• Last Updates : 03:35 PM

आंध्र प्रदेश : नक्सलियों ने विधायक, पूर्व विधायक की हत्या की (लीड-1)

विशाखापत्तनम, 23 सितंबर (आईएएनएस)। आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम जिले में सत्तारूढ़ तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) के विधायक के. सर्वेश्वर राव और पूर्व विधायक सिवेरी सोमा की नक्सलियों ने गोली मारकर हत्या कर दी।

यह घटना विशाखापत्तनम से लगभग 125 किलोमीटर दूर थुटांगी गांव में हुई।

राव अराकू विधानसभा क्षेत्र से विधायक थे।

नक्सलियों ने विधायक राव व पूर्व विधायक सोमा पर तब हमला किया, जब वह अराकू में एक कार्यक्रम में शिरकत कर रहे थे।

दोनों को प्वाइंट ब्लैंक रेंज से गोली मारी गई। हमले में कथित रूप से बड़ी संख्या में नक्सली शामिल थे।

राव ने 2014 में वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के टिकट से अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित अराकू विधानसभा क्षेत्र की सीट से तेदेपा के सोमा को हराया था।

राव 2016 में तेदेपा में शामिल हो गए थे।

पुलिस के अनुसार, राव और सोमा दोनों को नक्सलियों की तरफ से पहले भी धमकियां मिली थी।

--आईएएनएस

03:35 PM

आंध्र प्रदेश : नक्सलियों ने विधायक की गोली मारकर हत्या की

विशाखापत्तनम, 23 सितंबर (आईएएनएस)। आंध्रप्रदेश के विशाखापत्तनम जिले में सत्तारूढ़ तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) के विधायक के. सर्वेश्वर राव की नक्सलियों ने गोली मार कर हत्या कर दी।

यह घटना विशाखापत्तनम से लगभग 125 किलोमीटर दूर थुटांगी गांव में हुई।

राव अराकू विधानसभा क्षेत्र से विधायक थे।

नक्सलियों ने विधायक पर तब हमला किया, जब वह तेदेपा नेता और पूर्व विधायक एस.सोमा के साथ अपने विधानसभा क्षेत्र में एक कार्यक्रम में शिरकत कर रहे थे।

--आईएएनएस

02:48 PM

भारत की हठी, नकारात्मक प्रतिक्रिया निराशाजनक : इमरान

इस्लामाबाद, 22 सितम्बर (आईएएनएस)। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत और पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों के बीच वार्ता रद्द होने पर शनिवार को निराशा जाहिर की और भारत की प्रतिक्रिया को हठी नकारात्मक करार दिया।

इस्लामाबाद पर आतंकवाद का महिमामंडन करने का दोषारोपण करते हुए नई दिल्ली द्वारा दोनों देशों के विदेश मंत्रियों की वार्ता रद्द कर दी गई।

इमरान ने ट्वीट किया, शांति वार्ता बहाली के लिए मेरी अपील पर भारत की हठी व नकारात्मक प्रतिक्रिया से निराशा हुई।

उन्होंने कहा, हालांकि मैंने अपनी पूरी जिंदगी में यह पाया है कि बड़े पदों को धारण करने वाले छोटे लोगों में व्यापक परिदृश्य को देखने की दूरदर्शिता नहीं होती है।

संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक के मौके पर अगले सप्ताह न्यूयॉर्क में भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और उनके पाकिस्तानी समकक्ष शाह महमूद कुरैशी के बीच वार्ता होने वाली थी।

भारत सरकार ने शुक्रवार को कहा कि इसने दो अत्यंत निराशाजनक घटनाक्रमों के बाद पाकिस्तान के साथ वार्ता रद्द कर दी है। इन घटनाक्रमों से इस्लामाबाद के बुरे एजेंडे की पोल खुल गई है।

पहली घटना में जम्मू-कश्मीर में तीन पुलिसकर्मियों को अगवा कर उनकी हत्या कर दी गई, जो प्रदेश में आतंकी गतिविधियों में बढ़ावा का द्योतक है। भारत इसके पीछे पाकिस्तान का हाथ बताता है।

वहीं, भारतीय सुरक्षा बलों द्वारा जुलाई 2016 में मार गिराए गए हिजबुल मुजाहिदीन नेता बुरहान वानी की याद में इस्लामाबाद ने डाक टिकट जारी किया है।

कुरैशी ने वार्ता रद्द होने को दुर्भाग्यपूर्ण बताया और कहा कि नई दिल्ली ने आंतरिक दबाव में यह फैसला किया।

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, सार्वजनिक तौर पर पुष्टि के 24 घंटे के भीतर भारत की ओर से विदेश मंत्रियों की बैठक रद्द करने के फैसले के लिए बताए गए कारण बिल्कुल अविश्वसनीय हैं।

--आईएएनएस

05:41 PM

जम्मू एवं कश्मीर : पुलवामा में बड़े पैमाने पर तलाशी अभियान शुरू

श्रीनगर, 22 सितंबर (आईएएनएस)। जम्मू एवं कश्मीर के पुलवामा जिले के एक दर्जन से अधिक गांवों में सुरक्षाबलों ने शनिवार को व्यापक पैमाने पर तलाशी अभियान शुरू कर दिया।

राष्ट्रीय राइफल्स, सेना के पैरा कमांडोज, राज्य पुलिस और केंद्रीय रिजर्व पुलिसबल के जवानों ने अलाईपोरा, अचान, हजदरपोरा, बटनूर, लस्सीपोरा और अन्य गांवों को चारों ओर से घेर लिया और घर-घर जाकर तलाशी करनी शुरू की।

इससे पहले शुक्रवार को शोपियां जिले में आतंकवादियों ने तीन पुलिसकर्मियों को अगवा कर उनकी हत्या कर दी थी।

--आईएएनएस

11:19 AM

सत्ता में बने रहने का हक खो चुकी है मोदी सरकार : कांग्रेस

नई दिल्ली, 21 सितम्बर (आईएएनएस)। कांग्रेस ने शुक्रवार को जम्मू एवं कश्मीर के हालात और पाकिस्तान के साथ संबंधों को खराब तरीके से संभालने का आरोप लगाते हुए कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार सत्ता में बने रहने का अधिकार खो चुकी है।

कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने यहां कहा, पाकिस्तान नीति एक विरोधाभास है क्योंकि कोई पाकिस्तान नीति है ही नहीं। हमारे पास जो है वह अभी तत्काल के मूड के हिसाब से तय होने वाली क्षणिक, बिना सोची-समझी प्रतिक्रिया है।

कांग्रेस ने यह बयान गुरुवार को विदेश मंत्रालय द्वारा इस बात की पुष्टि किए जाने के बाद दिया कि संयुक्त राष्ट्र की सालाना महासभा से इतर भारत और पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों की मुलाकात होगी।

लेकिन, शुक्रवार को भारत सरकार ने इस वार्ता को रद्द करने का ऐलान किया। विदेश मंत्रालय ने कहा कि सीमा पर एक जवान की हत्या और आतंकवादियों का महिमामंडन करने वाला डाक टिकट जारी कर पाकिस्तान ने साफ कर दिया है कि वह सुधरने वाला नहीं है।

सिंघवी ने कश्मीर में बीते चौबीस घंटे में स्पेशल पुलिस अधिकारियों (एसपीओ) की हत्या पर सरकार की चुप्पी पर सवाल उठाया।

उन्होंने कहा, हमारे पास पूरी चुप्पी है या खोखले शब्द हैं। देश जानना चाहता है कि राष्ट्र के मुकुट (जम्मू एवं कश्मीर) को लेकर प्रधानमंत्री और सत्तारूढ़ पार्टी क्या कर रही है। इसकी नाक के नीचे जो हो रहा है, वह भयावह है।

--आईएएनएस

07:26 PM

भारत ने पाकिस्तान के साथ वार्ता रद्द की (लीड-1)

नई दिल्ली, 21 सितम्बर (आईएएनएस)। जम्मू एवं कश्मीर में सुरक्षाकर्मियों की हत्या करने और आतंकवाद का महिमामंडन करने का आरोप लगाते हुए, भारत ने पाकिस्तान के विदेशमंत्री के साथ भारतीय विदेशमंत्री की प्रस्तावित वार्ता शुक्रवार को रद्द कर दी।

भारत ने कहा है कि इस्लामाबाद के शैतानी एजेंडे (इविल एजेंडा) का पर्दाफाश हो गया है।

विदेशमंत्री सुषमा स्वराज न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा से इतर पाकिस्तान के विदेशमंत्री शाह महमूद कुरैशी से मुलाकात करने वाली थीं।

भारत सरकार ने अपने कड़े बयान में कहा कि गुरुवार को वार्ता के संबंध में घोषणा होने के बाद, काफी निराश करने वाले दो ताजा मामले सामने आए।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, पाकिस्तान स्थित संगठनों द्वारा जम्मू एवं कश्मीर में हमारे सुरक्षाकर्मियों की हाल में की गई जघन्य हत्या और पाकिस्तान की ओर से आतंक और आतंकवादियों का महिमामंडित करने वाली 20 डाक टिकट जारी करने का निर्णय दिखाता है कि वह अपना रास्ता कभी नहीं बदलेगा।

बयान के अनुसार, यह अब स्पष्ट है कि नई शुरुआत के लिए वार्ता का प्रस्ताव देने के पीछे पाकिस्तान के शैतानी एजेंडे का पर्दाफाश हो गया और पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री इमरान खान का असली चेहरा दुनिया के सामने आ गया है।

बयान के अनुसार, ऐसे माहौल में पाकिस्तान के साथ किसी भी तरह की वार्ता का कोई मतलब नहीं है।

बयान के अनुसार, बदले हुए परिदृश्य में, न्यूयॉर्क में भारत और पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों के बीच मुलाकात नहीं होगी।

पाकिस्तान ने हिजबुल मुजाहिदीन के नेता बुरहान वानी की याद में एक डाक टिकट जारी किया है। बुरहान वानी को जुलाई 2016 में भारतीय सुरक्षा बलों ने मार गिराया था, जिसके बाद घाटी में लंबे समय तक प्रदर्शन हुए थे।

यह घोषणा ऐसे समय में हुई है, जब आतंकवादियों ने जम्मू एवं कश्मीर में तीन पुलिसकर्मियों को अगवा किया और बाद में उनकी हत्या कर दी।

विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को कहा था कि भारत ने सुषमा स्वराज और कुरैशी के बीच मुलाकात के पाकिस्तान के प्रस्ताव को मान लिया है। इस घोषणा के 24 घंटे के अंदर ही भारत ने पाकिस्तान के साथ वार्ता रद्द कर दी।

भारत ने कहा था कि वह पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री इमरान खान व कुरैशी द्वारा लिखित पत्र की भावना के जवाब में न्यूयॉर्क बैठक के लिए सहमत हुआ है।

--आईएएनएस

07:15 PM

भारत ने पाकिस्तान के साथ वार्ता रद्द की

नई दिल्ली, 21 सितम्बर (आईएएनएस)। भारत ने शुक्रवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा से इतर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के बीच होने वाली वार्ता रद्द कर दी है।

भारत ने कहा है कि इस्लामाबाद के शैतानी एजेंडे (इविल एजेंडा) का पर्दाफाश हो गया है।

एक कड़े बयान में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि जम्मू एवं कश्मीर में भारतीय जवान की हाल में हुई जघन्य हत्या और पाकिस्तान की ओर से आतंकवाद का महिमामंडन करने का निर्णय दिखाता है कि वह अपना रास्ता कभी नहीं बदलेगा।

बयान के अनुसार, यह अब स्पष्ट है कि नई शुरुआत के लिए वार्ता का प्रस्ताव देने के पीछे पाकिस्तान के शैतानी एजेंडे का पर्दाफाश हो गया और पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री इमरान खान का असली चेहरा दुनिया के सामने आ गया है।

बयान के अनुसार, ऐसे माहौल में पाकिस्तान के साथ किसी भी तरह की वार्ता का कोई मतलब नहीं है।

बयान के अनुसार, बदले हुए परिदृश्य में, न्यूयार्क में भारत और पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों के बीच मुलाकात नहीं होगी।

--आईएएनएस

06:30 PM

कश्मीर : 3 पुलिसकर्मियों की हत्या बाद 5 पुलिसकर्मियों ने नौकरी छोड़ी (लीड-3)

श्रीनगर, 21 सितंबर (आईएएनएस)। जम्मू एवं कश्मीर के शोपियां जिले में शुक्रवार को आतंकवादियों ने तीन पुलिसकर्मियों के अपहरण और उनकी हत्या से पुलिस बल सकते में है। वहीं, हिजबुल मुजाहिदीन की जान से मारने की धमकियों के डर के कारण पांच पुलिसकर्मियों ने इस्तीफा दे दिया है।

जम्मू एवं कश्मीर के शोपियां जिले में आतंकवादियों ने तीन पुलिसकर्मियों का अपहरण कर लिया और इसके कुछ ही घंटों बाद गोली मारकर तीनों की हत्या कर दी।

पुलिस के एक अधिकारी ने आईएएनएस से कहा कि एक गांव से सुबह गोलियों से छलनी तीनों शव बरामद किए गए। अपराधियों की तलाश की जा रही है।

मारे गए पुलिसकर्मियों की पहचान फिरदौस अहमद कुचई, निसार अहमद धाबी और कुलदीप सिंह के रूप में की गई है।

एसपीओ पुलिस बल की सबसे निचली श्रेणी है।

इस हादसे से पहले आतंकवादियों ने कुछ मस्जिदों से घोषणा कर पुलिसकर्मियों से अपनी नौकरी छोड़ने या परिणाम भुगतने की धमकी दी थी।

पुलिस ने कहा कि एक पुलिसकर्मी के भाई सहित चार लोगों को गुरुवार रात शोपियां स्थित उनके घरों से अगवा किया गया था।

चारों को कापरान और बाटगुंड गांवों से अगवा किया गया था। दोनों गांव सेब के घने बगीचे से चारों ओर से घिरे हुए हैं।

अपहृत चौथा व्यक्ति नागरिक था और स्थानीय लोगों के विरोध के बाद आतंकियों ने उसे सुरक्षित छोड़ दिया था।

स्थानीय समाचार एजेंसियों के अनुसार, हिजबुल ने अपहरण और हत्या की इस घटना की जिम्मेदारी ली है।

पुलिस ने उन अफवाहों को खाजिर कर दिया, जिसमें कहा जा रहा था कि मृतक पुलिसकर्मियों के शवों के साथ दरिंदगी की गई थी।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, गोलियों से छलनी पुलिसकर्मियों के शव कापरान गांव से बरामद हुए। शवों के साथ दरिंदगी नहीं की गई थी।

जम्मू एवं कश्मीर पुलिस ने मृतकों को पुष्पांजलि अर्पित की।

कश्मीर जोन के पुलिस महानिरीक्षक एस.पी. पाणि के नेतृत्व में वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने शोपियां पुलिस लाइन में मृतकों को श्रद्धांजलि अर्पित की।

पुलिस ने ट्वीट किया, हमने इस निर्मम आतंकी घटना में अपने तीन बहादुर साथियों को खो दिया है। तीनों जवानों को श्रद्धांजलि। हम इस अमानवीय कृत्य की निंदा करते हैं और साथ ही आश्वस्त करते हैं कि दोषियों को सजा दिलाई जाएगी।

पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने घटना पर दुख जताते हुए कहा कि वार्ता ही कश्मीर में जारी हिंसा के दुष्चक्र का समाधान हो सकता है।

महबूबा ने ट्वीट किया, तीन और पुलिसकर्मियों ने आतंकवादियों की गोलियां खाकर अपनी जान गंवा दी। हमेशा की तरह गुस्सा, दुख और निंदा जैसे शब्द सुनने को मिलेंगे, लेकिन दुर्भाग्य से इससे मृतकों के परिवारों को सांत्वना नहीं मिलेगी।

उन्होंने कहा, स्पष्ट रूप से पुलिसकर्मियों और उनके परिवारों के अपहरण की घटनाओं में वृद्धि के साथ केंद्र सरकार की नीति बिल्कुल काम नहीं कर रही है। संवाद अब एकमात्र रास्ता प्रतीत होता है।

प्रति माह मात्र 6,000 रुपये के पारिश्रमिक पर एसपीओ राज्य में आतंकवाद-रोधी अभियानों में लगे हुए हैं। राज्य में लगभग 36,000 एसपीओ हैं। उन्हें वर्दी दी जाती है, लेकिन अन्य पुलिसकर्मियों की तरह उन्हें हथियार नहीं दिए जाते।

आतंकवादी लगातार एसपीओ को अपनी नौकरी छोड़ने या खामियाजा भुगतने की धमकी देते रहे हैं।

शुक्रवार की घटना दक्षिण कश्मीर में पुलिसकर्मियों व सुरक्षा बलों पर हमले और अपहरण का ताजा मामला है।

--आईएएनएस

05:50 PM

कश्मीर : आतंकियों ने अपहृत 3 पुलिसकर्मियों की हत्या की (लीड-2)

श्रीनगर, 21 सितंबर (आईएएनएस)। जम्मू एवं कश्मीर के शोपियां जिले में शुक्रवार को आतंकवादियों ने तीन पुलिसकर्मियों का अपहरण कर लिया और इसके कुछ ही घंटों बाद गोली मारकर तीनों की हत्या कर दी।

पुलिस के एक अधिकारी ने आईएएनएस से कहा, एक गांव से सुबह गोलियों से छलनी तीन शव बरामद किए गए।

मारे गए पुलिसकर्मियों की पहचान फिरदौस अहमद कुचई, निसार अहमद धाबी और कुलदीप सिंह के रूप में की गई है।

इस हादसे से पहले आतंकवादियों ने कुछ मस्जिदों से घोषणा कर पुलिसकर्मियों से अपनी नौकरी छोड़ने या परिणाम भुगतने की धमकी दी थी।

पुलिस ने कहा कि एक पुलिसकर्मी के भाई सहित चार लोगों को गुरुवार रात शोपियां स्थित उनके घरों से अगवा किया गया था।

चारों को कापरान और बाटगुंड गांवों से अगवा किया गया था। दोनों गांव सेब के घने बगीचे से चारों ओर से घिरे हुए हैं।

अपहृत चौथा व्यक्ति नागरिक था और आतंकियों ने उसे सुरक्षित छोड़ दिया था।

जम्मू एवं कश्मीर पुलिस ने ट्वीट किया, हमने इस निर्मम आतंकवादी घटना में अपने तीन बहादुर साथियों को खो दिया है। तीनों जवानों को श्रद्धांजलि। हम इस अमानवीय कृत्य की निंदा करते हैं और साथ ही आश्वस्त करते हैं कि दोषियों को सजा दिलाई जाएगी।

हत्या में शामिल आतंकवादियों को पकड़ने के लिए शोपियां में खोज अभियान चलाया जा रहा है।

पुलिस सूत्रों के अनुसार, मृतक विशेष पुलिस अधिकारी (एसपीओ) थे।

आतंकवादी लगातार एसपीओ को अपनी नौकरी छोड़ने या खामियाजा भुगतने की धमकी देते रहे हैं।

पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने घटना पर दुख जताते हुए कहा कि वार्ता ही कश्मीर में जारी हिंसा के दुष्चक्र का समाधान हो सकता है।

महबूबा ने ट्वीट किया, तीन और पुलिसकर्मियों ने आतंकवादियों की गोलियां खाकर अपनी जान गंवा दी। हमेशा की तरह गुस्सा, दुख और निंदा जैसे शब्द सुनने को मिलेंगे, लेकिन दुर्भाग्य से इससे मृतकों के परिवारों को सांत्वना नहीं मिलेगी।

उन्होंने कहा, स्पष्ट रूप से पुलिसकर्मियों और उनके परिवारों के अपहरण की घटनाओं में वृद्धि के साथ केंद्र सरकार की नीति बिल्कुल काम नहीं कर रही है। संवाद अब एकमात्र रास्ता प्रतीत होता है।

शुक्रवार की घटना दक्षिण कश्मीर में पुलिसकर्मियों व सुरक्षा बलों पर हमले और अपहरण का ताजा मामला है।

--आईएएनएस

02:28 PM

जम्मू एवं कश्मीर : आतंकवादियों ने अपहृत 3 पुलिसकर्मियों की हत्या की (लीड-1)

श्रीनगर, 21 सितंबर (आईएएनएस)। जम्मू एवं कश्मीर के शोपियां जिले में शुक्रवार को आतंकवादियों ने अपहृत 3 पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी।

पुलिस सूत्रों ने कहा, कापरान गांव से सुबह गोलियों से छलनी तीन शव बरामद किए गए। मारे गए पुलिसकर्मियों की पहचान फिरदौस अहमद कुचीई, निसार अहमद दोबी और कुलदीप के रूप में की गई है।

रिपोर्टो के अनुसार, जिस नागरिक को अगवा किया गया था, उसे सुरक्षित छोड़ दिया गया।

कापरान और बाटगुंड गांवों से गुरुवार रात को इन चारों को अगवा किया गया था।

पुलिस सूत्रों के अनुसार, मृतक विशेष पुलिस अधिकारी (एसपीओ) थे।

आतंकवादी लगातार एसपीओ को अपनी नौकरी छोड़ने या खामियाजा भुगतने की धमकी देते रहे हैं।

--आईएएनएस

11:05 AM
 इन्फोसिस डिजाइन करेगी जीएसटी रिटर्न का नया फॉर्म

इन्फोसिस डिजाइन करेगी जीएसटी रिटर्न का नया फॉर्म

बेंगलुरु, 22 सितम्बर (आईएएनएस)। वस्तु एवं सेवा कर नेटवर्क (जीएसटीएन) के तकनीकी मामलों की समीक्षा के लिए गठित मंत्री समूह के प्रमुख सुशील कुमार मोदी ने शनिवार को कहा कि जीएसटी ने अपने सॉफ्टवेयर वेंडर (प्रदाता) इन्फोसिस को व्यापारियों द्वारा रिटर्न दाखिल करने के लिए नया फॉर्म डिजाइन करने का निर्देश दिया है।

नेटवर्क की कार्यप्रणाली की समीक्षा के लिए हुई मंत्रिसमूह की 10वीं बैठक के बाद सुशील कुमार मोदी ने यहां संवाददाताओं को बताया, हमने जीएसटी परिषद के सुझाव के अनुसार नेटवर्क पर व्यापारियों द्वारा रिटर्न दाखिल करने को सरल बनाने के लिए इन्फोसिस को नया फॉर्म डिजाइन करने का निर्देश दिया है।

बिहार के उपमुख्यमंत्री और मंत्रिसमूह के प्रमुख मोदी ने कहा, हमने अगले चार से छह महीने में नया सरलीकृत जीएसटी फार्म लागू करने की योजना बनाई है जिससे डीलर या व्यापारी को नेटवर्क के माध्यम से अप्रत्यक्ष कर का भुगतान करने में लाभ मिलेगा।

मंत्रिसमूह ने छोटे करदाताओं के लिए यूनीफॉर्म अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर विकसित करने के लिए देशभर से 18 कंपनियों को चिन्हित किया।

मोदी ने कहा, जीएसटी रिटर्न दाखिल करने में समानता सुनिश्चित करने के लिए सभी छोटे व्यापारियों को नया सॉफ्टवेयर प्रदान किया जाएगा।

जीएसटी परिषद ने जैसाकि फैसला लिया है कि ई-कॉमर्स कंपनियां एक अक्टूबर से प्रभावी स्रोत पर कर कटौती (टीडीएस) और स्रोत पर संग्रहित कर (टीसीएस) का भुगतान करेंगी।

केंद्र सरकार ने 13 सितंबर को केंद्रीय जीएसटी (सीजीएसटी) अधिनियम की धारा 52 के तहत टीडीएस और टीसीएस के प्रावधानों को लागू करने के लिए एक अक्टूबर की तारीख अधिसूचित की थी।

ई-कॉमर्स कंपनियों को 2.5 लाख रुपये से अधिक की अंतर्राज्यीय आपूर्ति पर एक फीसदी तक राज्य जीएसटी और एक फीसदी केंद्रीय जीएसटी के लिए टीडीएस कटौती करनी है।

वहीं, 2.5 लाख रुपये से अधिक की अंतर्राज्यीय आपूर्ति पर दो फीसदी समेकित जीएसटी की कटौती की जाएगी।

--आईएएनएस

10:55 PM
Stock Exchange
Live Cricket Score

Create Account



Log In Your Account