसा।

उन्होंने कहा, जो लोग भगवान राम के बारे में बात करते थे वे सत्ता का मजा ले रहे हैं लेकिन भगवान राम अभी भी तंबू में हैं। भगवान राम को तंबू में देखना बेहद दुखद है। भगवान राम की विशाल प्रतिमा का निर्माण करने का कोई मतलब नहीं जब तक की अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण नहीं हो जाता। भारत का गौरव अपने स्थान पर रखने में ही सत्ता का कोई अर्थ है।

जैन समुदाय के धर्म गुरू लोकेश मुनी ने सरकार से संसद के शीतकालीन सत्र में मंदिर निर्माण के लिए कानून लाने को कहा।

उन्होंने कहा, अगर मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक से बचाने के लिए विधेयक लाया जा सकता है तो राम मंदिर के लिए क्यों नहीं? सरकार को संसद में विधेयक लाना चाहिए और वह भी इस शीत सत्र में। यह स्पष्ट कर देगा कि कौन इसके समर्थन में है और कौन इसके विरोध में। जो इसका विरोध करेंगे वह 2019 लोकसभा चुनाव में नहीं जीतेंगे।

--आईएएनएस

08:06 PM

मे ने सांसदों से कहा, ब्रेक्जिट नहीं होने पर नए चुनाव संभव

लंदन, 9 दिसम्बर (आईएएनएस)। यूरोपीय संघ (ईयू) से ब्रिटेन के अलग होने के निर्णय ब्रेक्जिट पर होने वाले बेहद महत्वपूर्ण मतदान से दो दिन पहले ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे ने सांसदों को चेताया कि अगर उन्होंने इस मामले में उनके (मे) द्वारा प्रस्तावित समझौते को ठुकराया तो उन्हें बेहद कठिन परिस्थितियों (अनचार्टेड वॉटर्स) का सामना करना पड़ सकता है।

मे ने कहा कि ब्रेक्जिट नहीं होने के वास्तविक खतरे मौजूद हैं और अगर सांसदों ने ऐसा किया तो उन्हें नए आम चुनाव का सामना करना पड़ सकता है।

मेल से बातचीत में उन्होंने कहा कि उनके प्रस्तावों को ठुकराए जाने का अर्थ युनाइटेड किंगडम के लिए भारी अनिश्चितता होगा।

मे का कहना है कि उनके द्वारा प्रस्तावित डील (ईयू से अलग होने के तौर-तरीके, नियम-कायदे) देश के लिए सर्वाधिक बेहतर है। यह साफ नहीं है कि अगर यह डील खारिज हो जाती है तो फिर आगे क्या होगा।

मे ने कहा, मुझे उम्मीद है कि लोग इस बात को समझेंगे कि जब मैं कहती हूं कि यह डील अगर पारित नहीं हुई तो हम निश्चित ही गंभीर दिक्कतों में पड़ेंगे तो मैं पूरी शिद्दत से इसमें विश्वास रखती हूं और इसके खतरों के प्रति सचेत हूं।

उन्होंने कहा, ब्रेक्जिट के नहीं होने के खतरे या ईयू को बिना किसी करार के छोड़ने का अर्थ देश के लिए बहुत बड़े पैमाने की अनिश्चितता की शक्ल में सामने आएगा।

इस बीच प्रधानमंत्री कार्यालय ने इन अनुमानों को खारिज किया है कि ब्रेक्जिट प्रस्ताव पर मंगलवार को होने वाले मतदान को टाल दिया गया है।

ब्रिटेन में हुए जनमत संग्रह में लोगों ने अपने देश को ईयू से अलग करने पर मुहर लगाई थी। नवंबर में ब्रिटेन ने ब्रेक्जिट डील पर सहमति जताई थी लेकिन इसे संसद से पारित होना अभी बाकी है।

--आईएएनएस

07:50 PM

महिला आरक्षण विधेयक के लिए कांग्रेस मुख्यमंत्रियों को राहुल का पत्र

नई दिल्ली, 9 दिसम्बर (आईएएनएस)। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने लोकसभा व राज्य विधानसभाओं में महिलाओं के लिए एक-तिहाई आरक्षण की मांग करने के लिए राज्यों की कांग्रेस/गठबंधन सरकारों को पत्र लिखकर अपनी-अपनी विधानसभाओं में एक प्रस्ताव पारित करने को कहा है।

गांधी ने कांग्रेस और सहयोगी मुख्यमंत्रियों को लिखे पत्र में कहा है, अगले संसद सत्र में महिलाओं के लिए लोकसभा और राज्य विधानसभाओं में एक-तिहाई आरक्षण के लिए विधेयक पारित कराने के लिए राज्य विधानसभाओं में प्रस्ताव पारित होने से हमारे समर्थन को मजबूती मिलेगी।

संसद में महिलाओं के प्रतिशत में भारत का स्थान 193 देशों में से 148 पर है, जिसका जिक्र करते हुए गांधी ने कहा कि राज्य विधानसभाओं में हालात और भी बुरे हैं।

गांधी ने छह दिसंबर को लिखे अपने पत्र में कहा है, हमारी राजनीति में महिलाओं को पर्याप्त प्रतिनिधित्व नहीं मिलने से हमारे लोकतंत्र और मौजूदा प्रणाली में अन्याय की आशंका बढ़ जाती है। महिलाओं ने न केवल स्थानीय स्वशासन निकायों में अपने आप को बेहतर अगुवा सिद्ध किया है, बल्कि उन लैंगिक परंपराओं को भी चुनौती दी है, जो सार्वजनिक जिंदगी में उनकी भूमिका को सीमित करती हैं।

यह विधेयक राज्यसभा में 2010 में पारित हुआ था, लेकिन 2014 में 15वीं लोकसभा के भंग होने के बाद यह कालातीत हो गया।

गांधी के अलावा, ओडिशा के मुख्यमंत्री और बीजद अध्यक्ष नवीन पटनायक ने भी गुरुवार को सभी मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखकर महिलाओं के लिए 33 फीसदी आरक्षण सुनिश्चित करने के लिए उनका समर्थन मांगा है।

--आईएएनएस

05:56 PM

संसद के शीतकालीन सत्र में ओडिशा के लिए विशेष राज्य का दर्जा मांगेगा बीजद

भुवनेश्वर, 9 दिसम्बर (आईएएनएस)। बीजू जनता दल (बीजद) ने 11 दिसंबर से शुरू होने जा रहे संसद के शीतकालीन सत्र में अन्य मुद्दे उठाने के साथ ही ओडिशा के लिए विशेष राज्य का दर्जा मांगने का फैसला किया है।

बीजद अध्यक्ष और मुख्यमंत्री नवीन पटनायक की अध्यक्षता में रविवार को नवीन निवास में हुई बैठक में यह फैसला किया गया।

बीजद के राज्यसभा सदस्य प्रताप देव ने कहा, दोनों सदनों में जो प्रमुख मुद्दा उठाया जाएगा, वह है ओडिशा के लिए विशेष राज्य के दर्जे की मांग। कुछ अन्य राज्यों के नेताओं द्वारा भी यह मांग उठाई जाएगी। इसलिए हम उनसे भी बात कर रहे हैं।

पार्टी संसद और राज्य विधानसभाओं में महिलाओं के लिए 33 प्रतिशत आरक्षण की मांग भी करेगी।

देब ने कहा, ओडिशा विधानसभा पहले ही संसद और विधानसभाओं में 33 प्रतिशत आरक्षण के लिए विधेयक पारित कर चुकी है। बीजद के वरिष्ठ नेता इस विधेयक को संसद में पारित कराने के लिए अन्य क्षेत्रीय और राष्ट्रीय दलों के नेताओं से भी मुलाकात करेंगे।

पार्टी ने चक्रवाती तूफान तितली के कारण आई आपदा के लिए अबतक राहत सहायता राशि न मिलने का मुद्दा उठाने का फैसला भी किया है।

बीजद नेता ने कहा, ओडिशा को अबतक तूफान तितली के लिए सहायता राशि नहीं मिली है। केंद्र की एक टीम ने तूफान तितली से मची त्रासदी के बाद राज्य का दौरा किया था और आपदा से निपटने की तैयारियों को लेकर हमारी प्रशंसा की थी। हालांकि, अबतक ओडिशा को इसके लिए सहायता राशि नहीं मिली है। केंद्र राज्य की अवहेलना कर रही है।

--आईएएनएस

05:40 PM

कांग्रेस जांच एजेंसियों के अधिकारियों को धमका रही है : भाजपा

नई दिल्ली, 9 दिसम्बर (आईएएनएस)। कांग्रेस द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जांच एजेंसियों का दुरुपयोग करने का आरोप लगाए जाने के एक दिन बाद भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने पलटवार करते हुए कहा कि कांग्रेस जांच अधिकारियों को धमका रही है। पार्टी ने कहा कि भ्रष्ट लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी, चाहे वे किसी भी शक्तिशाली परिवार से ताल्लुक रखते हों।

यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए भाजपा नेता शहनवाज हुसैन ने कहा कि कांग्रेस जांच एजेंसियों की विश्वसनीयता पर सवाल उठा रही है और इनके अधिकारियों को धमका रही है क्योंकि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के जीजा रॉबर्ट वाड्रा के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है।

वाड्रा से संबंधित लोगों के परिसरों पर छापेमारी को लेकर मोदी सरकार पर कांग्रेस द्वारा किए गए हमले के बाद उनकी यह टिप्पणी आई है। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि विपक्षी नेताओं पर जांच एजेंसियों द्वारा की जा रही कार्रवाई प्रधानमंत्री के इशारे पर हो रही है।

हुसैन ने कहा, हमारी एजेंसियां नहीं देखतीं कि व्यक्ति कितना कद्दावर है या वह किस शक्तिशाली परिवार से ताल्लुक रखता है। शक्तिशाली परिवारों के लोग अक्सर यह सोचते हैं कि वे चाहे कुछ भी करें, उनके खिलाफ कार्रवाई नहीं होगी। लेकिन, सबूतों के आधार पर कार्रवाई होती है और आगे भी होगी।

उन्होंने कहा, जब से रॉबर्ट वाड्रा और उनकी कंपनी के खिलाफ कार्रवाई हुई है तब से कांग्रेस नेता सवाल उठा रहे हैं और जांच एजेंसियों व उनके अधिकारियों को यह कहकर धमका रहे हैं कि देश का मौसम बदल रहा है।

हुसैन ने कहा, उन्हें यह पता होना चाहिए कि हवा नहीं बदल रही है बल्कि देश बदल रहा है। अब इस देश में भ्रष्टाचारी के लिए कोई जगह नहीं है। अगर कोई भ्रष्टाचार में संलिप्त होगा तो उसके खिलाफ कार्रवाई होगी।

हुसैन ने कहा कि कांग्रेस पार्टी के पास कोई दलील नहीं बची है और वह अपनी विफलताओं को छिपाने के लिए भाजपा सरकार के खिलाफ आरोप लगा रही है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस कभी सत्ता में वापस नहीं लौटेगी।

उन्होंने कहा, वे (11 दिसंबर) नतीजों तक का इंतजार नहीं कर सकते और अधिकारियों को धमका रहे हैं। हम मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में जीतेंगे। हम जमीनी स्तर पर काम कर रहे हैं और स्पष्ट बहुमत के साथ सरकार बनाने को आश्वस्त हैं।

--आईएएनएस

05:10 PM

केरल : कन्नूर हवाईअड्डा उद्घाटित (लीड-1)

कन्नूर, 9 दिसम्बर (आईएएनएस)। केरल के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने रविवार को कन्नूर अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे का उद्घाटन किया। उन्होंने विश्वास जताया कि इससे राज्य का भाग्य बदल जाएगा, क्योंकि अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे से सभी कस्बों की दूरी केवल चार घंटे की है।

केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु के साथ सुबह 10 बजे हवाईअड्डे से पहली उड़ान को रवाना करने के बाद विजयन ने ट्वीट किया, कन्नूर ने उड़ान भर ली है।

एयर इंडिया एक्सप्रेस के विमान ने 180 यात्रियों के साथ अबू धाबी के लिए पहली उड़ान भरी। सभी यात्रियों को कन्नूर अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा लिमिटेड (केआईएएल) की ओर से एक-एक उपहार दिया गया।

यह राज्य का चौथा अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा है। तिरुवनंतपुरम, कोच्चि और कोझिकोड में भी अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे हैं।

फेसबुक पोस्ट में मुख्यमंत्री ने कहा, हवाईअड्डा उत्तरी केरल के भाग्य को बदल देगा। यह 2,300 एकड़ में फैला हुआ है और इसके रनवे की लंबाई 3,050 मीटर है, जिसे 4,000 मीटर तक बढ़ाया जाएगा।

उन्होंने कहा, समावेशी विकास के लिए कनेक्टिविटी और गतिशीलता महत्वपूर्ण है। केरल ने मानवीय विकास में सराहनीय प्रगति की वजह से इस पर ध्यान केंद्रित किया है।

विजयन ने कहा कि कन्नूर हवाईअड्डे के उद्घाटन के साथ केरल कनेक्टिविटी में नए मानक स्थापित कर रहा है। विजयन ने कहा, सभी जिला मुख्यालयों की दूरी अब अंतर्रष्ट्रीय हवाईअड्डे से तीन घंटा रह गई है। राज्य के लगभग सभी कस्बों की अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे से दूरी चार घंटों के भीतर पूरी हो जाएगी।

अबू धाबी के लिए उड़ान भरने से पहले एक सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन हुआ, जिसमें राजनेताओं समेत सैकड़ों लोगों ने भाग लिया।

यहां से आज के लिए दो और उड़ानें निर्धारित हैं।

यहां से संयुक्त अरब अमीरात, ओमान, कतर के अलावा हैदराबाद, बेंगलुरू और मुंबई के लिए भी घरेलू उड़ानें संचालित होंगी।

प्रभु ने केरल सरकार और केरल के लोगों को बधाई देते हुए ट्वीट किया, यह हवाईअड्डा एक तरह से केरल के भविष्य की प्रगति का प्रवेश द्वार है। उनका सपना हकीकत में बदल रहा है।

--आईएएनएस

04:15 PM

विपक्ष की बैठक से पहले सोनिया, राहुल से मिले स्टालिन

नई दिल्ली, 9 दिसम्बर (आईएएनएस)। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) विरोधी मोर्चा बनाने के मकसद से विपक्षी दलों की सोमवार को प्रस्तावित एक महत्वपूर्ण बैठक से पहले द्रमुक अध्यक्ष एम.के. स्टालिन ने रविवार को संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की और विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की।

ट्विटर पर स्टालिन के दौरे के बारे में सूचित करते हुए राहुल गांधी ने कहा, हमारी बैठक सौहार्द्रपूर्ण रही और हमने विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की।

उन्होंने कहा, मैं अपना संवाद जारी रखने और हमारे गठबंधन को मजबूत बनाने की ओर अग्रसर हूं। हमारा गठबंधन समय की परीक्षा से गुजर रहा है।

स्टालिन ने पूर्व केंद्रीय मंत्री डी. राजा और कनिमोझी के साथ सोनिया गांधी से उनके 72वें जन्मदिन पर मुलाकात की।

राष्ट्रीय राजधानी में 10 दिसंबर को होने वाली बैठक आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री व तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) के अध्यक्ष एन. चंद्रबाबू नायडू ने बुलाई है, जिसका मकसद 2019 लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को हराने के लिए एक संभावित मोर्चा पर विचारमंथन करना है।

--आईएएनएस

04:10 PM
 बेंगलुरू से फुकेट, माले के लिए गोएयर की उड़ानें शुरू

बेंगलुरू से फुकेट, माले के लिए गोएयर की उड़ानें शुरू

बेंगलुरू, 9 दिसम्बर (आईएएनएस)। सस्ती विमानन सेवा मुहैया कराने वाली कंपनी, गोएयर ने रविवार को पहली बार बेंगलुरू से थाईलैंड के फुकेट और मालदीव के माले के लिए उड़ानें शुरू की।

कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी, कॉर्नेलिस व्रिस्वजिक ने यहां एक बयान में कहा, बेंगलुरू हमारे लिए एक प्रमुख बाजार है और मुंबई व नई दिल्ली के बाद यह तीसरा अंतर्राष्ट्रीय संचालन है।

मुंबई स्थित गोएयर ने 11 अक्टूबर को नई दिल्ली और मुंबई से फुकेट के लिए अपनी विदेशी उड़ान शुरू की थी। विमानन कंपनी की नई दिल्ली और मुंबई से माले के लिए भी उड़ानें हैं।

कंपनी ने बेंगलुरू से फुकेट के लिए सप्ताह में तीन सीधी उड़ानें (सोमवार, गुरुवार और रविवार) घोषित की और बेंगलुरू से माले के लिए सप्ताह में दो सीधी उड़ानें (बुधवार और रविवार) घोषित की।

फुकेट और माले से बेंगलुरू के लिए वापसी की उड़ानें भी उसी दिन होंगी।

कंपनी अपने अंतर्राष्ट्रीय मार्गो पर एयरबस ए320 नियो विमान का इस्तेमाल करेगी।

--आईएएनएस

08:50 PM
Stock Exchange
Live Cricket Score

Create Account



Log In Your Account